बीएन तिवारी जेल गए तो लाइव टुडे चैनल से मीडियाकर्मियों को निकाला जाने लगा!

लखनऊ। लाइव टुडे चैनल के मालिक बीएन तिवारी के जेल जाने के बाद अब चैनल में कार्य करने वालों की मुश्किलें और बढ़ने लगी हैं। ताज़ा मामला यह है कि पिछले 4 महीने से बिना सैलरी मिले यहां के कर्मचारी पूरी शिद्दत से अपना काम कर रहे हैं। इसके बावजूद चैनल के मैनेजिंग एडिटर कुश तिवारी एक के बाद एक कई कर्मचारियों को निकालते जा रहे हैं, वो भी बिना वेतन दिए।

चैनल में पिछले 2 महीनों से करीब 20-25 कर्मचारी काम कर रहे हैं। बीते 10 दिनों में आउटपुट हेड जनार्दन, क्राइम रिपोर्टर शिवा शर्मा, आउटपुट पर कार्यरत रामकोमल पांडेय, मितेश सिंह, अमरजीत समेत कई कर्मचारियों को जबरन निकाल दिया गया जबकि अभी भी इनका 4 माह का वेतन बकाया है। अब कुश तिवारी के सबसे करीबी बनने वाले आउटपुट पर कार्यरत सत्यजीत सिंह को भी निकाल दिया गया है। चर्चा है कि आउटपुट से जल्द ही कई और लोगों को भी बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है। वर्तमान में इस चैनल में करीब 12-15 लोग ही बचे हैं।

कुश तिवारी पर भी ईओडब्लू की नज़र
बाइक बोट घोटाले में जेल गए मास्टरमाइंड बीएन तिवारी के बेटे और लाइव टुडे चैनल के एमडी कुश तिवारी पर जल्द ही ईओडब्लू का शिकंजा कसने वाला है। दरअसल 25 फरवरी को जब लखनऊ एसटीएफ की टीम ने बीएन तिवारी को गिरफ्तार किया और ईओडब्लू की मेरठ टीम को सौंपा था तो पूछताछ में बीएन तिवारी ने अपने दोनों बेटे लव और कुश के भी इस घोटाले में शामिल होने की बात कुबूल की थी। इसके चलते ही अब ईओडब्लू की टीम पूछताछ के लिए कुश तिवारी की सरगर्मी से तलाश कर रही है। जानकारी के मुताबिक पिता के जेल जाने के बाद कुश उनसे जेल में मिलने के लिए नोएडा गए थे लेकिन पिता के बयान की जानकारी होने पर वो गायब हो गए हैं।

एमपी-सीजी ब्यूरो चीफ को हटाया
बीते 2 दिनों में हुए बदलाव के बाद कुश तिवारी ने मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के ब्यूरो चीफ क्रमशः राजेन्द्र सिंह जादौन और अमर सदाना को हटाकर किसी पंकज शर्मा को दोनों स्टेट की जिम्मेदारी सौंप दी है और उनसे चैनल पर चलने वाले बुलेटिन के स्लॉट के हिसाब से कीमत तय की गई है।

इसे भी पढ़ें-

बाइक बोट घोटाले की जांच करने वाले EOW के अफसरों की जांच हो जाए तो नया घोटाला निकलेगा!



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code