पीएम बनने के बाद मोदी का पहला इंटरव्यू लिया सीएनएन चैनल के फरीद जकारिया ने

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका जाने वाले हैं. अमेरिका जाने से पहले उन्होंने आईबीएन7 के सहयोगी चैनल सीएनएन को पीएम बनने के पाद दिए पहले एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में मुसलमानों को लेकर कई बातें कहीं. पीएम बनने के बाद पहली बार मोदी ने किसी चैनल से बात की. ये इंटरव्यू सीएनएन के संवाददाता फरीद जकारिया ने लिया है.  प्रधानमंत्री मोदी के इस एक्सक्लूसिव इंटरव्यू पर आईबीएन7 ने राजनीति से लेकर तमाम क्षेत्र की जानी मानी हस्तियों से चर्चा की. आईबीएन7 के डिप्टी मैनेजिंग एडिटर सुमित अवस्थी ने बीजेपी नेता प्रभात झा, कांग्रेस नेता संजय झा, मोदी समर्थक कारोबारी जफर सरेशवाला और शिया धर्म गुरु कल्बे जव्वाद से चर्चा की. शिया धर्म गुरु कल्वे जब्बाद ने मोदी की तारीफ की, जबकि कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं.

इंटरव्यू में मोदी ने भारत में अलकायदा के नई शाखा खोलने पर कहा कि अलकायदा को लगता है कि वो भारतीय मुसलमान को भड़काकर या किसी और तरीके से अपने पक्ष में कर सकता है को यह उसकी गलतफहमी है. अलकायदा किसी गलतफहमी में न रहे. भारतीय मुसलमान कभी भी अलकायदा का साथ नहीं देगा. भारतीय मुसलमान अपने देश भारत के लिए ही जीता है और देश के लिए ही मरेगा.  मोदी ने कहा कि भारतीय मुसलमानों की देशभक्ति पर कोई सवाल नहीं उठाया जा सकता है. भारतीय मुसलमान अलकायदा के इशारों पर नाचने वाले नहीं है. भारतीय मुसलमान भारत के लिए जीते है, वे भारत के लिए ही मरेंगे. भारतीय मुसलमान कभी भारत की बुरा नहीं चाहेंगे.  यह पूछे जाने पर कि अलकायदा भारतीय मुसलमानों को आकर्षित करने में अब तक क्यों कामयाब नहीं हो रहा, मोदी ने कहा कि हालांकि वह कोई मनोवैज्ञानिक या मजहबी विश्लेषण नहीं कर सकते हैं. पर सवाल यह है कि मनुष्यता बचनी चाहिए या नहीं. उन्होंने कहा कि आतंकवाद मानवता के खिलाफ एक संकट है. यह सिर्फ एक देश या नस्ल के खिलाफ नहीं है.

फरीद जकारिया के सवाल, मोदी के जवाब

ज़कारियाः अमेरिका में बहुत सारे लोग और भारत में भी कुछ ऐसे हैं, जो चाहते हैं कि दोनों देश नजदीक आएं। दुनिया का सबसे पुराना लोकतंत्र और दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र, लेकिन ऐसा नहीं हो सका और हमेशा कठिनाइयां आई हैं। क्या आप मानते हैं कि भारत और अमेरिका वास्तवित रणनीतिक गठबंधन विकसित कर सकते हैं?
 
मोदीः मैं इसका एक शब्द में उत्तर दूंगा और पूरे विश्वास के साथ कहता हूं-हां। मैं विस्तार से कहता हूं- भारत और अमेरिका में कई समानताएं हैं। अगर आप बीते कुछ दशकों में देखेंगे, तो दो बातें सामने आएंगी- अमेरिका दुनिया भर से लोगों को अवशोषित कर लेता है और दुनिया के हर एक हिस्से में  एक भारतीय है। ये दोनों समाज की विशेषता हैं। भारतीय और अमेरिकियों के प्राकृतिक स्वभाव में सह अस्तित्व है। अब हां, बिल्कुल, बीते कुछ दशकों में हमारे संबंधों में उतार-चढ़ाव आए हैं, लेकिन 20वीं सदी के अंत और 21वीं सदी की शुरुआत में, हम बड़े बदलाव के गवाह बनेंगे। हमारे संबंध और गहरे हुए हैं। भारत और अमेरिका इतिहास और संस्कृति से एक साथ बंधे हुए हैं। ये संबंध आगे और गहरे होंगे।
 
जकारियाः अब तक ओबामा प्रशासन के साथ अपनी बातचीत में, आपके कई कैबिनेट सदस्यों यहां आना पड़ा है, क्या आपको लगता है कि वॉशिंगटन की वास्तविक इच्छा काफी हद तक भारत के साथ संबंधों को उन्नत करने की है?
 
मोदीः भारत-अमेरिका के संबंधों को दिल्ली और वॉशिंगटन की सीमा में नहीं देखना चाहिए। यह इससे कहीं ज्यादा बड़े आकार का है। अच्छी बात यह है कि दिल्ली और वॉशिंगटन दोनों का मूड इस समझ के साथ सद्भाव में है। दोनों पक्षों ने इसमें एक भूमिका निभाई है।
 
ज़कारियाः अलकायदा के मुखिया ने एक वीडियो और अपील जारी कर अलकायदा को भारत और दक्षिण एशिया में स्थापित करने की कोशिश की है। उसने कहा है कि वह कश्मीर, गुजरात में उत्पीड़न का सामना कर रहे मुसलमानों को मुक्त करना चाहता है। क्या आपको चिंता है कि वह इसमें सफल हो सकता है?
 
मोदी- मेरी समझ है कि वे हमारे देश के मुसलमानों के प्रति अन्याय कर रहे हैं। अगर कोई सोचता है कि भारतीय मुस्लिम उनकी धुन पर नाचेंगे, तो यह नहीं हो सकता। भारतीय मुस्लिम भारत के लिए जीते हैं और भारत के लिए ही मरेंगे, वे भारत का बुरा नहीं चाहते।
 
ज़कारियाः आपके यहां 170 मिलियन मुसलमान हैं, जो अपने आप में उल्लेखनीय हैं और भले ही अल कायदा के यहां लगभग नहीं या बहुत थोड़े सदस्य हैं जबकि अफगानिस्तान में अलकायदा और बहुत सारे पाकिस्तान में भी, क्या यह इस समुदाय में नहीं है?
 
मोदीः सबसे पहले, मुझे कोई मनोवैज्ञानिक या धार्मिक विश्लेषण करने का अधिकार नहीं है, लेकिन सवाल यह है कि क्या मानवता का दुनिया में बचाव किया जाना चाहिए या नहीं। मानवता में विश्वास करने वाले को एकजुट होना चाहिए। यह मानवता के लिए संकट हैं, किसी एक देश के खिलाफ नहीं। इसलिए हम मानवता और अमानवता से लड़ रहे हैं। और कुछ नहीं।
 



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “पीएम बनने के बाद मोदी का पहला इंटरव्यू लिया सीएनएन चैनल के फरीद जकारिया ने

  • बहुत बड़े चोर गुरु रहें हैं फरीद ज़कारिया.
    दूसरों के पैराग्राफ मारकर अपने नाम से छापते थे. टाइम मैगज़ीन से निलंबित किये गये थे.

    08/20/2012
    NEW HAVEN, Conn. (AP) —
    Zakaria was suspended this month by Time magazine and CNN for lifting several paragraphs from a New Yorker magazine essay and using them in his Time magazine column. Zakaria apologized, calling it a “terrible mistake.”

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code