जस्टिस काटजू ने राहुल-सोनिया के लिए ये क्या कह दिया!

जस्टिस मार्कण्डेय काटजू-

जोंक व ड्राकुला की तरह कांग्रेस को चूस रहा है गाँधी-नेहरू परिवार..। कांग्रेस के पुनरुद्धार के लिए सोनिया-राहुल गांधी की विदाई क्यों जरूरी है?


यदि कांग्रेस पार्टी के पास पुनरुद्धार के लिए कोई इच्छा या मौका है तो उसे किसी तरह से इस टिनपोट ( tinpot) मां-बेटे की जोड़ी को बाहर करना चाहिए और राष्ट्र के सामने आने वाली भारी समस्याओं से निपटने के लिए नए विचारों वाले लोगों के एक नए नेतृत्व का निर्माण करना होगा।

कांग्रेस पार्टी के कई नेताओं ने हाल ही में मुझे फोन किया और कहा कि उन्हें सोनिया और राहुल गांधी की वजह से जनता से गालियाँ मिल रही हैं, जो पार्टी के नेतृत्व को जकड़े हुए हैं। हालांकि मां और बेटे ने इसे लगभग ध्वस्त कर दिया है और अस्तित्वहीन (जैसा कि हाल ही में 4 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश के चुनाव परिणाम ने दिखाया है)। इन कांग्रेस नेताओं ने मुझसे इस मुद्दे पर बोलने की अपील की है, जो मैं कर रहा हूं।

7 मई 1940 को, लियो अमेरी, सांसद, ने ओलिवर क्रॉमवेल के शब्दों को उद्धृत करते हुए, ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स में प्रधान मंत्री नेविल चेम्बरलेन से कहा था: “You have sat too long here for any good you have been doing. Depart, I say, and let us have done with you. In the name of God, go”.
“आप बहुत लंबे समय से यहां बैठे हैं। भगवान के नाम पर, अब जाओ”

यही जरूरत अब नेहरू-गांधी परिवार को भी बतानी है। उन्होंने इतिहास में कांग्रेस को अपने निम्नतम स्तर पर ला दिया है। उनके पास सत्ता और वासना के अलावा कोई सिद्धांत नहीं है (केवल भगवान जानता है कि कितने सैकड़ों, यदि हजारों नहीं, करोड़ों रुपये सोनिया ने गुपचुप तरीके से विदेशी बैंकों और सुरक्षित ठिकानों में स्थानांतरित कर दिए हैं)।

महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व वाली महान पार्टी, जिसने भारत को स्वतंत्रता की ओर अग्रसर किया था, एक घिनौनी रूप तक सिमट गई है

किसी ने सोचा होगा कि 2014 और 2019 के संसदीय चुनावों में अपने निराशाजनक प्रदर्शन के बाद (2019 में उसे लोकसभा की कुल 542 सीटों में से सिर्फ 52 सीटें मिलीं और कुल वोटों का सिर्फ 19.5%) गान्धी परिवार नेतृत्व से इस्तीफा दे देगी ।

पार्टी में नए विचारों के साथ एक नया नेतृत्व आने देगी, लेकिन नहीं, जोंक या ड्रैकुला की तरह, गांधी परिवार कांग्रेस के नेतृत्व पर तब तक डटे रहेगी जब तक कि उसका पूरा खून न चूसा जाए।

सोनिया, एक अच्छी माँ की तरह, एक दिन राहुल के प्रधानमंत्री बनने के सपने देखती हैं। लेकिन न इस ‘पप्पू’ के सिर में कुछ है, उसने लगातार कांग्रेस नेताओं का अपमान किया। उदाहरण स्वरूप- असम के हेमंत बिस्वास सरमा (जो बाद में बीजेपी से मिल गए) अपने कुत्ते के साथ खेलकर जब सरमा से मिले।

माँ और बेटे की जोड़ी सम्राटों की तरह व्यवहार करती थी, और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ भी बहुत घमंडी थी, जिन्हें अक्सर लंबे समय तक appointment नहीं मिलता था।

हिटलर जर्मनी में कड़वे अंत तक सत्ता में रहा, जैसा कि इटली में मुसोलिनी, फ्रांस में बोर्बन्स ( Bourbons), रूस में रोमानोव्स ( Romanovs ) चीन में च्यांग काई शेक, क्यूबा में बतिस्ता, दक्षिण वियतनाम में जनरल थियू, आदि।

गांधी परिवार उन्हीं के नक्शेकदम पर चल रहा है। यदि कांग्रेस पार्टी के पास पुनरुद्धार के लिए कोई इच्छा या मौका है तो उसे किसी तरह से इस टिनपोट ( tinpot) मां-बेटे की जोड़ी को बाहर करना चाहिए और राष्ट्र के सामने आने वाली भारी समस्याओं से निपटने के लिए नए विचारों वाले लोगों के एक नए नेतृत्व का निर्माण करना होगा। अन्यथा पार्टी का भविष्य अंधकारमय है।

(यह ब्लाग जनसत्ता के डिजिटल संस्करण में 4 मई 2021 को छपा है। जस्टिस मार्कंडेय काटजू, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायधीश हैं। यहां व्यक्त विचार उनके निजी हैं। )

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *