मीडिया एस्‍थेटिक्‍स : ‘लेने’ और ‘देने’ पर केंद्रित कर दिया राधे मां से बातचीत

मुझे रह-रह कर लगता रहा है कि यह देश अद्भुत है। इस अद्भुत देश में ”राधे मां” नाम की एक अद्भुत महिला के कथित कानूनी अपराध को मीडिया ने जिस तरह से एस्‍थेटिक्‍स के सवाल में तब्‍दील कर डाला है, वह भी अद्भुत है।

एक महिला के पहनावे, सजावे, रहन-सहन, नाचने-गाने और बोलने-बतियाने पर लोग खुलेआम मौज ले रहे हैं। तकरीबन सभी हिंदी चैनलों ने फोन पर इस महिला और किसी व्‍यक्ति के बीच जिस बातचीत को प्रसारित किया है, उसमें स्‍पष्‍टत: यौन-संकेत शामिल हैं। अद्भुत बात है कि ‘लेने’ और ‘देने’ पर केंद्रित यह सुदीर्घ फोन-संवाद चैनलों ने न सिर्फ सुनाया, बल्कि लिखकर भी चलाया है।

सबसे ज्‍यादा अद्भुत इस देश के स्‍त्रीप्रेमी लोग हैं जिन्‍हें सोमनाथ भारती की ”सुंदर महिला” वाली टिप्‍पणी तो सेक्सिस्‍ट समझ में आती है, लेकिन जो ”राधे मां” पर चुप हैं। जिस देश में सैकड़ों की संख्‍या में महाकुंभ में एक साथ उछलते, कूदते, तलवारें भांजते और नहाते नंगेपुंगे नागा बागाओं को धर्म-अध्‍यात्‍म का वाहक माना जाता है, वहां कोई स्‍त्री अगर धर्म के नाम पर खूबसूरत ठगी कर रही है तो आपको बुरा क्‍यों लग रहा है भाई? 

नंगा बाबा चलेगा लेकिन मिनी पहनने वाली बाबी नहीं? क्‍यों भई? क्‍या इस स्‍त्री के साथ हो रहे सार्वजनिक मज़ाक पर स्‍त्रीवादी सिर्फ इसलिए चुप हैं कि कहीं उन्‍हें अगंभीर न करार दे दिया जाए? और क्‍या वजह है?

अभिषेक श्रीवास्तव के एफबी वाल से

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Comments on “मीडिया एस्‍थेटिक्‍स : ‘लेने’ और ‘देने’ पर केंद्रित कर दिया राधे मां से बातचीत

  • Aparna shrivastava says:

    sahi kaha ye desh ek adbhut desh ban ke reh gaya hein..yaha har koi lootne ko tyar rahate hein or hum jaan bhuj kar lutwaane ko.. ab chahe vo assaram baapu ho ya nirmal baba jab tak in logo ki asliyaat saamne na aaye hum apna ghar pariwaar buddi vivek sb chor kar ese logo ki sharan me jaate hein .. ab radhe maa ko hi ljiye full makeup apne aapko devi batakar har vo esho aaram ke sth aati hein rahati hein jise dekh kar hum sochte hein ki koi devi prakat hui hein. or hum apne bhagwan ko bhul kar sukhvinder kaur tathakathit radhe maa jese aam insaan ko unke
    pahanawe dikhawe r political support ki taakat ke chalte hum kisi ko bhi maa maan lete hein. ab dekhiye na barde barde naami logo ka naam jo aaya hein ki vo log inke paas jaate hein inke bhakt bane hue hein ab uske pichhe political hath hein jisse inka kaam thakathit samay par poora hua hein isse ye sochna bhi ghalat hein ki iske pichhe upar wale ka hath hein. media or vo public jo isse pahale khub bardha charda ke in jese logo ko bardhawa de rahe the aaj jab in jese logo ka sahi se agar tafteesh hota hein to ese logo r media se ye kahana hein ki bina sochhe samjhe na to aap kisi ko itna upar uthaye apne matlab ke liye na apne channel ke vigyapan ke liye kyunki jab sach saamne aata hein tab is sach me aapka bhi barabar ka hissa hota hein
    kyunki ese nakli logo ko jo saamaj ko loot rahe hein unko itna taakat r himmat dene me ye samaaj bhi utna hi zimeedaar hein..ab dekhna ye hein ki ki sach to hame bhi pata hein lekin sach ko sachhai se kese lsaamne laaya jaata hein taki ese logo ko uchhit sajha mile or ese baki logo ko sabak.. esa hona to baht mushkil hein lekin namumkin nahi….

    Aparna shrivastava

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *