वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ और शेष नारायण सिंह आईसीयू में!

दो वरिष्ठ पत्रकारों के कोरोना संक्रमण के कारण अलग अलग अस्पतालों के आईसीयू में भर्ती होने की सूचना आ रही है। जाने माने पत्रकार विनोद दुआ और शेष नारायण सिंह की पुत्रियों ने इस बाबत जानकारी साझा की है।

ये खबर आपने अख़बारों में नहीं पढ़ा तो सोचिए अख़बार क्यों पढ़ रहे हैं?

सागर डी- यूपी सरकार के अफसर कैसे सूबे की जनता को गुमराह कर रहे हैं इसका पर्दाफाश कल हाईकोर्ट ने किया. सरकार का एक पोर्टल दावा करता है कि यूपी में न आइसोलेशन बेड की कमी है न आईसीयू बेड की.

एंकर रोहित पुनेठा की पत्रकार पत्नी का कोरोना से निधन, शादी और मृत्यु की तस्वीर देख भावुक हुए लोग

रोहित पुनेठा- दुल्हन बना के लाया था और आज अपनी रश्मि को दुल्हन के रूप में ही विदा कर दिया हमेशा के लिए.. मुझे माफ कर देना रश्मि मैं तुम्हें बचा नहीं सका.. लेकिन सारी उम्र तुमसे सिर्फ तुम्हीं से प्यार करूंगा..

वाह रे मोदी सरकार! : विदेशों से आई मेडिकल मदद एक हफ़्ते तक एयरपोर्ट और बंदरगाहों पर पड़ी रही!!

गिरीश मालवीय- विदेश से जो मेडिकल मदद आ रही है उसको लेकर मोदी सरकार कितनी लापरवाह है ये भी समझ लीजिए 25 अप्रैल को मेडिकल हेल्प पहली खेप भारतीय बंदरगाहों पर पुहंच गयी थी उसके वितरण के नियम यानि SOP स्वास्थ्य मंत्रालय ने 2 मई को जारी किए। यानी एक हफ्ते तक आई मेडिकल मदद …

एक अत्यंत मेधावान और पढ़ा लिखा पत्रकार बंगाल चुनाव की बलि चढ़ गया!

शम्भूनाथ शुक्ला- बंगाल चुनाव के शिकार हो गए साथी अरुण पांडेय। वे वहाँ चुनाव कवर करने गए थे। वहीं से संक्रमित हो गए। अस्पताल में भर्ती हुए, ठीक हो कर घर आ गए और फिर दिक़्क़त हुई तो पुनः अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। पड़ोस में रहते थे। एक ही अपार्टमेंट में मगर ख़बर सुबह …

लोकमत ग्रुप के मालिक विजय दर्डा की यह पोस्ट पढ़िए और स्थिति की भयावहता को महसूस करिए!

विजय दर्डा- दिल्ली की हालत बहुत खराब है…! बिल्कुल बिहार जैसे हालात हैं। मैं पिछले कुछ दिनों से लगातार कुछ मित्रों के रिश्तेदारों, कुछ जानपहचान के रिश्तेदारों, कुछ न जानने वाले लोगों के फोन के कारण दिल्ली के अस्पतालों में बेड ढूंढने की भागदौड़ में लगा हूं।

जस्टिस काटजू ने राहुल-सोनिया के लिए ये क्या कह दिया!

जस्टिस मार्कण्डेय काटजू- जोंक व ड्राकुला की तरह कांग्रेस को चूस रहा है गाँधी-नेहरू परिवार..। कांग्रेस के पुनरुद्धार के लिए सोनिया-राहुल गांधी की विदाई क्यों जरूरी है? यदि कांग्रेस पार्टी के पास पुनरुद्धार के लिए कोई इच्छा या मौका है तो उसे किसी तरह से इस टिनपोट ( tinpot) मां-बेटे की जोड़ी को बाहर करना …

ब्रम्हाण्ड की गतिविधियों से जुड़े हैं महामारियों के तार!

अजय सिंह- कोरोना की दूसरी वेव ने भारत समेत पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया है। यहां तक कि जिन्हें वैक्सीन लग गई हैं, उनमें से भी कुछ लोगों को यह वायरस संक्रमित कर दे रहा है। सब स्तब्ध हैं। सच तो यह है कि कोरोना को अभी तक डॉक्टर्स समझ ही नहीं पाए हैं …

दैनिक भास्कर ग्वालियर के संपादक बने धर्मेंद्र

प्रवीण मिश्रा- धर्मेंद्र जी को संपादक बनने की बधाई। नमस्कार। ये हैं पत्रिका ग्वालियर में लंबे समय तक साथ में रहे हमारे धर्मेंद्र सिंह भदौरिया जी।

कंगना का ट्विटर अकाउंट रविशंकर प्रसाद ने डिलीट कराया है?

दिलीप मंडल- कंगना का ट्विटर एकाउंट केंद्रीय क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने डिलीट कराया है। गुजरात दंगों के बारे में कंगना वो सच बोल गई, जिसका नरेंद्र मोदी अब तक खंडन करते रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका के चार संस्करण में एक टिप्पणी तीन नाम से छपी है!

आज के राजस्थान पत्रिका के चार संस्करण में एक टिप्पणी तीन नाम से छपी है। टिप्पणी में बिंदी, कामा का अंतर भी नहीं है।

भास्कर का डाक्टरों वाला नया फ़र्ज़ीवाड़ा सोशल मीडिया में वायरल!

आइंदा नामी डॉक्टर के नाम से या उनकी फ़ोटो के साथ भास्कर में कुछ भी छपे, उस पर विश्वास करने से पहले चेक ज़रूर कर लें. हो सकता है ज्ञान किसी और का हो और डॉक्टर साब का मात्र फ़ोटो ही हो.

इंदौर के कथाकार, चित्रकार और पत्रकार प्रभु जोशी नहीं रहे

अभिषेक तिवारी- इंदौर से बेहद दुःखद खबर आ रही है कि चित्रकार, कहानीकार, पत्रकार … प्रभु जोशी जी नहीं रहे. इंदौर में प्रभु दा का अपार स्नेह मुझे मिलता रहा. वो अक्सर कहते थे. जब रंग खरीद कर लाओ तो उसमें से सफेद और काला रंग निकालकर खिड़की से बाहर फेंक दो …

पत्रकार वरुण उपाध्याय के पिताजी का निधन

वाराणसी।दैनिक भास्कर वाराणसी के पूर्व संपादक एवं न्यूज़ 1 इंडिया के जोनल एडिटर डॉ वरुण उपाध्याय के पिता गोपालनाथ उपाध्याय (57) का बीते 27 अप्रैल 21 को कोरोना से संक्रमित होने की वजह से मृत्यु हो गई।

इंदौर प्रेस क्लब अध्यक्ष अरविंद तिवारी के विरुद्ध एफआईआर

झूठी खबर का आरोप लगा कर मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया के समर्थक ने गुना में दर्ज़ कराया आपराधिक प्रकरण गुना। मध्य प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया के चरित्र को लेकर अनर्गल खबर प्रकाशित और प्रसारित करने के मामले में गुना पुलिस ने इंदौर प्रेस क्लब के अध्यक्ष अरविंद तिवारी के …

कोरोना के हाथों दो पत्रकारों के मारे जाने के बाद मीडियाकर्मियों ने किया IMU का गठन!

इंदौर के दो वरिष्ठ पत्रकारों-राजेश मिश्रा और जीएस यादव को जब कोरोना महामारी के क्रूर हाथों ने अचानक छीन लिया, तो इससे व्यथित होकर शहर के चार पत्रकारों ने साथी पत्रकारों की मदद की ठानी। चंद ही मिनटों मेंWhatsapp पर 24 अप्रैल को एक समूह बन गया-Indore Media United यानी IMU.

प्रोफ़ेसर दविंदर कौर उप्पल मैम को भी कोरोना निगल गया

ब्रजेश राजपूत- हम सबकी आदरणीय और माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के संचार विभाग की पूर्व विभागाध्यक्ष 75 वर्षीय प्रो. दविन्दर कौर उप्पल का आज रात 4 मई 2021 को 02:37 बजे निधन हो गया। घर पर गिर जाने के कारण 11 अप्रैल, 2021 को उनके पैर की हड्डी की सर्जरी हुई थी। …

अलीगढ़ पुलिस ने कवरेज कर रहे प्रधान संपादक को भेजा जेल

जियाउर्ररहमान- अलीगढ़ । पंचायत चुनाव की मतगणना में अलीगढ़ पुलिस ने एक पत्रकार को ही शांतिभंग में जेल भेज दिया। पत्रकार का कुसूर इतना था कि वह मतगणना में लगी पुलिस द्वारा कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने की कवरेज करने लगा था । थाना लोधा क्षेत्र के ब्लॉक लोधा के वोट विवेकानंद कॉलेज में खुल …

ज़मीनी पत्रकार बिहारी लाल को कलेक्टर और सीएमओ एक बेड नहीं दिला पाए

विजय विनीत- चंदौली के जांबाज पत्रकार बिहारी लाल अनंत में चले गए। इन्हें भी निगल गया धूर्त कोरोना। इस पत्रकार के लिए चंदौली के कलेक्टर और सीएमओ, किसी सरकारी अस्पताल में न एक अदद बेड दिला पाए, न वेंटिलेटर। नतीजा, पत्रकार बिहारी लाल के मौत की चीख चंदौली के एक निजी अस्पताल में गूंजीं और …

प्रयागराज के वरिष्ठ पत्रकार डा. राम नरेश त्रिपाठी का निधन

पत्र सूचना शाखा(मुख्यमंत्री सूचना परिसर)सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग, उ0प्र0 मुख्यमंत्री ने प्रयागराज के वरिष्ठ पत्रकार डॉ राम नरेश त्रिपाठी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया

संजय कुलश्रेष्ठ की माताजी का निधन

पत्र सूचना शाखा(मुख्यमंत्री सूचना परिसर)सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग, उ0प्र0 मुख्यमंत्री ने न्यूज़ नेशन नेटवर्क के प्रबंध निदेशकश्री संजय कुलश्रेष्ठ की माता के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया

करण थापर-नरेंद्र मोदी के उस चर्चित इंटरव्यू के पीछे की असली कहानी!

श्याम मीरा सिंह- करण थापर और नरेंद्र मोदी के उस इंटरव्यू के पीछे का इंटरनल किस्सा क्या है? आपको याद होगा नरेंद्र मोदी के एक इंटरव्यू की एक पुरानी वीडियो काफी प्रसिद्ध है जिसमें नरेंद्र मोदी पत्रकार करण थापर को इंटरव्यू दे रहे हैं। उस इंटरव्यू के तीन मिनट बाद ही नरेंद्र मोदी ने कहा …

भारत में 50 लाख से अधिक लोग मर चुके हैं!

कुमुद सिंह- भारत में 50 लाख से अधिक लोग मर चुके हैं… सरकारी आंकड़ों और जमीनी पड़ताल के बीच बस इतने का अंतर है. कश्मीर से कन्याकुमारी तक यही हो रहा है. मध्यप्रदेश की राजधानी में जब इतनी लाशें छुपायी जा सकती है तो सोचिए गांव कस्बों का क्या हाल होगा..

ऑक्सीजन कमी की न्यूज़ लिखने पर नोटिस भेज दिया

अंकित माथुर- रायबरेली में अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी का मामला उजागर करना एक पत्रकार को महँगा पड़ने जा रहा है।

मोदी को राजधर्म न निभाने की आदत है, देखें ये पुरानी तस्वीर

नवीन रांगियाल- साल 2002 में अटल जी ने कहा था- राजधर्म का पालन कीजिए. तब उनके समीप खिसियाए से बैठे आपने कहा था- वही कर रहे हैं साहब.

एम्स के डायरेक्टर कह रहे कि एक सीटी स्कैन 300 चेस्ट एक्सरे के बराबर है!

विजय शंकर सिंह- अभी तक तो, यह कहा जाता रहा है कि आरटी पीसीआर परीक्षण विश्वसनीय नहीं है। सीटी स्कैन कराइये। उससे फेफड़े की स्थिति का पता चलेगा।

रोहित सरदाना बहुत मेहनत कर ETV में एंकर बने थे!

धीरज कुमार- दिवंगत टीवी पत्रकार रोहित सरदाना से मेरी दोस्ती 20 साल पुरानी थी जिसमें 12 साल हमने साथ में काम किया। उसके साथ के अनगिनत किस्से हैं जिनमें से कुछ को मैं साझा करना चाहूंगा।

एमपी के मान्यता प्राप्त पत्रकार भी फ़्रंटलाइन वर्कर घोषित

डॉ राकेश पाठक- मध्य प्रदेश में सभी अधिमान्य पत्रकार फ्रंटलाइन वर्कर घोषित। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का ऐलान।

वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स में 142वें स्थान पर खड़े भारत की तस्वीर भयावह है!

सौमित्र रॉय- आज विश्व प्रेस फ्रीडम डे है। मुझे सुबह का दैनिक भास्कर पढ़कर हैरानी हुई कि 9वें पन्ने में एक गुमनाम संपादकीय के रूप में इस पर बेहद लचर खानापूर्ति की गई है।

सत्य प्रकाश असीम भी नहीं रहे!

संजय रॉय- वरिष्ठ पत्रकार सत्य प्रकाश असीम जी हम सबके बीच नहीं रहे। कोरोना ने असमय ही उन्हें हमसे छीन लिया। फिलहाल मेरे पास कुछ भी कहने के लिए शब्द सामर्थ्य नहीं है।

जनादेश ममता के पक्ष में नहीं, प्रधानमंत्री के ख़िलाफ़ है

-श्रवण गर्ग दो लाख से ज़्यादा कोरोना अभागों की दुर्भाग्यपूर्ण विदाई के बीच बंगाल के प्रतिष्ठापूर्ण चुनावों में हुई सिर्फ़ ‘एक’ राजनीतिक महत्वाकांक्षा की मौत का अगर मौन स्वरों में स्वागत किया जा रहा है तो बहुत आश्चर्य नहीं व्यक्त किया जाना चाहिए। जब सत्ता के नायक चुनावी सभाओं में बिना मास्क के जुटने वाली …

ये बिका हुआ मीडिया आपके ख़िलाफ़ है!

गुरदीप सिंह सप्पल- अब तो समझिये, ये बिका हुआ मीडिया विपक्ष के ख़िलाफ़ नहीं है, आप के ख़िलाफ़ है। उत्तर प्रदेश में 700 से ज़्यादा टीचर बेमौत मृत्यु पा गए, क्योंकि BJP सरकार की ज़िद थी कोविड में पंचायत चुनाव करवाने की। इसमें आधे से अधिक मोदी /योगी समर्थक रहे ही होंगे। लेकिन मीडिया क्या …

भाजपा यूपी के प्रवक्ता डॉ मनोज मिश्रा का निधन

डाक्टर मनोज मिश्रा के फ़ेसबुक वॉल पर उनके परिजनों ने आज हृदय गति रुकने से निधन की खबर डाली है। देखें- Dr. Manoj mishra a loved husband, Father, guru , guide passed away today due to Cardiac arrest tonight.

अनिवार्य सेवानिवृत्ति के बारे में जानकारी देने से गृह मंत्रालय ने किया इनकार

अमिताभ ठाकुर- गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा अनिवार्य सेवानिवृति की सूचना देने से मनाही. मगर क्यों? इसमें छिपाने वाली कौन सी बात थी?

भारतीय अख़बार तो दल्ले हैं, पढ़िए न्यूयार्क टाइम्स ने आज क्या लिखा है!

रवीश कुमार- भारत के अख़बारों और चैनलों में सरकार से अब भी सवाल नहीं है। इतने लोगों के तड़प कर मर जाने के बाद भी कोई सवाल नहीं है। न्यूयार्क टाइम्स ने जो लिखा है उस पर गौर करना चाहिए। सिर्फ़ इसलिए नहीं कि न्यूयार्क टाइम्स ने लिख दिया है । इसलिए कि आप एक …

नीतीश सरकार ने पत्रकारों को फ़्रंटलाइन वर्कर माना, प्राथमिकता के आधार पर होगा कोविड टीकाकरण

बिहार के पत्रकार फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में शामिल सीएम नीतीश ने किया ऐलान आईरा के प्रदेश अध्यक्ष सुमन मिश्रा एवं ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल कोशी एक्सप्रेस के सीईओ कुणाल किशोर ने सीएम का जताया आभार

तरुण मित्र के समूह सम्पादक कैलाश नाथ, दैनिक जागरण के पत्रकार आशिक़ हुसैन और भास्कर में रहे मनोज की कोरोना से मौत

विनय प्रकाश सिंह- हिंदी दैनिक तरुण मित्र के समूह संपादक व‌ लोकतंत्र रक्षक सेनानी परम श्रद्धेय कैलाश नाथ जी का कोरोना से निधन हो गया। ओम शांति, विनम्र श्रद्धांजलि।

ये प्रशांत किशोर तो ग़ज़ब का आत्मविश्वास रखता है भाई!

समीरात्मज मिश्रा- ग़ज़ब का आत्मविश्वास रखते हो भाई…… बीजेपी के पश्चिम बंगाल में 200 से ज़्यादा सीटें जीतने के दावे के बाद जब प्रशांत किशोर ने यह ट्वीट किया तो विश्वास छोड़िए, कई लोगों ने मज़ाक़ उड़ाया। उसके बाद कई इंटरव्यू में उन्होंने यह बात दोगुने आत्मविश्वास से कही कि यदि मेरी तरह कोई और …

जिस भक्त को ट्विटर पर मोदी फ़ॉलो करते हैं, वह भी दवा-ऑक्सीजन माँगते हुए मर गया!

श्याम मीरा सिंह- आगरा के अमित जायसवाल जैन. RSS के कार्यकर्ता थे. इन्हें ट्विटर पर प्रधानमंत्री मोदी फॉलो करते थे. मोदी और आरएसएस के भक्त रहे. 16 अप्रैल को भाई ने ट्विटर पर लिखा ”जिनको देश में हॉस्पिटल कम लग रहे हैं उन्हें बता दूं कि अगर घर में 6 लोगों को एक साथ दस्त …

आ गया पूनावाला का नया बयान! निहितार्थ समझिए

अदार पूनावाला द्वारा अपनी ‘गर्दन उड़ाए जाने वाली बात’ कहना बहुत चर्चा का विषय बन रहा है लेकिन कोई यह ठीक से नहीं बता रहा कि यह बात किस संदर्भ में कही गयी थी? जनसत्ता की आज की खबर है कि लंदन के एक अखबार के साथ बातचीत के दौरान यह प्रश्नकर्ता ने पूछा कि …

रत्नाकर दीक्षित के बग़ल में पाँच घंटे से एक मरीज़ की लाश पड़ी हुई थी!

ललित पांडेय- पत्रकारिता जगत के धाकड़ लिखाड़, जिंदादिल इंसान और रोते हुए को हंसाने वाले श्री रत्नाकर दीक्षित जी अंततः जिंदगी की जंग हार गए। कोविड ने ऐसा जकड़ा कि BHU अस्पताल के कोविड वार्ड में उन्होंने तड़पकर जान दे दी। कह सकते है कि लापरवाह चिकित्सकीय सिस्टम के भेंट चढ़ गए।

मोदी सरकार के क्रेडिबिलिटी लेवल में भयानक गिरावट, देखें सुबूत

विजय शंकर सिंह- सिस्टम…. मोदी सरकार की क्रेडिबिलिटी अब यह हो गयी है कि न्यूजीलैंड हाई कमीशन ने ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिये कांग्रेस के बीवी श्रीनिवास से अनुरोध किया है।

पूनावाला भागा क्यों? : कुछ तो मजबूरियां रहीं होंगी, यूं ही कोई बेवफ़ा नहीं होता!

मुकेश असीम- द टाइम्स, लंदन में प्रकाशित पूनावाला के इंटरव्यू का यह हिस्सा पढ़िये और तब धमकियों तथा वास्तविकता जाहिर करने पर गर्दन कटने की उसकी बात समझिये, तो बात लगभग स्पष्ट है। वो कहता है कि राष्ट्रीय स्तर पर टीकाकरण अभियान हेतु अग्रिम बड़े ऑर्डर की वजह से सरकार को 150 रु की सस्ती …

बनारस के वरिष्ठ पत्रकार रत्नाकर दीक्षित का कोरोना से निधन

जितेंद्र यादव- हमलोगों के गुरु दैनिक जागरण गाजीपुर के पूर्व ब्यूरोचीफ व वरिष्ठ पत्रकार रत्नाकर दीक्षित सर को कोरोना ने लील लिया, भगवान अब हद हो गई….कोरोना का नाश कर दो…आप बहुत याद आएंगे सरजी।

आजतक में कार्यरत रहे पत्रकार नवीन कुमार कोरोना से लड़ते हुए अस्पताल में दाखिल

रवीश कुमार- पत्रकार नवीन कुमार LNJP में भर्ती हैं। उनका वीडियो देखा हूँ। लगता है उनकी हालत काफ़ी ख़राब है। दिल्ली सरकार से अपील है कि नवीन की हालत पर ध्यान दें। हम समझते हैं कि डॉक्टरों पर इस वक्त बहुत बोझ है। फिर भी उनका मनोबल बढ़ाए ताकि नवीन जल्दी ठीक हो सके।

हम तो कहीं नहीं गए फिर कोरोना कैसे हो गया?

दिनेश राय द्विवेदी- एसिंप्टोमेटिक कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की संख्या कुल संक्रमित व्यक्तियों की 80% तक हो सकती है. इन व्यक्तियों को खुद पता नहीं होता कि वह कोरोना के संक्रमित हैं. उन्हें कोई लक्षण भी नहीं होता. वे अपना काम करते रहते हैं तथा समाज में खुले मिले रहते हैं.

आस्ट्रेलिया के अख़बार ने हम लोगों के साहेब पर ये कैसा कार्टून बना दिया!

संदीप गुप्ता- आस्ट्रेलिया के एक अख़बार में हमारे साहब को “मोर” दर्शाया गया है और इसके साथ उनको THE SUPERSPREADER की उपाधि भी प्रदान की गयी है !

इंडिया न्यूज़ के विशेष संवाददाता ललित मोहन कोरोना से जंग में हार गए!

अजय शुक्ला- दुखद। नोयडा में हमारे वरिष्ठ विशेष संवाददाता ललित मोहन, कोरोना से जंग में हार गये। विनम्र श्रद्धांजलि, रोज दर्जनों मित्रों की मौत.!

पूनावाला तो लंदन भाग लिया, वहाँ कह रहा- सच बोला तो गर्दन उड़ा दी जाएगी!

रवीश कुमार- सीरम इंस्टीट्यूट के आदार पूनावाला लंदन चले गए हैं। लंदन ने जब अपनी सीमाओं को भारतीयों के लिए बंद किया तो उसके ठीक पहले आदार पूनावाला भारत से वहाँ पहुँच गए।

ऑक्सीजन ख़त्म होने से बत्रा अस्पताल में धड़ाधड़ होने लगी मौतें

रवीश कुमार- दिल्ली के बत्रा अस्पताल में आक्सीजन की कमी से 8 लोगों की मौत… आम लोगों की ज़िंदगी से राजनीति तमाशे का खेल खेल रही है। अब कब आप लोग जनता बनेंगे। कब तक पार्टी का समर्थक बने रहेंगे। दिल्ली के बत्रा अस्पताल में आठ लोगों की मौत इसलिए हो गई कि आक्सीजन नहीं …

खेल पत्रकार नीरन श्रीवास्तव के निधन से शोक की लहर

लखनऊ। पूर्व खेल पत्रकार एवं मौजूदा समय में एक इंस्टीट्यूट में पत्रकारिता की शिक्षा दे रहे नीरन श्रीवास्तव के निधन पर खेल पत्रकारों और खेल के विभिन्न संगठनों में शोक की लहर दौड़ गयी। लखनऊ में खेल पत्रकार की भूमिका निभाने वाले नीरन श्रीवास्तव की बीते 24 अप्रैल को कानपुर में हृदयगति रूक जाने से …

मेट्रो हॉस्पिटल के डॉ लाल ने रोहित सरदाना के इमरजेंसी मैसेज का कोई जवाब नहीं दिया था, देखें स्क्रीनशॉट

रोहित सरदाना को बिना मोनिटरिंग के स्टेरॉयड देने के बाद जब उनका ब्लड प्रेशर बढ़ा तो उन्होंने मेट्रो अस्पताल के डॉ पुरूषोत्तम लाल को 4:15, 4:30 am पर मैसेज किया पर कोई रिप्लाई नहीं आया।

रोहित सरदाना ने सीने में जकड़न को हल्के में लिया और चल बसे!

दया शंकर शुक्ल सागर- शरीर नश्वर है. हम सबको एक दिन मर कर इसी प्रकृति में मिल जाना है. इंसान और प्रकृति का एक रहस्यमय रिश्ता है. प्रकृति ने इंसान को इतनी ताकत दी है कि वो खतरनाक से खतरनाक वायरस को पराजित कर सकता है. फिर भी लोग मर रहे हैं. जानते हैं कि …

विचारधारा संवेदनहीन कर देती है, इधर और उधर दोनों तरफ वालों को : प्रभात शुंगलू

प्रभात शुंगलू- एक पत्रकार की मौत…. मेरा मानना है कि किसी की मौत पर त्वरित संवेदना जताने के लिए ये शर्त रखना कि बिना उसे उसके काम को कोसे हमारी श्रद्धांजली पूरी नहीं होगी, ये भी संवेदनहीनता और false ego की पराकाष्ठा है। और मेरे कई साथी पत्रकार मित्र, वरिष्ठ और अनुज, अलग अलग मौकों …

दो दिन पहले पत्नी गईं, अब दिल्ली का ये पत्रकार भी चल बसा!

उर्मिलेश- वरिष्ठ पत्रकार और राष्ट्रीय राजधानी में असम सहित पूर्वोत्तर मामलों के अच्छे जानकार Kalyan Barooah का असामयिक निधन दिल्ली की हमारी पत्रकार-बिरादरी के लिए बहुत बड़ा सदमा है. अभी दो दिन पहले ही उनकी पत्नी Neelakshi Bhattacharya का निधन हुआ था.कल्याण बरुआ दिल्ली में असम ट्रिब्यून Assam Tribune के ब्यूरो चीफ थे.

Times Now चैनल द्वारा मतगणना कवर न किए जाने को रवीश कुमार ने नौटंकी करार दिया

रवीश कुमार- चुनावी नतीजों को कवर न करें चैनल लेकिन इसके नाम पर नैतिकता की नौटंकी भी न करें। यह सवाल स्टंट का नहीं है। जब सैंकड़ों हज़ारों लोग आक्सीजन की कमी की वजह से तड़प कर मर गए तब यह सवाल केवल स्टंट का नहीं होना चाहिए। कुछ चैनलों ने फैसला किया है कि …

मैंने कल लोगों में रोहित सरदाना के लिए जो प्रेम देखा, वो अभूतपूर्व था!

संजय सिन्हा- मैंने बहुत मौतें देखी हैं। हमारा काम है जीवन और मृत्यु देखना। पर कल जो देखा वो अभूतपूर्व था। ‘जनसत्ता’ की नौकरी में प्रभाष जोशी ने हमें सिखाया था कि अभूतपूर्व का प्रयोग कम से कम करना चाहिए। उन्होंने समझाया था कि संसद, विधानसभाओं में अभूतपूर्व हंगामा, शोरगुल आदि का प्रयोग आम हो …

सामने से गुजरते शव को कोसना कुत्सित क़िस्म की अधीरता है : ओम थानवी

ओम थानवी- कितनी घृणा है हमारे अपने समाज में। जो हमक़दम, हमराह साथ मिलकर संघ-जनित घृणा और असहिष्णुता को कोसते थे, आज वही समझाने लगे कि मृत्यु के बाद हिटलर-मुसोलिनी के साथ क्या किया गया था? उनकी ‘दलील’ इस बात पर कि मैंने सुझाया कि क्यों न किसी अप्रिय की मृत्यु की घड़ी में भी …

पीएम मज़बूत होता जा रहा है, नागरिक कमजोर!

श्रवण गर्ग- प्रधानमंत्री के अंदर भी झांकने की जरूरत है! आज़ादी के बाद की स्मृतियों में अब तक के सबसे बड़े नागरिक संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी क्या संवेदनात्मक रूप से उतने ही विचलित हैं जितने कि उनके करोड़ों देशवासी हैं ? क्या प्रधानमंत्री के चेहरे पर अथवा उनकी भाव-भंगिमा में ऐसा कोई …

क्या अस्पताल और डाक्टरों की लापरवाही से रोहित सरदाना की मौत हुई?

नवनीत मिश्रा- सायं चार बजे जो आशंका जाहिर की थी, अब रोहित सरदाना के कई नजदीकी भी यही जता रहे हैं। उन्हें बीपी की समस्या थी। स्टेरॉयड के साइड इफेक्ट से उनकी हालत गंभीर होने की आशंका बताई जा रही। रोहित सरदाना ने अस्पताल जाने से पहले अपने एक मित्र से कहा था कि यार …

कमीना, साँप और परवर्ट संपादकों की कहानी!

समरेंद्र सिंह- रोहित सरदाना आजतक नाम के जिस चैनल में थे उस चैनल से दो लोगों को नौकरी छोड़ने पर मजबूर किया गया। पुण्य प्रसून बाजपेयी और नवीन कुमार। दोनों इसलिए हटाए गए क्योंकि वो मोदी सरकार के खिलाफ बोलते थे। हटाया किसने? इस्तीफा देने के लिए किसने मजबूर किया? अरुण पुरी और सुप्रिय प्रसाद …

बद्री विशाल के बाद अब अजय शंकर तिवारी को भी काल के क्रूर हाथों ने छीन लिया!

विजय शंकर पांडेय- आज सुबह फेसबुक खोलने पर Lokenath Tiwary जी के पोस्ट से पता चला कि हावड़ा के पत्रकार गोपाल प्रसाद यादव नहीं रहे. दोपहर होते होते अमर उजाला वाराणसी के साथी/सहकर्मी रहे अजय शंकर तिवारी और वरिष्ठ पत्रकार सुकांत नागार्जुन जी (जनकवि नागार्जुन जी के सुपुत्र) के निधन की सूचना मिली.

पत्रकार चंदन प्रताप सिंह की लाश को लखनऊ पुलिस ने दिया कंधा! देखें तस्वीर और जानिए पूरी कहानी

भोला नाथ शर्मा- अपने तमाम साथियों को खोने के बाद भी uppolice अग्रिम मोर्चे पर है। लखनऊ में पत्रकार चंदन सिंह की लाश तीन दिनों तक पड़ी रही। किसी कारण वश परिवार का सदस्य अंतिम संस्कार के लिए नहीं आया तो पुलिस कर्मियों ने उनका अंतिम संस्कार पूरे रीति रिवाज से कराया। सैल्यूट!

‘भारत समाचार’ चैनल ने मतगणना कवरेज न करने का एलान किया

कृष्ण कांत- भारत समाचार की ये पहल सराहनीय है. इसका स्वागत किया जाना चाहिए. वह समय आ गया है जब जनता का एजेंडा सर्वोपरि हो और उसे लागू किया जाए.

पत्रकार-साहित्यकार सुकांत नागार्जुन का निधन

प्रवीण बाग़ी- वरिष्ठ पत्रकार सुकान्त नागार्जुन नहीं रहे। राजीव नगर स्थित आवास पर ली अंतिम सांस। करीब 2 घंटे पहले हुआ निधन।ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे और परिवार को धैर्य प्रदान करे।

समाज विरोधी टीवी एंकर थे रोहित?

अनिल जैन- इस व्यक्ति ने ‘सबसे तेज’ बेखबरी टीवी चैनल पर बैठ कर किसानों को खालिस्तानी और देशद्रोही कहा। नागरिकता कानून का विरोध करने वालों पाकिस्तान परस्त कहा। एक साल पहले तब्लीगी जमात के बहाने समूचे मुस्लिम समुदाय को कोरोना फैलाने का जिम्मेदार बताया। आरक्षण के बहाने दलितों, आदिवासियों और सामाजिक तौर पर पिछड़ी जातियों …

अमर उजाला के डिप्टी न्यूज़ एडिटर का कोरोना से निधन

गोरखपुर से एक दुखद खबर आ रही है। अमर उजाला के डिप्टी न्यूज एडिटर अजय शंकर तिवारी (उम्र 45 वर्ष) का पैनेशिया में कोरोना संक्रमण से निधन हो गया।

सहारा में रहते हुए रोहित ने कभी ज़हरीली बकवास नहीं की : मुकेश कुमार

मुकेश कुमार- रोहित सरदाना का जाना उसी तरह से दुखद है जैसे किसी और का जाना। हालाँकि ये अफ़सोस मैं बहुत पहले फेसबुक पर ही ज़ाहिर कर चुका हूँ कि मैंने उन्हें पहचानने में चूक की और सहारा में बतौर ऐंकर चुना।

पत्रकार मरते जा रहे हैं पर सूचना प्रसारण मंत्रालय को पीएम की छवि चमकाने से ही फुर्सत नहीं है : रवीश कुमार

रवीश कुमार- आज तक के एंकर रोहित सरदाना के निधन की ख़बर से स्तब्ध हूँ। कभी मिला नहीं लेकिन टीवी पर देख कर ही अंदाज़ा होता रहा कि शारीरिक रुप से फ़िट नौजवान हैं। मैं अभी भी सोच रहा हूँ कि इतने फ़िट इंसान के साथ ऐसी स्थिति क्यों आई। या इतनी तादाद में क्यों …

अपने एंकर की मौत की खबर कई घंटों तक दबाए रखा आजतक ने!

पदमपति पदम- काफी विलंब से अपराह्न दो बजे पहली बार आजतक ने रोहित सरदाना के असमय निधन की खबर चलायी । मेरे तमाम सहयोगी आजतक में हैं उनमे एक को जब मैने लताडा, उसका जवाब था, “सर, आप सुप्रियो और अरुण पुरी को बोलिए। चैनल तो यही लोग चलाते हैं। हम लोग मुलाजिम हैं, हमें …

अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने सीधे मोदी पर उंगली तान दी है!

दिलीप खान- देश मटियामेट हो जाए, लेकिन मोदी की प्राथमिकता में इमेज मेकओवर हमेशा पहले नंबर पर रहेगा. चौतरफ़ा त्राहिमाम के बीच भारतीय मीडिया इस आदमी से सवाल पूछने से भले ही अब भी पहरेज बरतता हो, लेकिन बीते कुछ दिनों से अंतरराष्ट्रीय मीडिया में मोदी की काफी किरकिरी हुई है. सबने सीधे मोदी पर …

दस दिनों में बिहार-झारखंड के दर्जनों पत्रकार काल कवलित हो चुके हैं!

डॉक्टर चंदन शर्मा- पत्रकार साथी सबसे ज्यादा जरूरी है पहले दिन से इलाज कराएं। हल्के में न लें, यह स्ट्रेन बहुत खतरनाक है। कोविड प्रोन एरिया में न जाएं। जिंदा रहेंगे तो पत्रकारिता जीवनभर चलती रहेगी।

हावड़ा में सन्मार्ग अखबार का मतलब गोपाल यादव था!

उमेश कुमार रे- अलविदा गोपालजी!! गोपाल प्रसाद यादव. एक बेहद सामान्य कदकाठी का अधेड़ आदमी. रोज शाम को हावड़ा से कोलकाता के महात्मा गांधी रोड पर स्थित सन्मार्ग अखबार के दफ्तर में आता. एक फटा-पुराना बैग लटकाये. कपड़े भी पुराने – बेतरतीब से. एक हथेली बेतरह कट गई थी कभी. उसे जोड़ दिया गया था, …

iis अफसर पुष्पवंत नहीं रहे

अशोक प्रियदर्शी- भारतीय सूचना सेवा के वरिष्ठ अधिकारी और आर एन आई दिल्ली में उपनिदेशक के पद पर कार्यरत पुष्पवंत पुष्प सर को भी कोरोना ने लील लिया।

बुख़ार होने के कुछ घंटों बाद ही चल बसे पत्रकार पुनीत निगम

आल इंडियन रिपोर्टर्स एसोसिएशन (आईरा) के राष्ट्रीय मुख्य महासचिव पुनीत निगम का निधन कानपुर- गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज व पत्रकारों के हितों की रक्षा करने वाली देश की सबसे बड़ी संस्था आल इंडियन रिपोर्टर्स एसोसिएशन (आईरा) के राष्ट्रीय मुख्य महासचिव एडवोकेट पुनीत निगम का शनिवार सुबह लगभग 3 बजे निधन हो गया।

कोरोना से मौत के बाद लावारिश पड़ी रही पत्रकार चंदन प्रताप सिंह की लाश!

मुन्ने भारती- वरिष्ठ पत्रकार एवं नेक दिल Chandan Pratap Singh की मौत घमंड, धौस, रुतबा दिखाने वालों के लिए सबक़।

ये अस्पताल 6 लाख रुपए में कोरोना पेशेंट्स को बेच रहा एक बेड!

विनोद भारद्वाज- के डी हॉस्पिटल बृन्दावन , मथुरा में कोरोना मरीजों के साथ खुली डकैती हो रही है । डी एम और सी एम ओ आंख बंद कर मरीजों को लुटवा रहे हैं । कोरोना के गम्भीर मरीजों को बेड देने नाम पर छह लाख रुपए तक लिए जा रहे हैं । बांड भरवाकर जमा …

ढाई दशक से कार्यरत असग़र अली को दैनिक जागरण से निकालने की तैयारी

गत वर्ष अक्टूबर माह में दैनिक जागरण मेरठ ने अपने सीनियर रिपोर्टर योगेश आत्रेय तथा अरशद आशू को निकाला था। वह तो खामोश होकर बैठ गये, जिससे यहां के जयचंदों के हौसले बुलंद हो गये और उन्होंने अब कार्मिक विभाग के उस वरिष्ठ कर्मचारी अली असगर की नौकरी छीनने की साजिश शुरू कर दी है।

मनोहर कहानियाँ के संपादक पुष्कर पुष्प का कोरोना से स्वर्गवास

यशवंत अग्रवाल- देश की मशहूर पत्रिका मनोहर कहानियां के संपादक पुष्कर पुष्प अब इस दुनिया में नहीं रहे। कोरोना ने उन्हें छीन लिया। उन्होंने 28 अप्रैल की शाम अंतिम सांस ली।

भास्कर शोक संदेश छपवाने पर दस परसेंट डिस्काउंट दे रहा है!

भास्कर की मक्कारी देखिए कि इस मुश्किल दौर में लोगों की भावनाओं के साथ कैसे खेल खेल रहा है और कमाई करने में इसका भरपूर इस्तेमाल कर रहा है…

मध्य प्रदेश के पत्रकार मनोज राजपूत का कोरोना से निधन

सौमित्र रॉय- मनोज राजपूत भी चला गया। मनोज से मेरी पहली मुलाकात दमोह की एक मीडिया विजिट के दौरान करीब 9 साल पहले हुई थी। हम बुंदेलखंड में सूखे और पलायन की विभीषिका का जायज़ा लेने गए थे।

इस वक़्त चिकित्सा विज्ञान कोरोना वायरस के सामने हतप्रभ और निरुपाय-सा है!

पंकज चतुर्वेदी- लक्षण हैं, तो कोरोना हो सकता है। नहीं हैं, तो भी। तब आप वायरस के ‘साइलेंट कैरियर’ हो सकते हैं। आर टी पी सी आर टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव है, तो भी कोरोना हो सकता है। तब उसे ‘फ़ाल्स निगेटिव’ कहेंगे। पॉजिटिव है, तो भी ज़रूरी नहीं कि कोरोना हो। तब उसे ‘फ़ाल्स पॉजिटिव’ …

वरिष्ठ पत्रकार अनिल वार्ष्णेय को भी कोरोना ने छीन लिया

सुधांशु माथुर- वरिष्ठ पत्रकार अनिल वार्ष्णेय को भी कोरोना ने हम से छीन लिया। उन्होंने जयपुर के SMS हॉस्पिटल में आज सुबह अंतिम सांस ली।

कई अख़बारों में जनरल मैनेजर रहे बीरेन्द्र शाही का निधन

डॉ राकेश पाठक- अलविदा..बीरेंद्र शाही, आकाश, निकिता.. दिन भर शोक सूचनाएं आती रहीं..हिम्मत नहीं हुई कुछ भी लिखने की। उंगलियां पथरा रहीं हैं लेकिन…।

निवाण टाइम्ज़ के वरिष्ठ पत्रकार की मौत

संजय गिरी- कई वर्षों तक दैनिक जागरण के गाज़ियाबाद/ट्रांस हिंडन ब्यूरो में व वर्तमान में निवाण टाइम्स से जुड़े रहे वरिष्ठ पत्रकार राजू मिश्र कोरोना की भेंट चढ़ गए।

बिलासपुर के पत्रकार गणेश तिवारी का निधन

Neelkanth paratkar- बिलासपुर नवभारत में वरिष्ठ सहयोगी रहे गणेश तिवारी इतने जल्दी हमें तनहा कर जायेंगे. ये सोचा नहीं था. अभी डेढ साल पहले ही वें सेवा निवृत्त हुए थे. कद काठी से छरहरे और सदा सक्रिय तिवारी जी सेंट्रल डेस्क पर राष्ट्रीय अंतर राष्ट्रीय खबरें बनाते किसी भी मुद्दे पर बहस करने तत्पर रहा …

जानिए साइकिल पर पत्नी की लाश वाली यूपी की वायरल तस्वीर का सच!

Kashyap kishor mishra- हमेशा सरकार ही गलत नहीं होती… इस तस्वीर का असल पहलू कहीं न नजर आ रहा न लिखा जा रहा। जैसी कि जानकारी इनके बगल के गाँव के अविनाश सिंह से मिली। पत्नी की मृत्यु के बाद ये बाडीपैक में बंद बाडी जिद कर के हस्पताल से अपनें गांव लाये यह कह …

अगले बीस दिन देश पर बहुत भारी हैं!

सौमित्र रॉय- कोविड का ग्राफ आज फिर ऊपर गया है- 3.62 लाख से ज़्यादा मामले और पहली बार 3000 से ज़्यादा मौत। पिछले दो दिन से महाराष्ट्र में मामले कम आने के बाद गोदी मीडिया भौंक रही थी कि कोविड की स्थिति में सुधार है। लेकिन महाराष्ट्र ने आज बता दिया कि यह ग़लत है।

कोविड की सेकंड वेव त्रासदी के लिए मोदी जिम्मेदार हैं, वो बतौर पीएम फेल हुए हैं!

कनुप्रिया- आज से 2 साल पहले एक दोस्त ने मुझे कहा था कि मोदी के आने से पहले हमें इस बात का अहसास तक नही था कि हमे हिन्दू होने पर गर्व होना चाहिए. आज हमें इस बात पर गर्व है कि हम हिन्दू हैं और यह अहसास यह गर्व इस मोदी सरकार की ही …

आदरणीय मोदीजी, कहां गई आपकी नेतृत्व क्षमता, क्यों नहीं लेते अब कोई बड़ा निर्णय!

माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को पत्र… सम्मानीय मोदी जी वैसे तो पहले ही बहुत देर हो चुकी है, लेकिन अब और देर मत करिए आप । कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए जितने भी कठोर कदम उठाए जा सकते हैं आप जरूर उठाइए । संपूर्ण लॉकडाउन करना है, वो भी करिए । चुनाव रुकवाना …

रवीश कुमार भी कोरोना की चपेट में आए!

शम्भू नाथ शुक्ला- कल मुझे पता चला कि अपने Ravish Kumar जी भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं। मैंने फ़ौरन फ़ोन किया तो उन्होंने बताया जी। यह सुन कर मैं तो सन्न रह गया। वे काफ़ी सजग रहते थे और मुझे भी कहते रहते थे कि मैं घर पर ही रहूँ।

नौजवान मरीज़ के लिए बुजुर्ग मरीज़ ने अस्पताल का बिस्तर ख़ाली कर दिया

आदित्य द्विवेदी- “मैं 85 वर्ष का हो चुका हूँ, जीवन देख लिया है, लेकिन अगर उस स्त्री का पति मर गया तो बच्चे अनाथ हो जायेंगे, इसलिए मेरा कर्तव्य है कि मैं उस व्यक्ति के प्राण बचाऊं।”

अमृत विचार अख़बार के दर्जनों मीडियाकर्मी संक्रमित होने के बाद स्वस्थ हो गए

शम्भू दयाल बाजपेयी- राहत देने वाली बात है । संक्रमित युवकों में से अधिकांश घर में रह और उपचार की प्रारंभिक बातों का पालन कर ठीक हो रहे हैं । हमारे अखबार के कई साथी इस बीच पाजिटिव आए। कुछ की पत्नियां । बरेली आफिस में एक – एक कर 10 , मुरादाबाद में 6-7, …

बनारस के वरिष्ठ पत्रकार बद्री विशाल भी नहीं रहे

शेष नारायण सिंह- बनारस से दिल दहला देने वाली खबर आ रही है. हमारे घनिष्ठ मित्र , बद्री विशाल नहीं रहे. बद्री का जाना मेरे लिए बहुत ही दुखद घटना है . उनसे मेरी मुलाकातें तो पहले भी थीं लेकिन दोस्ती का सिलसिला 1993 में शुरू हुआ जब हम दोनों को समय ने घसीट कर …

टेलीग्राफ ने शवों के क़तार की तस्वीर छाप दी!

संजय कुमार सिंह- आशुतोष के साथ बातचीत में कल रात मैंने कहा कि मीडिया का यह हाल 40 साल में बनाया गया है। यह सब बेकार की बात है कि सरकार मजबूर करती है। अगर सरकार मजबूर करती तो द टेलीग्राफ कैसे छाप रहा है।

एक संपादक जो दिन-रात मदद पहुंचाने में जुटा है!

राणा यशवंत- क़तार और हाहाकार का मारा देश… कल रात के 8 बज रहे थे। मेरे पास मेरे पुराने सहयोगी और छोटे भाई जैसे विवेक भटनागर का फोन आया। आवाज में बेचैनी थी। हां विवेक- मैने फोन उठाते ही कहा। सर, बहुत तनाव में हूं। बड़ी बहन कोटा में हैं, एमडीएस अस्पताल के बाहर हैं, …

कोरोना महामारी की अफरा-तफरी का एक सच ये भी!

शील शुक्ला, संपादक विजडम इंडिया (दैनिक समाचार पत्र) एक महामारी ……. न कभी कहीं सुना था ना कभी किसी इतिहास में पढ़ा था, नाम है कोरोना ! एक वायरस जो फेफड़े में पहुँचता है….साँस रुकती है और ज़िंदगी ख़त्म. एक एक इंसान को इसी प्रकार मौत के मुँह में धकेल देने की जिद में है …

JIIT के शिक्षकों-छात्रों की जान साँसत में डाले है प्रबंधन!

We, the students of JIIT, understand that education is a very crucial part of the development of the students, Nation and the world. However, we would like to bring to your notice that the global pandemic is the most unfortunate and unanticipated event that will be seen by several generations.

एक ही दिन 476 शव जलाए जाने की खबर पर डीएम ने अख़बार को भेजा नोटिस

अमर उजाला कानपुर में खबर छपी कि एक ही दिन में 476 शव जलाए गए। सरकारी आँकड़ों में ये संख्या मात्र तीन है।

टाइटैनिक दुर्घटना और कोरोना महामारी!

प्रकाश हिंदुस्तानी- वह अप्रैल 1912 था, यह अप्रैल 2021! टाइटैनिक दुर्घटना और यह आपदाकाल! भाप का सबसे बड़ा जहाज था टाइटैनिक ! उस पर 2223 लोग सवार थे। लाइफबोट 16 थीं। हरेक की क्षमता 65 लोगों की थी। यानी इन सारी लाइफबोट को मिलाकर करीब आधे यात्री ही बचाये जा सकते थे। मतलब ये कि …

पत्रकार सीताराम गर्ग का निधन

जयपुर : हंसमुख स्वभाव के धनी, निडर, निर्भीक, स्पष्टवादी लेखक एवं पत्रकार अज्ञात खोज के प्रधान संपादक, गंगापुर सिटी बार एसोसिएशन के मीडिया प्रभारी, पत्रकारिता के क्षेत्र में महारथ हासिल रखने वाले और गंगापुर सिटी में हौसला अफजाई करके कई लोगों को पत्रकारिता के क्षेत्र में उतारने वाले सीताराम गर्ग हमारे बीच नहीं रहे।

ग्वालियर के युवा पत्रकार आकाश सक्सेना को कोरोना ने लील लिया!

कपिल शर्मा- आकाश सक्सेना पेशे से पत्रकार। 25 दिनों से अस्पताल में लड़ते लड़ते आज हमारा साथी कोरोना से जंग हार गया। बहुत गहरी क्षति है ये। हमेशा चेहरे पर मुस्कान और भगत सिंह जैसी मूंछे…वास्तविक किरदार भी गौमाता के लिए पूरी तरह समर्पित। यकीन नही होता कि अब तुम नहीं हो।ईश्वर अपने चरणों मे …

‘माधुरी’ के पूर्व संपादक अरविंद कुमार का निधन

उर्मिलेश- बहुत बड़ी क्षति-सचमुच अपूरणीय. हिंदी का पहला समांतर कोश (थिसॉरस) तैयार करने वाले भाषाविद्, माधुरी के पूर्व संपादक और कई महत्वपूर्ण पुस्तकों के लेखक अरविंद कुमार Arvind Kumar नहीं रहे.

मोदी को मक्खन लगाने में मशगूल स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को फ़ौरन बर्खास्त कर देना चाहिए : रवीश

रवीश कुमार- यह संकट अब भी सँभाला जा सकता है अगर स्वास्थ्य मंत्री को हटा दिया जाए क्यों और कैसे ? ऐसे भी डॉ हर्षवर्धन का काम प्रधानमंत्री का ट्वीट री ट्वीट करना है और उनको दिन भर योद्धा बताने का ट्वीट करना है। यह काम डॉ हर्षवर्धन घर बैठ कर भी कर सकते हैं। …

कानपुर में जूनियर डाक्टरों ने आजतक के रिपोर्टर पर किया हमला

हैलट इमरजेंसी में आजतक के रिपोर्टर को जूनियर डॉक्टरों ने मारा कानपुर। हैलट इमरजेंसी में चिकित्सा सेवाओं की बदहाली दिखाना आजतक के रिपोर्टर रंजय सिंह को भारी पड़ गया। जूनियर डॉक्टरों ने कैमरा चलता देख उन पर हमला कर दिया। रंजय का दोष सिर्फ इतना था उन्होंने तीमारदार से मारपीट का वीडियो बनाना शुरू किया …

भारत के ‘मुर्दों’ को ये एक आस्ट्रेलियन क्रिकेटर जगा पाएगा?

हिमांशु कुमार- एक राष्ट्र का अर्थ है आपके दुःख साझा हों। एक तरफ लोग अस्पताल में बिना बेड और आक्सीजन के मर रहे हैं। दूसरी तरफ भारतीय कम्पनियां क्रिकेट के मैच में पैसा पानी की तरह बहा रही हैं। यह पैसा लोगों की जान बचाने में खर्च होना चाहिए। आस्ट्रेलियन खिलाड़ी एंड्रयू इस क्रूरता का …

क़लमकार हसीन खान भी कोरोना की जंग हार गए!

चंदन बंगारी- अमर उजाला में हमारे साथी रहे अच्छे कलमकार हसीन खान भी कोरोना की जंग हार गए। बेहद आत्मीय स्वभाव के नेक दिल इंसान हसीन जी से मुलाकात साल 2015 में उधमसिंहनगर में अमर उजाला में काम शुरू करने के साथ हुई थी। वो पंतनगर से खबरे भेजा करते थे।

ये है सिस्टम : पद्मभूषण राजन मिश्र को बेड न मिला पर अपराधभूषण छोटा राजन को बेड मिलने में कोई दिक़्क़त न आई!

Prem Shankar Mishra- पद्मभूषण राजन मिश्र को किसी साधारण अस्पताल तक में न सही, “अपराध भूषण” छोटा राजन को तत्काल सेवा से देश के सबसे बड़े अस्पताल में दिल्ली के “एम्स” में बेड मिल गया। न कोई SOS कॉल, न ट्वीट न गुहार। किसी भी शहर के क़ातिल बुरे नहीं होतेदुलार करके हुकूमत बिगाड़ देती …

कोरोना से pib अधिकारी संजय श्रीवास्तव का निधन

सर्जना शर्मा- संजय कुमार श्रीवास्तव जी की दुखद खबर ने स्तब्ध कर दिया । पीआईबी ने एक योग्य और समर्पित ऑफीसर खो दि्या और हमने एक अच्छा मित्र । संजय श्रीवास्तव जी मीडिया के लिए बहुत मददगार थे । उनको हम दिन रात किसी भी समय बेधक फोन कर लिया करते थे । कभी भी …

जनसंदेश टाइम्स के संदीप पाण्डेय ने विज्ञापन प्रबंधक का छोड़ा पद

प्रयागराज : जनसंदेश टाइम्स प्रयागराज में अराजकता का माहौल चरम पर है। स्थानीय अखबार के विज्ञापन प्रबंधक संदीप पाण्डेय ने 6 माह से वेतन नहीं मिलने पर स्वेच्छा से अपना पद छोड़ दिया है। साथ ही चीफ रिपोर्टर सुधाकर पाण्डेय एवं रोशन पटेल के भी कई महीनों से वेतन नहीं मिले हैं।

यूपी में तबाही है पर क्या मजाल एंकर/एडिटर योगी सरकार को टैग कर कह सकें कि फलां को बेड या ऑक्सिजन दिला दीजिए!

अजित अंजुम- सालों से मोदी -योगी के लिए ‘लोट-पोट पत्रकारिता’ कर रहे एंकर्स /एडिटर्स बिलखते लोगों की मदद के लिए क्यों नहीं उन्हें टैग कर रहे ? यूपी में तबाही है लेकिन क्या मजाल कि योगी और उनकी सरकार को टैग करके कह सकें कि फलां को मरने से बचा लीजिए. बेड या ऑक्सिजन दिला …

अनुपम खेर जैसे समर्थक आश्वस्त हैं- आएगा तो मोदी ही!

अश्विनी कुमार श्रीवास्तव- अनुपम खेर ने हाल ही में एक ट्वीट किया कि आएगा तो मोदी ही… यूं तो इसमें कुछ आश्चर्य नहीं होना चाहिए क्योंकि खेर जैसे मोदी के अंध समर्थक हमेशा ही यही कहते आए हैं. लेकिन इसकी चर्चा इसलिए हुई क्योंकि यह ट्वीट उस वक्त किया गया, जब कोरोना की महामारी फैलने …