भारत समाचार चैनल के रिपोर्टर पर दांत तोड़ने के आरोप, एफआईआर दर्ज

बुलंदशहर से सूचना है कि भारत समाचार न्यूज़ चैनल के पत्रकार मनोज उपाध्याय ने बेटे, दामाद और तीन चार अन्य लोगों के साथ मिलकर एक युवक के साथ मारपीट की. उसके दांत और पसलियां तोड़ दीं। बुलंदशहर की खुर्जा पुलिस ने भारत समाचार चैनल के इस पत्रकार के खिलाफ गम्भीर धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली है.

एफआईआर में लिखे घटनाक्रम के मुताबिक 02 सितंबर को नाज़िम (पुत्र आरिफ निवासी पुरानी तहसील वाली मस्जिद खुर्जा) सामान लेने के लिए खुर्जा गांधी रोड पर जा रहा था। रास्ते में नाज़िम को भारत समाचार न्यूज़ चैनल का पत्रकार मनोज उपाध्याय, मनोज का बेटा हिमांशु और सेटू समेत तीन चार अज्ञात युवक मिले.

आरोप है इन लोगों ने देखते ही नाजिम को गालियां सुनानी शुरू कर दी और नाजिम के साथ जमकर मारपीट की। मारपीट में नाजिम के कई दांत टूट गए। नाजिम को कई अन्य जगह भी गम्भीर चोटें आई हैं.

परिजनों की ओर से पंजीकृत कराई गई एफआईआर में कहा गया है कि नाजिम की पसलियां भी क्रेक होने का अंदेशा है. खुर्जा पुलिस ने दो सितंबर को घटित घटना की एफआईआर तीन सितंबर को दर्ज की है.

मनोज उपाध्याय का पक्ष पढ़ने के लिए नीचे दिए गए शीर्षक पर क्लिक करें-

भारत समाचार के रिपोर्टर मनोज उपाध्याय का पक्ष पढ़ें

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

One comment on “भारत समाचार चैनल के रिपोर्टर पर दांत तोड़ने के आरोप, एफआईआर दर्ज”

  • बुलंदशहर के खुर्जा कोतवाली में खुद को पीटीआई और भाषा का पत्रकार बताने वाले मोहम्मद शुऐब और उसके बेटे अकरम सहित 4 लोगो पर धारा 307 के अंतर्गत मुकदमा दर्ज. आपको बता दें कि मोहम्मद शुऐब ने सुबह कोतवाली में ही एक अन्य पत्रकार भारत समाचार चैनल के मनोज शर्मा को गालियां देते हुए पीटना शुरू कर दिया. इस मारपीट में मोहम्मद शुऐब का बेटा अकरम और दो अन्य लोग शामिल रहे. सभी ने मनोज को जान से मारने की नीयत से उसका गला घोंटकर हत्या का प्रयास किया लेकिन वहाँ कुछ अन्य लोगों और पत्रकार के पहुचने पर सभी फरार हो गए. लेकिन पुलिस ने मोहम्मद शुऐब को गिरफ्तार कर लिया और 307 जैसी गम्भीर धाराओं में मुकदमा भी दर्ज कर लिया. लेकिन अपने रसूक के चलते शुऐब मोहम्मद को ऐसे गम्भीर मुकदमे में भी निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया है. आपसे अनुरोध है कि एफआईआर में पूर्व घटनाओं के विवरण के आधार पर पीड़ित पत्रकार मनोज की मदद करे. मोहम्मद शुऐब पर पूर्व में 377 सहित कई संगीन अपराध में मुकदमे दर्ज हैं.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *