आरसी शुक्ला ने आजतक छोड़ा, बने आईबीएन7 के एक्जीक्यूटिव एडिटर

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के तेजतर्रार पत्रकार आरसी शुक्ला ने देश के नंबर वन चैनल आजतक से इस्तीफा दे दिया है। आजतक के मैनेजिंग एडिटर सुप्रिय प्रसाद के बेहद करीबी माने जाने वाले आरसी अब मुकेश अंबानी के चैनल आईबीएन-7 के एक्जीक्यूटिव एडिटर के तौर पर बहुत जल्द ही ज्वाइन करेंगे। पता ये भी चला है कि बतौर एक्जीक्यूटिव एडिटर आरसी चैनल के लुक एंड फील और कंटेट पर पूरी नजर रखेंगे। खबरों के मुताबिक आरसी शुक्ल बहुत मजबूत स्थिति में आईबीएन7 जा रहे हैं । माना जा रहा है उन्हें ढेर सारे अधिकार दिए जाने वाले हैं।

आरसी शुक्ला इससे पहले करीब तीन साल तक आजतक में एसोसिएट एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर के तौर पर आउटपुट में थे। आरसी इससे पहले भी आजतक में लंबी पारी खेल चुके हैं। आरसी आउटपुट के मास्टर माने जाते हैं। खबरों की प्लानिंग और तेजी के साथ खबरों को ऑन एयर करने में उन्हें महारत हासिल है। आरसी टेलीविजन पत्रकारिता की तमाम बारीकियों से वाकिफ हैं। आरसी शुक्ला का टेलीविजन पत्रकारिता में करीब 16 साल का अनुभव है। तीन साल उन्होंने सहारा समय में काम किया।

आजतक में अपनी पहली पारी में उन्होंने बतौर प्रोड्यूसर, एसोसिएट सीनियर प्रोड्यूसर करीब पांच साल काम किया। आरसी शुक्ला ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में रिपोर्टिंग भी की है। सहारा समय में उन्होंने चंडीगढ़ ब्यूरो चीफ के तौर पर भी काम किया था। इसके बाद उन्होंने आजतक ज्वाइन कर लिया था। आजतक में पांच साल काम करने के बाद आरसी ने सितंबर 2007 में सुप्रिय प्रसाद के साथ न्यूज 24 ज्वाइन किया था जहां वो डिप्टी एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर बने। न्यूज 24 में साढ़े तीन साल काम करने के बाद आरसी महुआ न्यूज में एक्जीक्यूटिव एडिटर के पद पर ज्वाइन किया, जहां उन्हें इनपुट हेड का प्रभार सौंपा गया। जब यूपी चैनल लांच हुआ, तो आरसी शुक्ला महुआ यूपी न्यूजलाइन के चैनल हेड भी बने। महुआ के बाद आरसी अक्टूबर 2012 में फिर आजतक लौट आए।

आरसी शुक्ल के पास अनुभव और तेजी दोनों है। उन्होंने सहारा, न्यूज 24 और महुआ न्यूज में एंकरिंग भी की है। महुआ में आरसी बहस लाइव के नाम से एक टॉक शो भी होस्ट करते थे। आरसी शुक्ला के आने से उमेश उपाध्याय की टीम को मजबूती मिलेगी। टीआरपी में नौवें नंबर पर पहुंच चुके आईबीएन-7 में वरिष्ठ सदस्यों की भरमार है, फिर भी चैनल लगातार गिर रहा है। ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि चैनल में टीमों का गठन फिर से होगा, कई वरिष्ठ सदस्यों पर गाज भी गिर सकती है।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *