‘आईनेक्स्ट’ की खबर पर पाठक ने संपादक को भेजी लानत और जमकर लगा दी फटकार

मंगलवार को दैनिक जागरण के ‘बच्चा अखबार’ आईनेक्स्ट ने तो हद ही कर दी। कल उत्तर प्रदेश के डीजीपी ए.के. जैन को एक्सटेंशन मिला। सभी अखबारों में बड़ी-बड़ी खबरें छपीं, लेकिन आईनैक्स्ट लखनऊ ने लिखा है कि आज़ादी के बाद ये पहले ऐसे डीजीपी हैं, जिन्हें एक्सटेंशन मिला है।

एक पाठक ने भड़ास4मीडिया को प्रेषित पत्र में त्रुटि छापने वाले संपादक को धिक्कारते हुए लिखा है कि ”इतनी बड़ी गलती, कृपया लिखने से पूर्व जाँच पड़ताल कर लिया करें। आपको इस गलती के लिए माफीनामा छापना चाहिए अन्यथा मैं कोर्ट के माध्यम से आपको नोटिस भिजवा कर माफीनामा छपवाऊंगा। बहुत ही शर्मनाक है। लानत है ऐसे जर्नलिज्म पर। जब खुद आपको जानकारी नहीं तो कृपया आज के युवाओं को भ्रमित न करें।”

हर कोई जनता है कि ये दूसरे ऐसे अधिकारी हैं, जिन्हे एक्सटेंशन मिला है। सबसे पहले श्रीशचन्द्र दीक्षित को एक्सटेंशन मिला था। दैनिक जागरण में भी लिखा गया है कि ये दूसरे उच्चाधिकारी हैं, जिन्हें एक्सटेंशन मिला। इसके अलावा टाइम्स इंडिया, अमर उजाला आदि में भी सूचना इसी तरह की है। 

एक पाठक द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Comments on “‘आईनेक्स्ट’ की खबर पर पाठक ने संपादक को भेजी लानत और जमकर लगा दी फटकार

  • BAREILLY ME 10 DECEMBER KO YE REACTION THA–aakhir en bachchon ki kya khata thi jo I-NEXT bareilly edition me beizzat kiya gaya. en masoomo pr eska kya asar hoga eska ilm hai es khabar ko prakashit krne walon ko. kya ye tathakathit journalist jaante hain BAAL ADHIKAAR SANRAKSHAN ADHINIYAM. i-next upper middle class ka karola akhbaar hai jise gareebi ya lower class culture ka mazak udane me koi hichak nahi lagti. bareilly edition ke sampadak se aam logon me bole jaane wale shabd poochh liye jaaye to bagle jhaakte nazar aayenge. RTE ka matlab bhi shayad he jaante ho. RTE kehta hai ki bachhe ke sath koi aisa behav na kiya jaaye jisse uske mann pr vipreet prabhav pade, aur aapne kya kiya. 5 bachchon ka unki society me mazak udaya. saadiya naam ki bachchi ki jagah aapki bachchi hoti tab samajh paate shayad. desh ka sabhya naagrikon ko es khabar ko BHAVISHYA SE KHILWAD ghoshit kr kaanooni krwai ki maang krna chahiye. galti ka ehsaas ho to apne he akhbaar me i-next ke zimmedar logon ko apni photo chhapkar maafi maangna chahiye jisse baqi journalism badnaam na ho. es maamle pr muqadme ki bhi gunjaish banti

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *