अर्नब चैट कांड पर खबर छापने-दिखाने में मीडिया को सांप सूंघा

Sanjaya Kumar Singh

अर्नब के चैट की खबर टाइम्स ऑफ इंडिया में पहले पन्ने पर नहीं है। टाइम्स ऑफ इंडिया में आज लीड है, जिस कानून पर संसद में बिन्दुवार चर्चा नहीं हुई उसपर बिन्दुवार बात करने की पेशकश।

Soumitra Roy-

अंग्रेजी अखबारों में सिर्फ इंडियन एक्सप्रेस और हिन्दू ने ही अर्नब गेट को कवर किया। बाकी गोबरपट्टी के हिंदी भांड मीडिया को मानों सांप सूंघ गया है।

Sneha Baba
Hence proved they all r godi media workers

Zeb Akhtar
सर, जनसत्ता (हालांकि इसे इंडियन एक्सप्रेस ही माना जायेगा), दैनिक भास्कर और बीबीसी हिंदी ने लिया है. आपके पोस्ट से पहले. ज्यादा चूतिये अंगरेजी के अखबार ही निकले इस मामले में. मैं ये कमेंट चेक करके लिख रहा हूं. स्क्राल इन ने (अंग्रेजी) आपके पोस्ट के तीन घंटे बाद पोस्ट किया है.

Soumitra Roy
भास्कर मक्कार अखबार है। नेशनल एडिशन की खबरें राज्यों में नहीं जातीं।

Anwar Hussain
हिंदी भाषी के दिमाग का गोबर खत्म ना हो इसीलिए हिंदी न्यूज़ चैनल और हिंदी पेपर कभी भी सच्चाई नहीं दिखाते और यहीं से सीटें जीतकर केंद्र में कुर्सी पाने का रास्ता भी जाता है..

संबंधित खबर-

अर्णब गोस्वामी के 500 पेज के ओरीजनल WhatsApp चैट करें डाउनलोड

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर सब्सक्राइब करें-
  • भड़ास तक अपनी बात पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *