उफ्फ!!! यूपी में इसलिए भी दे दिया जाता है अमिताभ ठाकुर को कारण बताओ नोटिस

उत्तर प्रदेश सरकार ने आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर को एक और कारण बताओ नोटिस भेजा है. यह नोटिस 13 जुलाई 2015 को उनके निलंबित होने के बाद जनता के लोगों द्वारा भेजे गए प्रत्यावेदनों के सम्बन्ध में है. नोटिस में 13 से 21 जुलाई 2015 बीच प्रधानमंत्री और गृह मंत्री, भारत सरकार को आये 09 प्रत्यावेदनों का उल्लेख किया गया है जिनमे अमिताभ के निलंबन के बाद लोगों द्वारा अपना आक्रोश व्यक्त करते हुए उनकी सुरक्षा और न्याय की मांग की थी.

इनमें 02 प्रत्यावेदन यूएसए, 02 कर्नाटक और बाकी अन्य राज्य के लोगों के थे. इनमें मुख्य रूप से यह कहा गया था कि अमिताभ और उनका परिवार सत्तारूढ़ पार्टी के प्रधान से भयभीत है, उनके उत्पीड़न को रोका जाये और उनके प्राणों की रक्षा की जाये. भारत सरकार ने ये प्रत्यावेदन राज्य सरकार को अगस्त 2015 में भेजे थे जिनपर अब राज्य सरकार ने संज्ञान लेते हुए इसे अखिल भारतीय सेवा आचरण नियमावली के नियम 18 में बाहरी दवाब और पेशबंदी बताते हुए अमिताभ को आचरण नियमावली का उल्लंघन का दोषी मानते हुए उनसे स्पष्टीकरण माँगा गया है.

Notice issued on public uproar

The Uttar Pradesh Government has issued another show cause notice to IPS officer Amitabh Thakur. The notice is as regards the various representations sent by people after his suspension on 13 July 2015. The notice mentions 09 such representations received by the Prime Minister and the Union Home Minister office between 13 to 21 July 2015, where these people expressed their resentment to Amitabh’s suspension and sought justice and security for him. Of these 02 representations came from USA, 02 from Karnataka and the rest from other States.

They primarily said that Amitabh and his family are being terrorized by the Samajwadi Party Chief, hence their persecution must be stopped and their lives must be saved. The Central government sent these representations to the UP Government in August 2015. The State government has taken cognizance of now and has called it an illegal attempt by Amitabh to create external pressure on his service matter, calling it the violation of Rule 18 of the All India Services Conduct Rules and seeking his explanation within 15 days.

Attached- Copy of Show cause notice

भड़ास के माध्यम से अपने मीडिया ब्रांड को प्रमोट करें. वेबसाइट / एप्प लिंक सहित आल पेज विज्ञापन अब मात्र दस हजार रुपये में, पूरे महीने भर के लिए. संपर्क करें- Whatsapp 7678515849 >>>जैसे ये विज्ञापन देखें, नए लांच हुए अंग्रेजी अखबार Sprouts का... (Ad Size 456x78)

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें- Bhadas WhatsApp News Alert Service

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *