चोरी-तस्करी के दम पर खरबपति बन जाने के बावजूद ‘महान चिरकुट प्राणी’ बना रहा किशोर वाधवानी, देखें ये पत्र

इंदौर का गुटखा माफिया और दबंग दुनिया अखबार का मालिक किशोर वाधवानी पैसे के अंबार पर सोने के बावजूद दिल दिमाग से बेहद नीच किस्म का आदमी रहा है. वह हर एक के हक का जेनुइन पैसा मारने की फिराक में लगा रहता था.

दबंग दुनिया अखबार शुरू कराने वाले वरिष्ठ पत्रकार अतुल पाठक के पत्रकार पुत्र ने एक पत्र रिलीज किया है. इस पत्र में उन्होंने बताया है कि कैसे किशोर वाधवानी उनके पिता को इमोशनल ब्लैकमेल कर मुफ्त में काम कराता रहा और सारा मेहनताना हड़प गया.

इंदौर के पत्रकार अशोक रघुवंशी लिखते हैं-

किशोर वाधवानी ने दबंगई से दबंग दुनिया अखबार पर कब्जा जमाया। जिसके नाम से टायटल था उसे भी नही छोड़ा। वरिष्ठ अधिमान्य पत्रकार स्वर्गीय श्री अतुल पाठक जी के बेटे समीर पाठक (पत्रकार) ने शिकायत दर्ज करवाई है। उन्होंने लिखा है कि उनके पिता ने ही दबंग दुनिया की स्थापना की थी।

2011 में किशोर वाधवानी ने दबंग दुनिया पब्लिकेशन लिमिटेड कंपनी खोल टाइटल अपने नाम करवा लिया था। इसमें स्वर्गीय अतुल पाठक जी का मानदेय पचास हजार रुपए मासिक निर्धारित किया गया। लेकिन आठ वर्ष तक मानदेय दिए बगैर सेवाएं लेते रहा। 16 oct 2018 को अतुल पाठक की मौत के बाद भी मानदेय नहीं दिया गया। समीर पाठक द्वारा इंदौर के कलेक्टर, dig, ig, मुख्यमंत्री तक को शिकायत कर दबंग दुनिया का लायसेंस निरस्त करने व उनके पचास लाख रुपए की वसूली के लिए निवेदन किया गया है।

पत्रकार समीर पाठक का पत्र पढ़िए और किशोर वाधवानी की चिरकुटई का अंदाजा लगाइए-

इन्हें भी पढ़ें-

‘आपरेशन कर्क पार्ट-2’ भी शुरू, गुटखा माफिया वाधवानी सिगरेट तस्करी का भी मास्टरमाइंड था!

शिकंजे में फंसता जा रहा है ये चोर अखबार मालिक!

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *