गौहर रज़ा हैं देशद्रोही कवि! शर्म करो जी न्यूज!!

Vineet Kumar : गौहर रज़ा हैं देशद्रोही कवि! शर्म करो जी न्यूज!! इन दिनों जी न्यूज अफजल प्रेमी गैंग नाम से खबरों की सीरिज चला रहा है. उसने राष्ट्रभक्ति का दायरा इतना संकुचित कर लिया है कि जो सत्ता के साथ नहीं है, जो लंपटता का विरोध करता है, वो इनके हिसाब से देशद्रोही है. प्रतिरोध में अपनी बात कहनेवाले को ये चैनल देशद्रोही का सर्टिफिकेट जारी करने में बहुत ज्यादा वक्त नहीं लगाता.

चैनल पर इनके एंकर अपने व्यावसायिक हितों और सत्ताधारियों के प्रति अपनी जड़ प्रतिबद्धता साबित करने के लिए ऐसी खबरों का लगातार प्रसारण तो कर ही रहे हैं, अपने निजी ट्विटर अकाउंट से भी देश के मीडियाकर्मियों, कलाकारों एवं लेखकों को देशद्रोही करार देने, अश्लील और भद्दी टिप्पणियां करने से बाज नहीं आ रहे. पिछले दिनों रोहित सरदाना और सुधीर चौधरी ने बरखा दत्त को लेकर जितनी भद्दी टिप्पणियां की मसलन वेश्या का बाजार जब मंदा पड़ जाता है तो वो कोठे से उतरकर सड़कों पर आकर ग्राहक खोजने लग जाती हैं, बरखा दत्त उसी तरह जेएनयू चली गईं आदि-आदि.

चैनल, वेबसाइट से लेकर निजी अकाउंट से अश्लीलता, अमानवीय हरकतों को प्रोत्साहित करने से लेकर लेखकों की जिंदगीभर की साख को दर्शकों के सामने खत्म करने का कुचक्र किस तरह ये चैनल रच रहे हैं, इसके शिकार कवि गौहर रजा भी हुए हैं. चैनल ने अपने अफजल प्रेमी गैंग सीरिज में इन्हें भी देशद्रोही बता दिया. अगर देशभक्ति की भाषा और उसकी परिभाषा यही है तो हम इस जी न्यूज की इस परिभाषा के प्रति अपनी गहरी असहमति व्यक्त करते हैं.

युवा मीडिया विश्लेषक विनीत कुमार के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “गौहर रज़ा हैं देशद्रोही कवि! शर्म करो जी न्यूज!!

  • मयंक पाण्डेय says:

    विनीत जी आप भी मानसिक संतुलन खोते जा रहे हैं। मैने भी देखी थी पूरी खबर। उसमें कहीं भी गौहर रज़ा को देशद्रोही नहीं बताया गया था। अभिव्यक्ति की आज़ादी को लेकर खबर थी कि देखिये क्या क्या बक रहे हैं गौहर साहब अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर। इसका जवाब भी वहां कई कवियों ने दिया था। ज़रूरत से ज्यादा बकवास हो रही है बहुमत की सरकारों के बारे में। अब और क्या क्या बकना चाह रहे हैं। केजरीवाल को तो चुटकुले का पात्र बना डाला है आप लोगों ने। जनता ने पांच साल के लिए चुना है मोदी को भी और केजरीवाल को भी। थोड़ा खामोश भी रह लीजिए।

    Reply
  • Surendra Kumar says:

    विनीत कुमार जी आपने बिल्कुल सही कहा है , इस पर जल्दी रोक लगनी चाहिए

    Reply
  • BHAI SAAB KYA DESH KE TUKDE KARNE, NARE LAGANE KE BAT KARNE WALO KA SUPPORT KARNE WALON KO KITNE PAISE ISI SE MILE HAIN WO BHI PATA KAR LO? …. gen vk singh story mein us samai ke satta dhari party ne 5000 cr khaye isi se ye sabhi jante hai…. kya desh se bara koi hai…? pakisthan ka support karna band karo…. es desh mein hum bhi rahte hai…..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *