मुफ्त खाने, गिफ्ट पाने, फोटो खिंचाने वाले फर्जी पत्रकार इसे पढ़ लें!

लाल घेरे में फर्जी पत्रकार आशीष जॉन

दिल्ली में फाइव स्टार होटलों में मुफ्त में खाना तोड़ने, गिफ्ट लेने और नेताओं-अभिेनेताओं-क्रिकेटरों आदि सेलीब्रेटीज के साथ फोटो खिंचाने, सेल्फी लेने वाले फर्जी फोटो जर्नलिस्ट को पुलिस ने पकड़ लिया है. ये फर्जी फोटो जर्नलिस्ट इन्हीं आयोजनों में चोरी भी कर लेता था. वह सेलेब्रिटी के साथ फोटो खिंचवाने के बाद उनका सामान मोबाइल, पर्स आदि पार कर देता था. इस फर्जी पत्रकार का नाम आशीष जॉन है जिसकी उम्र 25 साल है. यह लड़का बीए तक पढ़ा है. वह खुद को पत्रकार बताता है. इससे पहले उसे वर्ष 2017 में पटेल नगर के एक होटल से एक मेहमान का मोबाइल फोन चुराते समय गिरफ्तार किया गया था.

आशीष मोती नगर इलाके में अकेला रहता है. उसके माता-पिता मर चुके हैं. उसके परिवार में और कोई नहीं है. उसकी शादी भी नहीं हुई है. उसे सेलेब्रिटीज के साथ फोटो खिंचाने का शौक है. इसके लिए वह कभी कैमरा, तो कभी माइक लेकर खुद को पत्रकार या फोटोग्राफर या वीडियो पत्रकार बताकर दिल्ली के फाइव स्टार होटलों में घुस जाता था.

दिल्ली पुलिस ने जानकारी दी कि पांच सितारा होटलों में होने वाली पेज-3 पार्टियों में एक युवक पत्रकार बनकर जाता था और इंटरव्यू के बहाने बॉलीवुड सितारों, क्रिकेटरों, सहित अन्य सेलेब्रिटीज से मिलता था. इस दौरान वह उनके साथ फोटो खिंचाता था. मौका मिलते ही इसी बीच वह सामान चोरी कर फरार हो जाता था. कई घटनाएं होने के बावजूद किसी ने भी उसके खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं कराई क्योंकि सब मानते थे कि वह पत्रकार है और घटिया हरकत कर गया. पुलिस को इस बारे में जानकारी मिली तो कुछ पांच सितारा होटलों में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज के जरिये आशीष की पहचान की गई.

आशीष का आपराधिक रिकॉर्ड खंगाला गया तो पता चला कि दो वर्ष पहले पटेल नगर थाना पुलिस उसे चोरी के एक मामले में गिरफ्तार कर चुकी है. इसके बाद पुलिस ने होटल के सुरक्षाकर्मियों को इस शख्स से सतर्क रहने को कहा. बृहस्पतिवार को आशीष एक कार्यक्रम में जाने के लिए ली-मेरीडियन होटल पहुंचा. अंदर घुसने के प्रयास के दौरान सुरक्षाकर्मियों ने उसे पहचान लिया. सुरक्षाकर्मियों ने उसे अंदर जाने से रोक दिया. इस पर आशीष जान ने खुद को एक टेबलॉयड का फोटोग्राफर बताकर धौंस जमाने लगा. सुरक्षाकर्मियों ने तब तक पुलिस को सूचित कर दिया था. पुलिस पूछताछ में वह संतोषजनक जवाब न दे पाया. इसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया. हालांकि उसे कुछ ही देर बाद जमानत मिल गई. उस पर जान बूझकर अपनी असली पहचान छुपाने की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

देखें इस घटनाक्रम से संबंधित मीडिया कवरेज-

पत्रकार के सवाल पर अखिलेश यादव ने आपा खोया

पत्रकार के सवाल पर अखिलेश यादव ने आपा खोया

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಮಂಗಳವಾರ, ಏಪ್ರಿಲ್ 23, 2019



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

One comment on “मुफ्त खाने, गिफ्ट पाने, फोटो खिंचाने वाले फर्जी पत्रकार इसे पढ़ लें!”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code