भास्कर वालों ने महिला के मरने पर उसे चरित्रहीन लिख दिया, परिजनों ने ठोंका संपादकों पर मुकदमा

अखबार वाले किस कदर संवेदनहीन होते जा रहे हैं, इसके उदाहरण तो आए दिन मिलते रहते हैं लेकिन राजस्थान के भीलवाड़ा में एक ऐसा मामला हुआ है जिसे सुनकर पूरे पत्रकार समुदाय का सिर शर्म से झुक जाता है. दैनिक भास्कर वालों ने एक महिला के मरने के बाद उसे चरित्रहीन और व्यभिचारी बताने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ा. इससे नाराज परिजनों ने अखबार के संपादकों पर मुकदमा ठोंका है और कड़ी से कड़ी कार्रवाई की अपील की है.

परिजनों ने भीलवाड़ा एडिशन के पत्रकारों ओम प्रकाश शर्मा, संजय शर्मा और श्यामलाल शर्मा के खिलाफ भीलवाड़ा स्थित अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में परिवाद दायर किया है जिसे सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया गया है. शिकायत की इस कापी को हम नीचे दे रहे हैं, जिसे पढ़कर पूरे प्रकरण को समझा जा सकता है.


आईनेक्स्ट वालों ने समाजसेविका पर किस तरह लांछन लगाया और समाजसेविका ने कैसे आई-नेक्स्ट वालों को सबक सिखाया, जानने के लिए नीचे क्लिक करें >

समाज सेविका ने आई-नेक्स्ट वालों को सबक सिखाया

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएंhttps://chat.whatsapp.com/BPpU9Pzs0K4EBxhfdIOldr
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Comments on “भास्कर वालों ने महिला के मरने पर उसे चरित्रहीन लिख दिया, परिजनों ने ठोंका संपादकों पर मुकदमा

  • Asif Ansari says:

    इस संपादक श्याम शर्मा को तो इस हरकत के लिए बीच चौराहा पर ले जाकर नंगा करके पीटाई करनी चाहिए। क्योंकि देश तो औरती की इज्जत करता है और ये जनाब उनके ऊपर ही लांचन लगा रहे है। शर्म आनी चाहिए ऐसे संपादक को

    Reply
  • Sandeep Goutam(Jaipur) says:

    यह बहुत शर्म नाक बात है। अखबार का काम होता है सत्य रहस्यियों को उजागर करना न की कत्ल हुई महिला के चरित्र पर दाग लगाना। कोई अधिकार नहीं इस तरह की हरकत करना का। आप अखबार के मालिक हो तो किसी के बारे में उलटा-सीधा नहीं छापना चाहिए। अपनी मर्जी के मालिक खुद ही बन रहे हो।
    इन सब में सबसे बड़ा सवाल यह है कि यदि इस पीड़िता के जगह अगर आप की बेटी होती तो क्या अाप यही हरकत करते……. शर्म आनी चाहिए भास्कर वाले लोगों को

    Reply
  • क्या बात है भड़ास वालो को भी सहारा से पैसा मिल गया है क्या कोई खबर नहीं छपता है

    Reply
  • अभी पिछले सैटरडे २ अप्रैल को मुंबई सहारा यूनियन से विशाल मोरे व् मिश्रा को नॉएडा सहारा के ऑफिस में मिस्टर उपेंद्र राय से मिलने को आया था पता नहीं क्या बात हुआ. लकिन कुछ तो हुआ वो ऐसे की विशाल मोरे य मिश्रा का जाने के बाद उपेंद्र राय ने विजय राय को बुलाया था ओर करीबन २ से ३ घंटा दोनों मैं बात हुआ था. अब मुंबई मैं कर्मचारियो के खिलाफ विशाल मोरे व् मिश्रा मिल कर क्या पका रहा हों यह तो आने वाला समय ही बताएगा इतना तो तय है की मुंबई के यूनियन भी उपेंद्र के हाथ बिक गया गया है नॉएडा ऑफिस मैं भी कुछ ठीक नहीं चल रहा है नॉएडा मैं तो उपेंद्र य विजय राय ने मिलकर कर्मचारियो मैं फुट ढाल दिया है तो यहाँ तो कुछ होने वाला नहीं.

    Reply
  • अभी पिछले सैटरडे २ अप्रैल को मुंबई सहारा यूनियन से विशाल मोरे व् मिश्रा को नॉएडा सहारा के ऑफिस में मिस्टर उपेंद्र राय से मिलने को आया था पता नहीं क्या बात हुआ. लकिन कुछ तो हुआ वो ऐसे की विशाल मोरे य मिश्रा का जाने के बाद उपेंद्र राय ने विजय राय को बुलाया था ओर करीबन २ से ३ घंटा दोनों मैं बात हुआ था. अब मुंबई मैं कर्मचारियो के खिलाफ विशाल मोरे व् मिश्रा मिल कर क्या पका रहा हों यह तो आने वाला समय ही बताएगा इतना तो तय है की मुंबई के यूनियन भी उपेंद्र के हाथ बिक गया गया है नॉएडा ऑफिस मैं भी कुछ ठीक नहीं चल रहा है नॉएडा मैं तो उपेंद्र य विजय राय ने मिलकर कर्मचारियो मैं फुट ढाल दिया है तो यहाँ तो कुछ होने वाला नहीं.

    Reply
  • Hitesh Mehta(Gujrat) says:

    Bhaskar vale sab aese Hi hote h.
    Es tarah nari ka apman krne se aapka akhbar mahan ho rha h…ramesh g agarwal ko aese karmchari ko turant hata dena chhiye.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *