Connect with us

Hi, what are you looking for?

प्रिंट

हाल-ए-सहारा : जो गए सो भले, जो रह गए, वो खाली हाथ खटते-खटते मरें

भोपाल गैस त्रासदी के बाद वहां से लौटे किसी पत्रकार ने बचे लोगों की दुर्दशा पर यही कहा था। आज यह बात सहारा में काम करने वाले हर कर्मचारी पर अक्षरश: लागू होती है, चाहे वह किसी भी विभाग का हो, बस शर्त ये है कि वह कर्मचारी हो और वह भी छोटे पद का।

भोपाल गैस त्रासदी के बाद वहां से लौटे किसी पत्रकार ने बचे लोगों की दुर्दशा पर यही कहा था। आज यह बात सहारा में काम करने वाले हर कर्मचारी पर अक्षरश: लागू होती है, चाहे वह किसी भी विभाग का हो, बस शर्त ये है कि वह कर्मचारी हो और वह भी छोटे पद का।

उदाहरण के तौर पर मीडिया को ही लें। एक साल में आधे से ज्यादा लोग इस तथाकथित परिवार को छोड़कर चले गए, वो जहाँ हैं, सुखी हैं। जो नहीं गए, अपना परिवार मान कर रुके हैं, वे मर रहे हैं। काम दुगना नहीं, चार गुना बढ़ गया है। इसके उत्पाद राष्ट्रीय सहारा की बात करें तो हर यूनिट में, हर डेस्क पर लोग एक चौथाई रह गए हैं। हर स्तर पर लोग कम हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

मसलन, रिपोर्टर कम हैं तो रूटीन तक की खबरें छूट रही हैं। पेट्रोल और मोबाइल का खर्च नहीं मिल रहा है तो लोग फील्ड में नहीं जा रहे हैं। प्रेस रिलीज से पन्ने भरे जा रहे हैं। खबरें रिराइट होने का हाल ये है कि शब्द तक ठीक नहीं किये जा रहे हैं। काम इतना है कि लोग दो तीन दिन बाद बिस्तर पकड़ ले रहे हैं। प्रबंधन ने हर अखबार निकालते रहने को ‘नाक का बाल’ बना लिया है। कोई भी संपादक न पेज कम कर रहा है, न संस्करण। कर्मचारी मरें तो मरें अपनी बला से।

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement