प्रयुक्ति अखबार का मालिक संपथ कुमार तो महाठग निकला, पढ़िए इस फ्रॉड की गिरफ्तारी की कहानी

Mukund Mitr : संपथ कुमार गिरफ्तार… दिल्ली में पत्रकारों, प्रिंटर्स और अन्य का करोड़ों रुपये मार जाने वाला प्रयुक्ति का मालिक संपथ कुमार सूरप्पगारि आखिरकार आंध्र प्रदेश में चढ़ा पुलिस के हत्थे। यह व्यक्ति दिल्ली से प्रयुक्ति (हिंदी दैनिक अखबार निकालता है। यह पत्रकारों और प्रिंटर्स समेत तमाम लोगों का करीब 80 लाख रुपये मार चुका है।

इसके लाखों रुपये के चेक बाउंस हो चुके हैं। कुछ लोगों ने अदालत का दरवाजा भी खटखटाया है। उनमें मैं भी हूं। इस व्यक्ति ने मुझे भी स्थानीय संपादक होने के नाते तीन माह की सेलरी का चेक दिया था। वह बाउंस हो चुका है। पीएफ के पैसे का चेक भी बाउंस हो चुका है। हैदराबाद के साक्षी डाट काम में इस खबर का प्रकाशन 12 मार्च 2019 को हुआ है। पढ़ें पूरी खबर…

Mukund Mitr : संपथ याद कर। तेरा यह फोटो प्रेमचंद गुप्ता के चेक बाउंस प्रकरण पर भड़ास 4 मीडिया में प्रसारित हुआ था। इस फोटो को भड़ास से हटवाने के लिए तूने कितनी चिरौरी की थी। अब तू गिरफ्तार हुआ है तो यह फोटो याद आ रहा है। तूने दिल्ली में क्या क्या किया है। यह खुलासा दिल्ली पुलिस जल्द करेगी।

हैदराबाद : तेलंगाना पुलिस ने नकली आईएएस अधिकारी बनकर ठगी करने वाले एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है, जो लोगों को तरह तरह से ठगा करता था। हैदराबाद की चादरघाट पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बताया जा रहा है कि स्थानीय मंदिर समिति के प्रतिनिधियों ने वारंगल जिले व मेडिपल्ली के रहने वाले संतोष कुमार की शिकायत की थी कि वह उसको झांसा देकर पैसे ऐंठ लिए हैं। इसी के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है। जानकारी के अनुसार, संपत कुमार खुद को आईएएस अधिकारी व संसद सहायक प्रशासनिक अधिकारी बताते हुए 30 लोगों से लगभग ₹6 करोड़ का चूना लगा चुका है। वह तरह -तरह तमाम हथकंडे इस्तेमाल करके लोगों को ठगा करता था। खुद को आईएएस अधिकारी बताकर वह मंदिर के विकास के लिए 3 करोड़ रुपए दिलाने की बात कर रहा था और इसके बदले उनसे पैसे की मांग किया था। इसकेे लिए मंदिर प्रबंधन से एक करोड़ से अधिक रुपए वसूल लिए थे। काफी दिनों तक आनाकानी करने के बाद शिकायतकर्ता ने चादरघाट पुलिस से संपर्क किया और इसके बाद पुलिस ने कार्यवाही करते हुए दिलसुख नगर से संपत कुमार को गिरफ्तार किया। इसके बाद उसके पास से एक लैपटॉप, दो सेलफोन, सोने के आभूषण, 5 डेबिट कार्ड और फर्जी आईएएस अधिकारी का पहचान पत्र भी बरामद किया है। बाद में उसे अदालत में पेश कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

दिल्ली में इसका दूसरा सहयोगी विनय कुमार गुली है। यह भी वहीं का रहने वाला है। एक और सहयोगी राव है। यह दिल्ली का रहने वाला है। इसके गुनाहों की परत-दर-परत खुलने लगी है। संपथ तू कानून से बड़ा नहीं है। आखिर हथकड़ी लग ही गई ना। तू नोएडा के सेक्टर20 थाने से जरूर बच निकला पर अब कहां कहां बचेगा। हैदराबाद पुलिस ने तेरा पूरा कच्चा चिट्ठा दिल्ली पुलिस के पास भेज दिया है। कितने आफिस बदलेगा। करोलबाग, इसके बाद नोएडा और इसके बाद नेताजी सुभाष पैलेस….अब बचकर कहां जाएगा।

प्रयुक्ति अखबार के संपादक रह चुके पत्रकार मुकुंद मित्र की एफबी वॉल से.

राजदीप सरदेसाई, आशुतोष, राघव बहल, जमशेद जैसों ने इस डॉक्टर की ज़िंदगी तबाह कर दी

राजदीप सरदेसाई, आशुतोष, राघव बहल, जमशेद जैसों ने इस डॉक्टर की ज़िंदगी तबाह कर दीxxx(एक न्यूज चैनल ने कैसे एक डाक्टर के जीवन और करियर में जहर घोल दिया.. इसे जानने के लिए इस इंटरव्यू को शुरू से आखिर तक देखें-सुनें.)

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಬುಧವಾರ, ಮಾರ್ಚ್ 13, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “प्रयुक्ति अखबार का मालिक संपथ कुमार तो महाठग निकला, पढ़िए इस फ्रॉड की गिरफ्तारी की कहानी

  • लो इसके बारे में और पढ़ो….नंबर एक का हरामखोर है यह….अब इसके मौजूदा संपादक जी का क्या होगा?
    Hyderabad: Fake officer who duped 20 arrested
    DECCAN CHRONICLE.
    Published Mar 12, 2019, 1:52 am ISTUpdated Mar 12, 2019, 1:52 am IST

    Impersonating as an IAS officer, man loots Rs 20 crore from people.
    According to the police, Sampath Kumar had prepared a fake identity card of a central government employee and with the help of advocate G. Venkanna, who is absconding, prepared government orders with the help of which he duped 20 people. (Representational Image)
    According to the police, Sampath Kumar had prepared a fake identity card of a central government employee and with the help of advocate G. Venkanna, who is absconding, prepared government orders with the help of which he duped 20 people. (Representational Image)
    Hyderabad: A fake IAS officer was arrested by the Chaderghat police on Monday. He had allegedly duped 20 people and taken Rs 6 crore, in the name of offering land, money and jobs.

    The police has identified the accused as Sampath Kumar, 29, a private employee and resident of Medipally.

    According to the police, Sampath Kumar had prepared a fake identity card of a central government employee and with the help of advocate G. Venkanna, who is absconding, prepared government orders with the help of which he duped 20 people.

    The accused was arrested by the Chaderghat Police in Dilsukhnagar on Sunday evening. G. Nagaraju, Inspector of police, Chaderghat, said, “The accused hatched a plan and offered land in Jubilee Hills to the customers who were willing to afford it, stating that there was a scheme from the Housing and Urban Development Corporation Limited through which they could get the land at very cheap rates.”

    Previously he used to work as a PRO and by using those contacts; he along with another accused Banerjee, section officer in Parliament ,and one G. Venkanna cheated people.

    Speaking about the modus operandi the police official said, “The accused used to win the confidence of victims by offering some money to the victims initially. He used to impersonate as an IAS officer who was working in Parliament as an assistant and administrator officer (AAO). Believing him, many of the customers gave him money as an advance.”

    The police cracked the case following a complaint from a person who was cheated by the accused for Rs 1.3 crore.

    According to the complaint, the accused impersonated the treasurer of a temple and offered Rs 60,000 as donation for the construction of the temple. The accused cheated the victim stating that he would release Rs 3 crore as funds for the construction of the temple which the victim was building.

    In the same manner he also cheated job aspirants by offering them fake jobs.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *