Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

यूपी में सरकारी सम्पत्ति पर मीडिया की मण्डी, नियम ताक पर

राज्य सरकार की सम्पत्तियों पर मीडिया की दुकानें सजी हुई हैं। इन कथित खबरनवीसों ने बकायदा अपने अखबार की प्रिंट लाइन में नियम विरूद्ध तरीके से सरकारी आवासों का पता दे रखा है। इतना ही नहीं आरएनआई को भेजे शपथ पत्रों में भी सरकारी आवासों को अखबार का कार्यालय दर्शाया गया है। दूसरी ओर तत्कालीन मुलायम सरकार के कार्यकाल में अनुदानित दरों पर प्लॉट और मकान हथियाने वाले तथाकथित नामचीन पत्रकार भी अपनी गरिमा को ताक पर रखकर नियम विरूद्ध तरीके से अपने मकानों और भू-खण्डों को या तो बेच चुके हैं या फिर उसे किराए पर देकर स्वयं सरकारी आवासों का सुख भोग रहे हैं।

राज्य सरकार की सम्पत्तियों पर मीडिया की दुकानें सजी हुई हैं। इन कथित खबरनवीसों ने बकायदा अपने अखबार की प्रिंट लाइन में नियम विरूद्ध तरीके से सरकारी आवासों का पता दे रखा है। इतना ही नहीं आरएनआई को भेजे शपथ पत्रों में भी सरकारी आवासों को अखबार का कार्यालय दर्शाया गया है। दूसरी ओर तत्कालीन मुलायम सरकार के कार्यकाल में अनुदानित दरों पर प्लॉट और मकान हथियाने वाले तथाकथित नामचीन पत्रकार भी अपनी गरिमा को ताक पर रखकर नियम विरूद्ध तरीके से अपने मकानों और भू-खण्डों को या तो बेच चुके हैं या फिर उसे किराए पर देकर स्वयं सरकारी आवासों का सुख भोग रहे हैं।

चौंकाने वाला पहलू यह है कि इस बात की जानकारी शासन-प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों से लेकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव को भी है। यहां तक कि सपा सरकार के बड़बोले नेता आजम खां भी कई बार पत्रकारों के इस दुस्साहस पर चुटकी ले चुके हैं। इधर राज्य सम्पत्ति विभाग के अधिकारी मन मसोस कर बैठे हैं। एक अधिकारी ने तो यहां तक कह दिया कि सरकार इन कथित पत्रकारों से बैर नहीं लेना चाहती अन्यथा इस अव्यवस्था को कब का समाप्त कर दिया गया होता। 

Advertisement. Scroll to continue reading.

लाभ के लिए कलम गिरवी रख दिया लालची पत्रकारों ने

लखनऊ। कुछ तथाकथित नामचीन पत्रकारों ने निजी स्वार्थवश पत्रकारिता के उद्देश्यों को ताक पर रख दिया है। यदि यह कहा जाए कि पत्रकारों को लोभी बनाने में तत्कालीन मुलायम सरकार भी दोषी है तो तो इसमें कोई अतिश्योक्ति नहीं होनी चाहिए। तथाकथित भ्रष्ट मंत्रियों और कुछ नौकरशाहों ने समाजवादी पार्टी के खिलाफ खबर लिखने वालों की कलम गिरवी रखने की गरज से शासनादेश जारी कर उन्हें वह लाभ दिया जिसके वे हकदार नहीं थे। तत्कालीन मुलायम सरकार की ओर से फेंके गए लालच के दानों को हासिल करने के लिए उन नामचीन पत्रकारों को सरकार की परिक्रमा और चरण वन्दना करने पर विवश कर दिया जिनकी खबरों से नेता, मंत्री ही नहीं बल्कि तथाकथित भ्रष्ट नौकरशाही तक भय खाती थी।

Advertisement. Scroll to continue reading.

तत्कालीन मुलायम सरकार ने पत्रकारों के हितार्थ अनुदानित दरों पर लखनऊ के विभिन्न इलाकों में आवासीय प्लॉट और मकानों की व्यवस्था की। इस योजना का लाभ पाने वालों के लिए शर्त यह थी कि अनुदानित दरों पर आवासीय भूखण्ड और मकान उन्हीं पत्रकारों को दिए जायेंगे जिनका निजी आवास लखनऊ में नहीं होगा। प्लॉट और आवासों का आवंटन करने के दौरान शर्त यह भी रखी गयी थी कि सुविधा का लाभ पाने वाले पत्रकारों को सरकारी आवासों से कब्जा छोड़ना पडे़गा। शर्त यह भी थी कि पत्रकार उक्त भू-खण्ड अथवा आवास का इस्तेमाल सिर्फ स्वयं और स्वयं के परिवार के रहने के लिए करेगा। शर्त यह भी थी कि कम से कम 30 वर्षों तक उक्त आवास और भू-खण्ड किसी दूसरे को बेचे अथवा हस्तांतरित नहीं किए जा सकेंगे।

गलत हलफनामे देकर हथियाई सरकारी सुविधाएं 

Advertisement. Scroll to continue reading.

शासनादेश में सख्त नियमों के बावजूद सरकारी सुविधा का लाभ पाने वाले कथित नामचीन पत्रकारों ने अपनी गरिमा को ताक पर रखकर तत्कालीन मुलायम सिंह यादव के कार्यकाल में फर्जी हलफनामे के सहारे सरकारी अनुदान पर मिली सुविधाओं का जमकर लाभ उठाया। कुछ पत्रकारों ने तो दो-दो मकान/भू-खण्ड हथिया लिए। विडम्बना यह है कि अनुदानित दरों पर आवासीय भू-खण्ड और मकान हासिल करने वाले ज्यादातर तथाकथित नामचीन पत्रकारों ने नियमों की परवाह किए बगैर उक्त आवासों और भू-खण्डों को या तो बेच दिया हैं या फिर व्यवसाय की दृष्टि से उनका निर्माण करवाकर मंहगी दरों पर किराए पर उठा रखा है।

तत्कालीन मुलायम सरकार से लाभ पाने वाले गिने-चुने पत्रकार ही ऐसे होंगे जो सरकार की नियमावली का पूरी तरह से पालन कर रहे हैं जबकि ज्यादातर कथित नामचीन पत्रकार नियम-कानून को अपनी जेब में रखकर सरकारी अनुदान पर भू-खण्ड और आवास प्राप्त करने के बाद भी सरकारी आवासों पर कुण्डली जमाए बैठे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार विगत वर्ष न्यायपालिका ने भी इस मामले में राज्य सरकार को पर्याप्त कार्रवाई के निर्देश दिए थे लेकिन किसी भी पत्रकार के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं की जा सकी। हालांकि कुछ पत्रकारों को राज्य सम्पत्ति विभाग की ओर से नोटिसें जारी की गयीं थीं लेकिन वे भी नोटिसों की परवाह किए बगैर सरकारी सम्पत्तियों पर कुण्डली जमाकर बैठे हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

आरएनआई घोषणा पत्र में सरकारी आवासों का पता

गौरतलब है कि नियमों के तहत सरकारी आवास को किसी भी तरह से व्यवसाय अथवा दूसरे उपयोग में नहीं लाया जा सकता। ऐसा पाए जाने की दशा में उक्त पत्रकार से आवास तो खाली करवाए जाने का प्राविधान है ही साथ ही व्यवसायिक दरों पर किराया वसूलने का भी प्राविधान है। चौंकाने वाला पहलू यह है कि इन सरकारी आवासों पर दर्जन भर से ज्यादा पत्रकारों ने अपने अखबार के कार्यालय स्थापित कर रखे हैं। इतना ही नहीं आरएनआई को दिए घोषणा-पत्रों में भी इन्हीं सरकारी आवासों का पता दिया गया है। इस बात की जानकारी राज्य सम्पत्ति विभाग ने स्वयं और सूचना विभाग के सहारे सरकार तक भी पहुंचा दी है लेकिन राज्य सरकार ने ऐसे किसी भी पत्रकार के खिलाफ कार्रवाई न करके इस ओर इशारा कर दिया है कि वह किसी भी सूरत में तथाकथित नामचीन पत्रकारों से बैर नहीं लेना चाहती।

Advertisement. Scroll to continue reading.

दारूलशफा के बी ब्लॉक, आवास संख्या 45 में एक उर्दू दैनिक समाचार-पत्र ‘सबमत’ का कार्यालय खुला हुआ है। यह आवास इफितदा भट्टी के नाम पर आवास के तौर पर आवंटित किया गया था। दारूलशफा बी ब्लॉक का आवास संख्या 95 मोहम्मद शब्बीर के नाम से आवंटित किया गया था। इस सरकारी मकान से उर्दू साप्ताहिक समाचार-पत्र रोजी राह का प्रकाशन दर्शाया जा रहा है।

दारूलशफा ए ब्लॉक का आवास संख्या 155-ए शरत पाण्डेय के नाम से आवंटित किया गया था। इस सरकार आवास से ‘हैदरगढ़ की बात’ शीर्षक से हिन्दी साप्ताहिक समाचार-पत्र का संचालन किया जा रहा है। दारूलशफा का 33-ए भवन संख्या घनश्याम मिश्रा के नाम से आवंटित है। इस सरकारी भवन से एक हिन्दी साप्ताहिक समाचार-पत्र ‘जन छाया’ का प्रकाशन संचालित किया जा रहा है। 5/1 डॉलीबाग की सरकारी कॉलोनी के मकान से संचार प्रकाश नाम से उर्दू दैनिक समाचार पत्र का प्रकाशन दिखाया जा रहा है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

यह दीगर बात है कि यह समाचार-पत्र कहीं नजर नहीं आता लेकिन इस अखबार का पंजीयन कार्यालय सरकारी मकान में दिखाया जा रहा है। यह मकान ममता शुक्ला को आवंटित किया गया है। इसी सरकारी मकान से साप्ताहिक उर्दू समाचार-पत्र विविध रोजगार का प्रकाशन दिखाया जा रहा है। इस अखबार की मुद्रक प्रकाशक भी ममता शुक्ला हैं। 155-ए दारूलशफा के सरकारी मकान से हैदरगढ़ की बात शीर्षक से साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन किया जा रहा है। यह आवास शरत पाण्डेय के नाम से आवंटित है। 116-ए दारूलशफा से क्रांति चेतना नाम के अखबार का प्रकाशन दिखाया जा रहा है। यह आवास शारदानन्द अंचल के नाम से आवंटित है। श्री अंचल का देहान्त हो चुका है इसके बावजूद मकान पर कब्जा बना हुआ है। 

उक्त उदाहरण तो महज बानगी मात्र हैं जबकि दारूलशफा, रॉयल होटल, डालीबाग, गुलिस्तां कॉलोनी, टिकैतराय तालाब की सरकारी कॉलोनी, डायमण्ड डेरी, पार्क रोड, ओसीआर बिल्डिंग और इन्दिरा नगर के सरकारी भवनों से लगभग छह दर्जन समाचार-पत्रों का संचालन किया जा रहा है। इसकी जानकारी राज्य सम्पत्ति विभाग से लेकर सम्बन्धित उच्चाधिकारियों को भी है लेकिन मीडिया से कोई बैर नहीं लेना चाहता। जाहिर है इन परिस्थितियों में सरकारी मकानों में कुण्डली मारकर बैठे कथित नामचीन पत्रकारों से मकान खाली करवाना अब टेढ़ी खीर साबित हो रहा है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

यह आर्टकिल लखनऊ से प्रकाशित दृष्टांत मैग्जीन से साभार लेकर भड़ास पर प्रकाशित किया गया है. इसके लेखक तेजतर्रार पत्रकार अनूप गुप्ता हैं जो मीडिया और इससे जुड़े मसलों पर बेबाक लेखन करते रहते हैं. वे लखनऊ में रहकर पिछले काफी समय से पत्रकारिता के भीतर मौजूद भ्रष्‍टाचार की पोल खोलते आ रहे हैं.

इसे भी पढ़ सकते हैं- 

Advertisement. Scroll to continue reading.

हम हैं यूपी के पत्रकार, कानून हमारी जेब में!

Click to comment

0 Comments

  1. पीएम मिश्रा

    August 20, 2014 at 2:54 pm

    ‘ईमानदारी के झण्डाबरदार’ अनूप गुप्तजी का सत्ता के दलालों, भ्रष्ट पत्रकारों और ब्लैकमेलरों के खिलाफ़ जारी अभियान ठीक है किन्तु क्या वह बता सकते हैं कि भ्रष्ट पत्रकारों के खिलाफ़ उनकी ‘जेबी लड़ाई’, कथित मुकदमों के वाद-व्यय और उनकी पत्रकारिता, पत्रिका कहां की आमदनी से चल रही है? अभी तक उन्होंने सौ-सवा सौ महीनों में उन्होंने अपनी मैगजीन दृष्टान्त के कुल कितने अंक छपवाये हैं? उनका खुद का खर्च कहां से पूरा होता है? कभी-कभार कुछ दर्जन प्रतियों में प्रकाशित होने वाली उनकी पत्रिका में छपने वाले विज्ञापन कहां से, कैसे और किस कीमत पर हासिल किये जाते हैं? उनमें किसी एक का भी आरओ (विज्ञापन आदेश) क्या वे दिखा सकते हैं? और आख़िरी सवाल यह भी कि उन्होंने निरालानगर की ऑफिसर्स कॉलोनी में स्वयं का आवास किस हैसियत व प्रभाव से प्राप्त किया है, क्योंकि किसी मासिक पत्रिका का स्वामी-सम्पादक मान्यता श्रेणी का पत्रकार नहीं हो सकता !

  2. vinit

    August 20, 2014 at 8:56 am

    जिस प्रकार अनूप गुप्ता भ्रष्टचारियों के खिलाफ हल्लाबोल रहे है और एक विशुद्ध पत्रकारिता की अलख जगाये है वह वास्तव में काबिलेतारीफ है। हम सभी पत्रकार बन्धुओं से निवेदन करते है कि वह अनुप जी के रास्ते पर नहीं चल सकते तो कम से कम एक बार थोड़ा सा ही अनुसरण कर लें।

  3. vineet

    August 20, 2014 at 9:01 am

    जिस प्रकार अनूप गुप्ता भ्रष्टचारियों के खिलाफ हल्लाबोल रहे है और एक विशुद्ध पत्रकारिता की अलख जगाये है वह वास्तव में काबिलेतारीफ है। हम सभी पत्रकार बन्धुओं से निवेदन करते है कि वह अनुप जी के रास्ते पर नहीं चल सकते तो कम से कम एक बार थोड़ा सा ही अनुसरण कर लें।
    😡

  4. Rajendra Prasad

    September 18, 2014 at 5:22 pm

    आपके द्वारा प्रकाशित लेख पढ़कर बहुत अच्छा लगा कि कम से कम उन पत्रकार दलालों के बारे में अक्षरश: लिखा गया।नामचीन पत्रकार सिर्फ का सिर्फ दलाली कर रहे उन्हें तो चार लाइन लिखना तक नहीं आता है। उदाहरण की तौर पर तथकथित पत्रकार हेमंत तिवारी का आज तक कोई लेख नहीं पढ़ा पता नहीं किसने अध्यक्ष चुन लिया। क्या शासन स्तर पर दलाल पत्रकारों की जमात खड़ी हो गई ???? राजेन्द्र प्रसाद, सम्पादक, प्रहरी मिमांसा समाचार पत्र लखनÅ :ppbqd

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement