कोरोना इंपेक्ट : आउटलुक बंद, इंडिया टुडे का डिजिटलाइजेशन, एक्सप्रेस ग्रुप में सेलरी कट

कोरोना ने प्रिंट मीडिया की कमर तोड़ दी है. छोटे मझोले अखबार धड़ाधड़ बंद हो रहे हैं. बड़े ग्रुपों की मैग्जीन्स पर भी गाज गिरने लगी है. अंग्रेजी की वीकली पत्रिका आउटलुक का प्रकाशन बंद करने का फैसला ले लिया गया है. इस बाबत आउटलुक के एडिटर-इन-चीफ रूबेन बनर्जी ने एक आंतरिक पत्र जारी किया है. बंदी के पीछे वजह मैगजीन को डिस्ट्रीब्यूट न कर पाना बताया गया है. इसके अलावा स्वास्थ्य कारणों (मैग्जीन की प्रिंटिंग-डिस्ट्रबीब्यूशन से कोरोना फैलने का अंदेशा) के चलते भी बंदी का निर्णय लिया गया है.


उधर, इंडिया टुडे मैग्जीन के बारे में खबर है कि इसका डिजिटल अंक भी छपेगा. साथ ही प्रिंट वर्जन का प्रकाशन भी जारी रहेगा. इस मैग्जीन के कर्ताधर्ता अरुण पुरी ने एक ट्वीट कर बताया है कि इंडिया टुडे पहले की तरह छपती रहेगी. अब मैगजीन का ऑनलाइन और प्रिंट दोनों संस्करण प्रकाशित होगा. देखें ट्वीट-

Aroon Purie
@aroonpurie

In the 44 years of its existence, IndiaToday has never missed a single issue & we are not going to let COVID-19 spoil our record now. We will continue to provide the best analysis week after week.

Beginning this week, we have decided to publish the magazine online, along with a version in print. Do log on to read our coverage on surviving the 21-day Lockdown. Also, we are publishing a daily newsletter on the the corona crisis.


इस बीच, एक्सप्रेस समूह से सूचना है कि कोरोना संकट के चलते छाई आर्थिक मंदी से निपटने के लिए ग्रुप ने अपने इंप्लाइज की सेलरी में कटौती का फैसला किया है. एक्सप्रेस ग्रुप के कर्मियों के नाम जारी पत्र में प्रबंधन ने कहा है कि कोरोना संकट से बिजनेस पर बुरा असर पड़ा है. ऐसे में कर्मियों की सेलरी में कुछ वक्त के लिए कटौती करने का फैसला लिया गया है.

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *