सलाम है इन्हें : लॉक डाउन में ‘राहत’ का राशन और ‘सुकून’ की दवा

लॉक डाउन में जहां पूरा देश एक तरह से थमा हुआ है वहीं ज़िला सहारनपुर के कुछ ज़िम्मेदार लोगों का जज़्बा पूर्णतय: गतिमान है। जज़्बा भी ऐसा कि इस त्रासदी में जितना भी हो सके ज़रूरतमंद लोगों के घर का चूल्हा ठंडा न होने पाए। यूपी के सहारनपुर में व्हाट्सएप पर बने एक ग्रुप ने अब तक न केवल हज़ारों ज़रूरतमंदों को राशन मुहैया कराया है बल्कि असहायों और बीमारों को विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श कर दवाएं भी उपलब्ध कराने का बीड़ा उठाया है। यह ग्रुप अभी तक पांच हज़ार परिवारों तक राशन पहुंचाने में कामयाब रहा है तो वहीं तीन सौ से ज़्यादा लोगों को विभिन्न बीमारियों की दवाइयां भी निशुल्क घर बैठे उपलब्ध करा चुका है।

ग्रुप में एक सौ से ज़्यादा सदस्य हैं जिनमें पत्रकार, बैंककर्मी, उद्यमी, चिकित्सक एवं व्यापारी वर्ग के साथ हर वर्ग के लोग शामिल हैं। खास बात यह है कि ज़्यादातर ग्रुप मेंबर्स स्वेच्छा से हर रोज़ अपने सामर्थ्य के अनुसार ज़रूरतमंदों के लिए आर्थिक सहयोग प्रदान करते हैं। मार्केट से राशन खरीद कर उसकी पैकिंग की जाती है और प्राथमिकता के आधार पर उसे प्रतिदिन 100-150 ज़रूरतमंद परिवारों तक पहुंचाया जाता है।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार और कोविड19 हेल्प फ़ॉर नीडी ग्रुप की शुरुआत करने वाले एम. रियाज़ हाशमी बताते हैं कि 22 मार्च, 2020. जनता कर्फ्यू वाले दिन शाम के समय एक फोन कॉल ने उन्हें इस कदर झकझोरा कि उन्होंने यह तय किया कि संकट की इस घड़ी में ज़रूरतमंद लोगों की हर संभव मदद करनी चाहिए। उसी समय उन्होंने अपने साथियों से बात की और ज़रूरतमंदों के लिए अपने ख़ास सहयोगियों जोड़कर एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया।

लॉक डाउन 1.0 की शुरुआत में रियाज़ हाशमी ने स्वयं यह बीड़ा उठाया और देखते ही देखते ग्रुप के सदस्यों ने भी लोगों की ज़रूरतों का ख्याल रखते हुए अपनी ओर से सहयोग करना शुरू कर दिया। लॉक डाउन की अवधि बढ़ने के साथ ही ग्रुप के अधिकांश सदस्यों ने रुचि दिखानी कम कर दी लेकिन इसके बावजूद कुछ चुनिंदा लोगों ने रियाज़ हाशमी के इस पावन अभियान को जारी रखने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

ग्रुप के सदस्य रिटायर्ड बैंककर्मी एनके बंसल और व्यवसायी नवीन कुमार बताते हैं कि हमें कई बार फंड का अभाव महसूस हुआ लेकिन सहयोग की भावना से यह मिशन अभी तक एक भी दिन नही रुका। सहारनपुर शहर और उससे लगे देहात के इलाकों में सुबह 7 बजे से राशन वितरण का कार्य शुरु किया जाता है।

राशन वितरण में मुख्य रूप से इंडसइंड कमर्शियल बैंक के प्रबंधक ज़ाकिर अंसारी, पत्रकार अमित गुप्ता, अंकित माथुर, पत्रकार ख़ालिद हसन, सीबी सिंह, विनीत शर्मा एवं अबलीश गौतम जुड़े हैं। हॉट स्पॉट क्षेत्र में पुलिस और प्रशासनिक सहयोग से राशन पहुंचाया जाता है। रात्रि आठ बजे से अगले दिन के ज़रूरतमंदों के लिए राशन की पैकिंग का कार्य आरंभ होता है। इसमें वॉलिंटियर्स उमैर, रिहान, आमिर,अब्दुल्ला, फैज़ान, उबैद एवं शाहिद देर रात तक राशन के पैक तैयार करते हैं। ग्रुप पर सक्रिय रूप से सहयोग वाले प्रबुद्दजनों में वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. कलीम अहमद, डॉ. विवेक बैनर्जी एवं डॉ. अंकुर उपाध्याय प्रमुख सहयोगी होने के साथ-साथ वीडियो कॉलिंग के द्वारा डायबिटीज, ह्रदय एवं अन्य रोगियों को निःशुल्क परामर्श लगातार दे रहे हैं।

लॉक डाउन के दौरान प्रभावित गरीबों, मजदूरों और बेसहारा लोगों को दिए जाने वाले राशन पैक में 5 किलो आटा, दो किलो चावल, एक किलो चीनी, एक किलो मिक्स दालें, आधा लीटर रिफाइंड आयल, 200 ग्राम चाय की पत्ती, 200 ग्राम मिल्क पाउडर, नमक, मिर्च, हल्दी, धनिया के पैकेट आदि सामग्री होती है। रोजाना 100 पैकेट्स बांटने का टार्गेट रहता है, लेकिन औसतन हर रोज 150 पैकेट्स का वितरण हो जाता है। इसके अलावा बेहद गरीब डायबिटीज पेशेंट्स के लिए इंसुलिन इंजेक्शन, टैबलेट्स और ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए रूटीन की जरूरी दवाईयां भी वितरित की जा रही हैं। सबसे ख़ास बात ये है कि इस विषम परिस्थिती में भी इंसानियत ज़िंदा है। सहारनपुर से जुड़े अमरीका, मुम्बई, चेन्नई, दिल्ली आदि क्षेत्रों से निरंतर सहयोग प्राप्त हो रहा है।

सहारनपुर से पत्रकार अंकित माथुर की रिपोर्ट.

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “सलाम है इन्हें : लॉक डाउन में ‘राहत’ का राशन और ‘सुकून’ की दवा

  • शेख़ परवेज़ आलम says:

    बहुत ख़ूब…… ज़िंदाबाद रियाज़ हाशमी साहब
    आपने एक मिसाल क़ायम की है। सहारनपुर ही नही बल्कि देशभर के पत्रकारों को इससे सीख लेनी चाहिए और मौजूदा हालात में गरीबों और बेसहारों की मदद करनी चाहिए….…. बड़े भाई रियाज़ हाशमी साहब और उनकी टीम की तारीफ़ के लिए मेरे पास शब्द नही है। एक बार फिर बस इतना ही कहूंगा……..बहुत ख़ूब…….. ज़िंदाबाद रियाज़ हाशमी साहब।

    Reply
  • उस्मान अली says:

    सलाम है रियाज़ सर आपको और आपकी पूरी टीम को। जिस तरह से आप दिन रात मेहनत कर रहे। अल्लाह आपको सलामत रखे

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code