बिजनेस अखबार फाइनेंसियल क्रॉनिकल के सभी पांचों एडिशन बन्द

डेक्कन क्रॉनिकल समूह ने अपने बिजनेस अखबार को न चलाने का फैसला लिया… डिजिटल जर्नलिज्म के बढ़ते दौर ने प्रिंट मीडिया को निगलना शुरू कर दिया है। एक बड़े अंग्रेजी अखबार घराने डेक्कन क्रॉनिकल ने अपने अंग्रेजी बिजनेस अखबार फाइनेंसियल क्रॉनिकल को पूरी तरह बन्द कर दिया है। इसके सभी पांचों एडिशन पर ताला लगा दिया गया है।

फाइनेंसियल क्रॉनिकल के मीडिया कर्मियों को छह महीने से सेलरी नहीं मिल रही थी। बिना सेलरी कर्मियों को घर चलाना मुश्किल हो रहा था। कभी भारी चहल पहल वाले न्यूज़ रूम में अब बस गिनती के एक दो पत्रकार बचे हैं।

उल्लेखनीय है कि फाइनेंसियल क्रॉनिकल का प्रकाशन दिल्ली के अलावा मुम्बई, चेन्नई, बेंगलुरु और हैदराबाद से होता था। इस अखबार के सभी प्रिंट एडिशन बन्द कर दिए गए हैं।

ज्ञात हो कि ज़ी ग्रुप के अंग्रेजी अखबार डीएनए का दिल्ली संस्करण भी आज से ही बन्द किया जा चुका है। डीएनए अखबार का दिल्ली में बस ब्यूरो रहेगा। प्रबंधन का फोकस डीएनए के मुम्बई संस्करण पर है।

आम आदमी की खास गायकी सुनेंगे तो दंग रह जाएंगे…

आम आदमी की खास गायकी सुनेंगे तो दंग रह जाएंगे… ये आम लोग हैं जो बड़े खास अंदाज़ में गुनगुनाते हैं, सुनेंगे तो सुनते रह जाएंगे… ये जनता है, गाती है तो दिल से… आप सुनिए भी दिल से.. सामान्य लोगों के भीतर गायकी के कुछ असामान्य कीड़े होते हैं जो गाहे बगाहे प्रकट हो जाते हैं… ऐसे ही कुछ आम लोगों की गायकी को इस वीडियो में संयोजित किया गया है. कोई पत्रकार है, कोई बिदेसिन है, कोई समाज सेवी है तो कोई एक्टिविस्ट है. इनमें गायकी की प्रतिभा जन्मना है, कोई ट्रेनिंग नहीं ली इनने. कोई अवधी गा रहा, कोई भोजपुरी गुनगुना रहा, कोई अंग्रेजन छठ का गीत गा रही, कोई पत्रकार क्लासिकल गुनगुना रहा… क्या ग़ज़ब टैलेंट है.. सुनिए और आनंद लीजिए…

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಗುರುವಾರ, ಜನವರಿ 31, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *