न्यूज चैनलों से हार गया न्यूज चैनलों के संपादकों का संपादक! देखें वीडियो

जाने-माने पत्रकार एनके सिंह ब्राडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन (बीईए) के संस्थापकों में रहे हैं. बीईए के मास्टरमाइंड कहिए या जनक कहिए, एनके सिंह इस संस्था के जरिए टीवी के संपादकों को एक मंच पर लाए. टीवी पर कंटेंट क्या चले, क्या न चले, इसको लेकर ये बॉडी फैसले लेने लगी.

एनके सिंह न्यूज चैनलों के एडिटर्स की संस्था बीईए की तरफ से आम जनता हो या सरकारें, सब तक अपनी बात रखते. एनके सिंह फैक्ट्स के साथ अपनी बात रखने के लिए जाने जाते हैं. अब यही एनके सिंह न्यूज चैनलों के संपादकों से निराश हैं.

एनके सिंह ने अपनी पीड़ा-व्यथा का सार्वजनिक इजहार आजमगढ़ महोत्सव में मीडिया केंद्रित परिचर्चा के दौरान किया. एनके सिंह कभी इतने निराश नहीं थे. एनके सिंह टीवी मीडिया पर आरोप लगाने वालों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए जाने जाते रहे हैं. पर अब एनके सिंह खुद मान चुके हैं वे हार गए हैं.

वे मानते हैं कि टीवी चैनलों और इसके संपादकों को जवाबदेह न बना पाए. एनके सिंह आज के टीवी संपादकों के दिल-दिमाग पर भी सवाल उठाते हैं. इनके पढ़े-लिखे होने पर सवाल उठाते हैं. ये पूरा वीडियो मीडिया से जुड़े लोगों और मीडिया में रुचि रखने वाले नागरिकों के लिए जरूर देखने-सुनने योग्य है.

न्यूज चैनलों से हार गया न्यूज चैनलों के संपादकों का संपादक!

हिंदी न्यूज चैनलों और इसके संपादकों को सुधारते सुधारते थक चुके एक जाने-माने पत्रकार एनके सिंह की पीड़ा सुनेंगे तो आजकल की टीवी मीडिया का असली सच जान जाएंगे. ब्राडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन (बीईए) के संस्थापक, मास्टरमाइंड, जनक एनके सिंह बीईए की तरफ से आम जनता हो या सरकारें, सब तक अपनी बात पूरी दबंगई और फैक्ट्स के साथ रखते थे. टीवी चैनलों को प्रोटेक्ट करते थे. अब यही एनके न्यूज चैनलों के संपादकों से निराश हैं. उन्होंने अपनी पीड़ा-व्यथा का सार्वजनिक इजहार आजमगढ़ महोत्सव में मीडिया केंद्रित परिचर्चा के दौरान किया. एनके सिंह टीवी मीडिया पर आरोप लगाने वालों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए जाने जाते रहे हैं. पर अब एनके सिंह खुद मान चुके हैं वे हार गए हैं. वे मानते हैं कि टीवी चैनलों और इसके संपादकों को जवाबदेह न बना पाए. एनके सिंह आज के टीवी संपादकों के दिल-दिमाग पर भी सवाल उठाते हैं. इनके पढ़े-लिखे होने पर सवाल उठाते हैं. ये पूरा वीडियो मीडिया से जुड़े लोगों और मीडिया में रुचि रखने वाले नागरिकों के लिए जरूर देखने-सुनने योग्य है.

Posted by Bhadas4media on Wednesday, December 25, 2019

इसे भी पढ़ें-देखें-

न्यूज24 पत्रकार राजीव रंजन सिंह बोले- हिंदी न्यूज चैनल उम्र की 19 साल की दहलीज पर पहुंच कर लड़खड़ा रहे, देखें वीडियो




भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code