बलात्‍कारी, उगाहबाज, ठग और धोखेबाज गिरोह से पत्रकार हेमन्‍त तिवारी की गलबहियां

लखनऊ: देहरादून की युवती के साथ बलात्‍कार और उगाही के आरोपी वरिष्‍ठ पत्रकार की पहुंच समझनी हो तो आइये। इस फोटो को निहारिये, और फिर आपको अपने आप ही पता चल जाएगा कि बलात्‍कार, ठगी, उगाही, धोखाधड़ी जैसे जघन्‍य अपराधों और अपराधियों की असल शरण-स्‍थली क्‍या और कहां है।

यह हैं रतनलाल शर्मा। जौनपुर के रहने वाले। पुरोहित, आयोजक, ठग, बलात्‍कारी, उगाही करने वाला, अपराधियों के गिरोह का मुखिया वगैरह-वगैरह। उप्र मान्‍यताप्राप्‍त पत्रकार समिति के अध्‍यक्ष हेमन्‍त तिवारी का खासमखास। हेमन्‍त ने ही उसे वरिष्‍ठ पत्रकार की उपाधि पर मोहर लगायी थी। इतना ही नहीं, हेमन्‍त की सरपरस्‍ती में ही रतनलाल का सारा धंधा चल रहा है। और हेमन्‍त का असल धंधा सिर्फ डीजीपी रह चुके अरविन्‍द जैन और जौनपुर के एसपी रहे ओपी श्रीवास्‍तव जैसे पुलिसवालों की सरपरस्‍ती पर चलता है।

आपको बता दें कि यही रतन लाल शर्मा ( फोटो में दाहिने लाल घेरे में) खुद को उप्र के उद्यान मंत्री पारसनाथ यादव को अपना निजी सचिव बताता है। दो दिन पहले इसी शर्मा ने देहरादून की स्कूल संचालिका से बलात्‍कार किया और फिर रेप का वीडियो बनाने के बाद उसे ब्‍लैकमेल करने की साजिश की। यही बलात्‍कार का आरोपी रतनलाल शर्मा इस फोटो में हेमन्त तिवारी ( बीच में दाढी वाला) गल-बहियां लगाये बैठा है। जबकि उसी फोटो में दाहिनी ओर जौनपुर के तत्‍कालीन पुलिस कप्‍तान वी पी श्रीवास्तव ( बाएं नीले सूट में) बैठे हैं। 

अब ऐसे में इन अपराधियों पर पुलिस क्‍या कार्रवाई कर पायेगी।

लखनऊ के पत्रकार मठाधीश। हर दलाली की चहुंओर दास्तानों के महारथी। सत्ता के गलियारों से लेकर ठगों और लै-मारों तक में इनकी खासी हनक है। शुरुआत तो भले पत्रकारी दलाली से हुई, मगर आज अपराध हो या दुराचार, ठगी हो या फिर लपकागिरी, इस पत्रकार-शिरोमणि का डंका कहीं भी बज सकता है। इस महारथी का नाम है हेमंत तिवारी। हेमंत का ताजा किस्सा है देहरादून की एक महिला के साथ दुराचार और ठगी में। इस महिला से बलात्कार की साजिश में अब हेमंत तिवारी के गले में फंदा दरअसल हेमंत का असली धंधा गिरोहबाजों और अपराधियों को शरण देना ही है। बताते हैं कि हेनंत और उसके शातिर अपराधी और उसके गिरोह के लोग यूपी समेत पूरे देश और भूटान और नेपाल तक पसरे हुए हैं।

सूत्रो के अनुसार हेमंत तिवारी ऐसी गीरोहबाजो को संगठित करने के लिए पहले बाकायदा चुन-चुन कर शातिर अपराधियों को चिंहित करते हैं। इसके बाद ऐसे अपराधियों को सुरक्षित शरण देने की साजिश के तहत उसे पत्रकार अथवा वरिष्ठ पत्रकार की मान्यता दे देते हैं। यूपी प्रेस मान्यताप्राप्त पत्रकार समिति के अध्यक्ष होने के प्रभाव के चलते यह कर पाना हेमंत तिवारी के दाहिने हाथ का काम होता है। 

उस पगडीवाले पत्रकार, पाखंडी, ठग, बलात्कारी, धोखेबाज़, ज्योतिषी, अनुष्ठानकर्ता और हेमंत तिवारी के इस गिरोह के सक्रिय और आशीर्वादप्राप्त अपराधी को गौर से देख लीजिये। इसका नाम है पंडित रतनलाल शर्मा। यह अपराधी जौनपुर में कझगांव के गोधना गाँव का रहने वाला है। और खुद को वरिष्ठ पत्रकार घोषित करता है। मज़ेदार बात तो यह है कि इसे हेमंत तिवारी मान्यता भी देते हैं। खुलेआम। इतना ही नहीं, इस धंधे में हेमंत कितना लिप्त हैं, इसका अंदाजा आपको इस रतन लाल की कमिटी की कार्यकारिणी से पता चल सकता है जिसके संयोजक हैं यू पी मान्यताप्राप्त पत्रकार समिति के अध्यक्ष हेमंत तिवारी। रतनलाल के साथ हेमंत की आदमकद फोटो-पोस्टर पूरे जौनपुर जिले में टंगे हुए हैं। एनेक्सी में चल रही चर्चाओं के मुताबिक़ हेमंत तिवारी और उनकी कंपनी ने भारी वसूली करके अनेक लोगों को मान्यता प्राप्त पत्रकार का कार्ड बेचा है।

आपको बता दें कि हेमंत तिवारी से मान्यताप्राप्त वरिष्ठ पत्रकार रतनलाल शर्मा ने देहरादून के स्कूल की संचालिका से लखनऊ स्थित योजना भवन के पास एक अपार्टमेंट में दुष्कर्म किया और वीडियो बना कर लाखो की वसूली भी की और 25 लाख की वसूली की धमकी भी दी। दुष्कर्म के दौरान कुछ असलहाधारी लोग भी मौजूद थे। आपको बता दें कि हेमंत तिवारी के पास भी दो असलहाधारी लोग हमेशा रहते हैं। फिलहाल इस किस्से से हेमंत तिवारी की थुक्का-फ़ज़ीहत तो शुरू हो ही चुकी है।

कुमार सोौवीर के एफबी वाल से

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/Bo65FK29FH48mCiiVHbYWi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *