इलाहाबाद विवि के बदमाश लौंडे : गेस्टहाउसों में घुस जबरन खाते हैं, छेड़छाड़ भी कर जाते हैं!

‘ऑपरेशन क्लीन अनवांटेड आउट’ में अवैध पिस्टल, बम और बम बनाने का सामान बरामद, ताराचंद हास्टल के लडकों ने किया विवाह समारोह में उपद्रव, तोड़फोड़ और छेड़खानी

जेपी सिंह

इलाहाबाद विश्वविद्यालय का डॉ ताराचंद हॉस्टल पढाई के लिए नहीं बल्कि अपराध, रंगदारी और गुंडागर्दी के लिए चर्चा का विषय बन गया है। कर्नलगंज में बैंक रोड स्थित एक गेस्ट हाउस में सोमवार रात एक विवाह समारोह में जबरन घुसकर खाने और महिलाओं से अभद्रता का आयोजकों द्वारा विरोध करने पर पूरब के आक्सफोर्ड कहे जानेवाले इलाहाबाद विश्वविध्यालय के ताराचंद हॉस्टल के छात्रों ने जमकर उपद्रव किया। छेड़खानी के विरोध में न सिर्फ गेस्ट हाउस के भीतर जमकर हंगामा किया बल्कि बाहर खड़ी बस समेत आधा दर्जन कारों में भी तोड़फोड़ की। बवाल की सूचना पर शहर भर के थानों की फोर्स पहुंच गई। इसके बाद ताराचंद हॉस्टल में घुसकर पुलिस ने एक दर्जन छात्रों को हिरासत में ले लिया। इस बीच पीसीबी हास्टल में हत्या हो गयी जिसका संज्ञान लेकर पुलिस ने बुधवार को ‘ऑपरेशन क्लीन अनवांटेड आउट’ चलाया तो दोनों हास्टलों में अवैध गतिविधियों का राजफाश हुआ। ताराचंद हॉस्टल से अवैध पिस्टल, बम और बम बनाने का सामान बरामद हुआ। पीसीबी हॉस्टल से शराब और बीयर की बोतलें भी मिलीं।

दरअसल इलाहाबाद विश्वविध्यालय के आसपास सात आठ किलोमीटर के दायरे में लगभग दो दर्जन छोटे-बड़े विवाह घर या मैरेज हाउसेस हैं। पूरे विवाह के मौसम में इन गेस्ट हाउसों में आयोजित समारोहों में ताराचंद हास्टल सहित अधिकांश हास्टलों के लडके जबरन घुस कर न केवल भोज खाते हैं बल्कि महिलाओं, लड़कियों से छेड़छाड़ भी करते हैं। विरोध करने पर मारपीट, तोड़फोड़, गाली गलौज,फायरिंग और बमबाजी आये दिन का शगल है।इनका मनोबल इतना बढ़ा हुआ है कि ए परिसर के आसपास मुहल्लों के भीतर होने वाले विवाह समारोहों में भी घुसकर जबरन खाना खाते हैं। इस इलाके में इनका आतंक इतना अधिक है कि लोग विवाह समारोहों में 50-100 लोगों का खाना अधिक बनवाते हैं।

‘ऑपरेशन क्लीन अनवांटेड आउट’ में पुलिस ने जेल में बंद छात्रनेता माइकल के ड्राइवर निर्भय सिंह समेत दो को गिरफ्तार किया और कई वाहनों को सीज भी किया । पुलिस, पैरामिलिट्री फोर्स और इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन की संयुक्त कार्रवाई से छात्रों में खलबली मची रही।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पीसीबी हॉस्टल में रविवार रात पूर्व छात्र रोहित शुक्ला को गोलियों से भून डाला गया था। सनसनीखेज वारदात से पुलिस और इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कार्यशैली पर सवाल उठे थे। हाईकोर्ट ने घटना को संज्ञान लेते हुए सख्त रुख अपनाया तो अधिकारियों ने आनन-फानन में कार्रवाई की योजना बनाई। इसी के तहत बुधवार को एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव, एसपी क्राइम आशुतोष मिश्रा और कर्नलगंज सीओ श्रीशचंद्र की अगुवाई में ‘ऑपरेशन क्लीन अनवांटेड आउट’ हुआ। विश्वविद्यालय के अधिकारियों के साथ एक-एक कमरे की तलाशी और सत्यापन शुरू हुआ तो तमाम अवैध अंत:वासी कमरे छोड़कर भाग निकले। ताराचंद हॉस्टल के बाथरूम में छिपाकर रखी गई पिस्टल, बम और बम बनाने का सामान बरामद किया गया।

ताराचंद हॉस्टल से माइकल के ड्राइवर निर्भय और गेस्ट हाउस कांड के आरोपित सत्यम सिंह को पकड़ लिया गया। कई अन्य छात्रों को भी पूछताछ के लिए थाने लाया गया। यहां कार्रवाई करने के बाद पुलिस पीसीबी हॉस्टल पहुंची। यहां पुरानी बिल्डिंग में सीढ़ी के नीचे बने स्टोर में शराब और बीयर की ढेर सारी खाली बोतल व केन बरामद हुई। इस हॉस्टल में दोपहर डेढ़ बजे से शाम साढ़े चार बजे तक छापेमारी होती रही।

अभियान में रोहित हत्याकांड के आरोपित अभिषेक यादव की कार सीज की गई। माइकल की सफारी कार के साथ तीन अन्य चार पहिया वाहन सीज हुए। दोनों हॉस्टलों से कुल 30 बाइक उठाकर थाने लाया गया, जांच चल रही। बिना अनुमति के कमरों में रखे हुए 135 कूलर और हीटर जब्त किए गए। पीसीबी और ताराचंद में करीब 75 कमरों को सील किया गया है।

बैंक रोड पर राजर्षि टंडन सेवा केंद्र के नाम से गेस्ट हाउस है। सोमवार को यहां एक शादी समारोह आयोजित था। जयमाल का कार्यक्रम चल रहा था कि रात 11 बजे के करीब यहां पास ही स्थित ताराचंद हॉस्टल के कुछ छात्र खाना खाने पहुंच गए। मेहमानों का आरोप है कि खाना खाने तक तो ठीक था लेकिन छात्रों ने समारोह में शामिल युवतियों से छेड़खानी शुरू कर दी। जिसका विरोध किया गया तो वह गालीगलौच पर उतारू हो गए।विरोध पर उस वक्त तो वहां से चले गए लेकिन कुछ देर बाद 50-60 साथियों के साथ वापस आए और उपद्रव शुरू कर दिया। पंडाल में रखी कुर्सियां उठा-उठाकर फेंकने लगे और अन्य सामान भी उलट-पलट दिया। खाना भी फेंक दिया, साथ ही खानसामों से मारपीट की। इसके बाद बाहर आकर रोड पर खड़ी मेहमानों की गाड़ियों में तोड़फोड़ शुरू कर दी। इस दौरान ईट-पत्थर बरसाकर बारातियों की बस के साथ ही करीब आधा दर्जन कारों को क्षतिग्रस्त कर दिया। इससे पहले गेस्ट हाउस के भीतर खड़ी दूल्हे की कार भी क्षतिग्रस्त कर दी। छात्रों का तांडव देख मेहमानों में दहशत फैल गई।

इस दौरान महिलाएं व बच्चे चीखने लगीं। सूचना मिली तो कर्नलगंज पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन तब तक उपद्रवी भाग निकले। जानकारी दी गई तो करेली, कोतवाली, जार्जटाउन, दारागंज, धूमनगंज, खुल्दाबाद, अतरसुइया समेत दर्जन भर थानों की फोर्स बुला ली गई। इसके बाद एसपी सिटी बृजेश कुमार श्रीवास्तव ने रात में ही फोर्स लेकर तारांचद हॉस्टल में छापेमारी शुरू की। इस दौरान करीब एक दर्जन संदिग्धों को हिरासत में ले लिया गया। पुलिस ने कुछ संदिग्धों की जमकर पिटाई भी की।

भारत के इस खूनी एक्सप्रेसवे पर देखें एक किस्मत कनेक्शन!

भारत के इस खूनी एक्सप्रेसवे पर देखें एक किस्मत कनेक्शन! आग, मौत, जिंदगी और पुलिसिंग की अदभुत दास्तान! (आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे को अब खूनी एक्सप्रेसवे के नाम से भी जाना जाता है. आए दिन गाड़ियां जल जाती हैं या फिर भिड़ जाती हैं और ढेरों लोग हताहत होते हैं. पर कभी कभी किस्मत कनेक्शन भी काम कर जाता है. इस बाइक सवार कपल और उसके बच्चे को देखिए. इसे किस्मत ही तो कहेंगे कि यमराज को भागना पड़ा. भगवान बने पुलिस वाले. चलती बाइक में लगी आग से डायल100 पीआरबी ने पति, पत्नी और बच्चे की कैसे बचाई जान, देखें Live)

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಬುಧವಾರ, ಏಪ್ರಿಲ್ 17, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *