Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

व्यापमं घोटाले की सीबीआई जांच कराने को तैयार हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान, हाईकोर्ट से करेंगे सिफारिश

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व्यापमं घोटाले की सीबीआई से जांच कराने का घोषणा कर दी है। प्रदेश सरकार इसके लिए हाईकोर्ट में सिफारिश करेगी। गत दिनो इसी घोटाले की कवरेज करने मध्य प्रदेश गए आज तक के रिपोर्टर अक्षय सिंह की संदिग्ध हालात मे जान चली गई थी। अब तक लगभग 46 लोग इस घोटाले के षड्यंत्रकारियों के खूनी कारनामों की भेट चढ़ चुके हैं। चौहान ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर कहा कि मैं रातभर नहीं सोया और जागता रहा। उन्‍होंने कहा कि मेरा निवेदन है कि सीबीआई से जांच कराई जाए। उनका कहना है कि व्‍यापम घोटाले की सीबीआई जांच के लिए वो हाईकोर्ट से अपील करेंगे।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व्यापमं घोटाले की सीबीआई से जांच कराने का घोषणा कर दी है। प्रदेश सरकार इसके लिए हाईकोर्ट में सिफारिश करेगी। गत दिनो इसी घोटाले की कवरेज करने मध्य प्रदेश गए आज तक के रिपोर्टर अक्षय सिंह की संदिग्ध हालात मे जान चली गई थी। अब तक लगभग 46 लोग इस घोटाले के षड्यंत्रकारियों के खूनी कारनामों की भेट चढ़ चुके हैं। चौहान ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर कहा कि मैं रातभर नहीं सोया और जागता रहा। उन्‍होंने कहा कि मेरा निवेदन है कि सीबीआई से जांच कराई जाए। उनका कहना है कि व्‍यापम घोटाले की सीबीआई जांच के लिए वो हाईकोर्ट से अपील करेंगे।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के व्यापमं घोटाले में मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब इस मामले से जुड़े एक कांस्टेबल की मौत हो गयी है। इससे पूर्व कल एक महिला ट्रेनी सब इंस्पेक्टर अनामिका कुशवाहा ने खुदकुशी कर ली थी। उसने सागर में पुलिस एकेडमी के सामने तालाब में कूदकर जान दे दी थी। इसे व्यापम घोटाले से देखा जा रहा है क्‍योंकि भर्ती व्यापमं के तहत ही हुई थी और उसी में घोटाले पर एसआईटी जांच चल रही है। कांग्रेस ने सीएम शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोलते हुए मामले पूरी जांच सीबीआई से कराने की मांग की है लेकिन गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सीबीआई जांच से इंकार करते हुए कहा कि वह मामले में एसआईटी जांच से संतुष्ट हैं,लेकिन अगर कोर्ट का आदेश होगा तो वह जरूर इस पर विचार करेंगे। 

Advertisement. Scroll to continue reading.

प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में उन्होंने कहा कि वह हाईकोर्ट को लेटर लिखकर इस बात का अनुरोध करेंगे कि वह इस मामले की जांच सीबीआई से कराने के आदेश दे। चौहान ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से जो कुछ हो रहा है उससे सवाल खड़े हो रहे हैं। चौहान ने कहा कि सोमवार को पूरी रात मैं सो नहीं सका, मुझे लगा कि सभी संदेहों को दूर किया जाना चाहिए।

चौहान ने कहा, “एसटीएफ जांच कर रही है। कांग्रेस के शासन काल में भर्ती की कोई प्रक्रिया ही नहीं थी। घोटाला सामने आया तो हमने जांच एसटीएफ को सौंप दी थी। हाईकोर्ट ने भी कहा था कि सीबीआई जांच की जरूरत नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने भी जांच को ठीक माना। पिछले दिनों जो वातावरण बना। पूछा जा रहा है कि सीबीआई जांच क्यों नहीं। मैं मानता हूं कि जनता के मन में काफी सवाल हैं। हाल ही में जो मौतें हुई हैं उनकी भी जांच होनी चाहिए।”

Advertisement. Scroll to continue reading.

 समाचार अंग्रेजी में पढ़ें –

Madhya Pradesh chief minister Shivraj Singh Chouhan said on Tuesday he will ask the high court to order a CBI probe into the Vyapam scam after the state government was rattled by a series of mysterious deaths of people with links to the examination and recruitment scandal. “I have full faith in the judiciary but recent events have led to an atmosphere that the investigation should be done by the CBI,” he said, reiterating that a high court-monitored special investigation team (SIT) is already probing the matter.

Advertisement. Scroll to continue reading.

“But the environment that has been created in recent days, questions us (the state government),” Chouhan told a hurriedly convened news conference in Bhopal.Chouhan said he respected “public opinion” and will send a request to the high court in a letter to instruct the Central Bureau of Investigation (CBI) to probe the scam. His comments came a day after Union home minister Rajnath Singh said the government could not order a probe by the central agency till it received an order from the Supreme Court or the Madhya Pradesh high court.

Questions have been raised about the future of Chouhan in the wake of a series of mysterious deaths of witnesses, accused and whistleblowers linked to the scam that involved widespread rigging of tests conducted by the Madhya Pradesh Professional Examination Board (MPPEB) for admission to professional courses and recruitment in government jobs.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : Bhadas4Media@gmail.com

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement