सीबीआई के लगातार तीन निदेशकों का भ्रष्ट पाया जाना गलत चयन प्रक्रिया का प्रमाण है!

मकड़जाल में सीबीआई सर्वोच्च न्यायालय ने सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा को बड़ी राहत देते हुए 77 दिन बाद पुनः अपने पद पर बिठा दिया। यह भी स्पष्ट कर दिया कि ‘विनीत नारायण फैसले’ के तहत सीबीआई निदेशक का 2 वर्ष का निधार्रित कार्यकाल ‘हाई पावर्ड कमेटी’ जिसमें प्रधानमंत्री, विपक्ष के नेता और भारत के …

सुप्रीम कोर्ट द्वारा सीबीआई निदेशक पद पर बहाल आलोक वर्मा इन फाइलों से खेल सकेंगे?

विवाद की जड़ में है हाई प्रोफ़ाइल मामले… उच्चतम न्यायालय ने सीबीआई के निदेशक आलोक कुमार वर्मा को छुट्टी पर भेजने के केंद्रीय सतर्कता आयोग एवं कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) के आदेश को मंगलवार को निरस्त कर दिया। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति के. एम. जोसेफ की पीठ ने …

वर्मा और अस्थाना, घाघ तो दोनों हैं!

वर्मा और अस्थाना। घाघ तो दोनों हैं। अपने-अपने आकाओं के इशारे पर नाचने वाले. सीबीआई में रहकर अपनों पर करम, ग़ैरों पर सितम करने में इतने उलझे कि एक दूसरे का ही सिर फोड़ने पर उतर आए. मगर वर्चस्व की लड़ाई में मीडिया के शातिराना इस्तेमाल के मामले में वर्मा का कोई जोड़ नहीं। कृपया …

सीबीआई अफसर के नए खुलासे से भूकंप, कैबिनेट मंत्री से लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार तक फंसे!

केंद्रीय जांच ब्यूरो के उप महानिरीक्षक एमके सिन्हा का आरोप… आर्थिक अपराधियों को भागने देने के वास्ते सहूलियत देने के तार अजीत डोवल से भी जुड़े…. मोदी सरकार के एक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्री पर एक बड़े व्यापारी को जांच से बचाने के लिए करोड़ों रुपये रिश्वत लेने का आरोप…. सीबीआई अफसर ने हलफनामे के साथ …

मोदी राज की ‘उपलब्धि’! सत्तर साल में पहली बार हुआ है…. केंद्रीय जांच एजेंसी की भी जांच होगी!

Anil Saxena : सीबीआई प्रकरण…. देश की सर्वोच्च जांच एजेंसी की भी अब जांच होगी। सर्वोच्च न्यायालय ने आज रिटायर्ड जज की निगरानी में सीवीसी को 2 हफ्ते में घूसखोरी के पूरे घटनाक्रम की जांच कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया है। नए अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव को कोई भी नीतिगत फैसला लेने पर रोक …

करप्ट CBI का सच सब जान गए… यहां बड़े मामले बेनतीजा रख कर फाइल क्लोज कर दी जाती है!

Paramendra Mohan : भ्रष्टाचार सर्वत्र व्याप्त है, सब जानते हैं, लेकिन सीबीआई में भ्रष्टाचार का मौजूदा खुलासा वाकई देश की आंखें खोलने वाला है। भ्रष्टाचार की जांच करने वाली जांच एजेंसी का खुद हद दर्जे की भ्रष्टाचारी होना एक हिला देने वाला खुलासा है। ऐसा पहली बार हुआ है, जब खुद सीबीआई निदेशक और स्पेशल …

मोदी के मीडिया प्रबंधन पर भारी पड़ा जेटली का मीडिया प्रबंधन : ओम थानवी

Om Thanvi : जेटली पर राहुल के आरोप की खबर नहीं ही दी अखबारों ने… इससे जाहिर है कि जेटली का मीडिया प्रबंध बड़ा गहरे पैठा हुआ है! मोदी का कुछ कमज़ोर पड़ गया है। कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

रॉ, आईबी, ईडी और सीबीआई सब के सब एक दूसरे के पीछे पड़ी हैं : अजीत अंजुम

Ajit Anjum : देश की प्रीमियर एजेंसियों का गजब हाल हो गया है… सरकार ने जिस CBI चीफ को जबरन छुट्टी पर भेजा, उसी घर जासूस तैनात हो गए. धरे गए तो पता चला आईबी वाले थे… सीबीआई के नंबर एक वर्मा के एक के पीछे सरकारी जासूस हैं.. नंबर दो अस्थाना भी छुट्टी पर. …

रवीश कुमार ने पूछा- सीबीआई की ‘पार्वती’ और ‘पारो’ में से किसे चुनेंगे देवदास हुज़ूर!

आपने फ़िल्म देवदास में पारो और पार्वती के किरदार को देखा होगा। नहीं देख सके तो कोई बात नहीं। सीबीआई में देख लीजिए। सरकार के हाथ की कठपुतली दो अफ़सर उसके इशारे पर नाचते नाचते आपस में टकराने लगे हैं। इन दोनों को इशारे पर नचाने वाले देवदास सत्ता के मद में चूर हैं। नौकरशाही …

सीबीआई में गैंगवार की इनसाइड स्टोरी क्या है?

Girish Malviya  सीबीआई : एन इनसाइड स्टोरी… 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को ‘पिंजरे में बंद तोता’ और ‘मालिक की आवाज़’ बताया था. ऐसा नही है कि मोदी राज में कुछ परिवर्तन आया. परिस्थितियां आज भी वही हैं. लेकिन कल एक अभूतपूर्व घटनाक्रम सामने आया है. कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

CBI ने CBI पर रेड मार दी… DSP गिरफ्तार… मोदी के यहां दोनों ‘युद्धरत’ IPS तलब!

Sheetal P Singh : CBI ने CBI पे रेड मारी… सात अजूबे थे दुनिया में… आठवीं अपनी जोड़ी! CBI RAW ED CVC PMO और पुलिस सब दो फाड़. आला अफ़सर एक दूसरे को भ्रष्ट साबित करने में जुटे. ऐसा तमाशा कभी न हुआ. वाह परधान जी वाह. कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सीबीआई में घूसखोरी के भयंकर खुलासे को अखबारों ने भ्रष्टाचार के सामान्य मामले की तरह पेश किया!

इंडियन एक्सप्रेस ने आज पहले पेज पर छह कॉलम में सीबीआई की खबर छापी है जो कल ही सोशल मीडिया पर खूब घूम रही थी। सीबीआई के नंबर वन बनाम नंबर टू के इस मामले में एक्सप्रेस के शीर्षक का हिन्दी होगा, सीबीआई में एक दूसरे पर कीचड़ फेंके गए, दर्जन भर से ज्यादा शिकायतों …

केंद्र का तोता, लगा रहा भ्रष्टाचार में गोता!

Jagdish Jha : केंद्र का तोता, लगा रहा भ्रष्टाचार में गोता… CBI के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना ने रिश्वत का केस दर्ज होने पर कहा- चीफ ने खुद लिए हैं 2 करोड़ रुपये …. मोदी राज में मची है लूट ….जितना सको उतना तू भी लूट….. कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मैंने नहीं, सीबीआई चीफ ने लिए हैं दो करोड़ रुपये : राकेश अस्थाना (स्पेशल डायरेक्टर, सीबीआई)

Sheetal P Singh : सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना ने रिश्वत का केस दर्ज होने पर कहा- चीफ ने खुद लिए हैं 2 करोड़। इस तरह से राकेश अस्थाना (स्पेशल डायरेक्टर सीबीआई) ने अपना पक्ष रखा। वे कैबिनेट सेक्रेट्री को पहले से अवगत कराते रहे हैं कि खुद सीबीआई चीफ एक अभियुक्त से पैसे …

वर्मा को अस्थाना ने ठीक करने की कोशिश की, अस्थाना को वर्मा ने ठीक कर दिया… मोदी देखते रह गए!

Sanjeev Chandan : वर्मा को अस्थाना ने ठीक करने की कोशिश की, अस्थाना को वर्मा ने ठीक कर दिया… मोदी देखते रह गये… सीबीआई के डायरेक्टर आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना की लड़ाई जगजाहिर है. मोदी जी ने गुजरात कैडर के अस्थाना को अपनी खुली कृपा दे रखी थी. इस कृपा का ताप …

देश में वाकई भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्णायक लड़ाई चल रही है मितरों! देखें कुछ सीन

Sulabh Chaturvedi : सीन 1 – पी के मिश्रा (प्रिंसिपल सेक्रेटरी, pmo) राकेश अस्थाना की सीबीआई में नियुक्ति करते हैं। सीबीआई नम्बर 1 आलोक वर्मा इस नियुक्ति के विरुद्ध pmo को पत्र लिखते हैं। कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सीबीआई रिश्वतकांड : छप्पन इंच के गुब्बारे में एक और छेद हो गया मितरों!

Prashant Tandon : छप्पन इंच के गुब्बारे में एक और छेद… मोदी अपने चहेते और सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को सीबीआई प्रमुख नहीं बना पायेंगे. सीबीआई द्वारा अपने ही दूसरे नंबर के अधिकारी के खिलाफ घूसखोरी कांड की एफआईआर में मुख्य अभियुक्त बनाने के बाद ये लगभग तय हो गया है. कृपया हमें …

मोदी के अधीन काम करने वाली CBI ने 600 करोड़ के डिफ़ॉल्टर को विदेश भागने में मदद की!

Samar Anarya : और अब सीबीआई ने एयरसेल प्रमोटर और 600 करोड़ के डिफ़ॉल्टर सी शिवशंकरन के खिलाफ लुक आउट नोटिस हल्की कर उसके विदेश भागने में मदद की। सीबीआई सीधे प्रधानमंत्री मोदी के अंदर काम करती है। कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

CBI में तैनात मोदी के खास अफसर के खिलाफ दो करोड़ रुपये घूस लेने की एफआईआर, मीडिया ने साधी चुप्पी

Sheetal P Singh : CBI ने अपने ही वरिष्ठता क्रम में डायरेक्टर के बाद दूसरे स्थान पर नियुक्त अफसर को दो करोड़ की घूस लेने के आरोप में बुक किया। यह अफसर गुजरात कैडर के आईपीएस हैं और मोदी जी के प्रिय बताए जाते हैं। वर्तमान डायरेक्टर सीबीआई से इनका लंबा विवाद चल रहा है। …

सृजन घोटाले में नेताओं-अफसरों की गिरफ्तारी के लिए वारंट मांगने वाले सीबीआई अधिकारी पर गिरी गाज

नाम है एसके मलिक. सीबीआई में एएसपी हैं. ये बिहार के सृजन घोटाले की जांच करने वाली बीस सदस्यीय सीबीआई टीम के अगुवा हैं. सृजन घोटाला पंद्रह सौ करोड़ रुपये का है और इसमें नेता, अफसर, पत्रकार सब शामिल हैं. कहा जा रहा है कि यह घोटाला चारा घोटाले से भी बड़ा है. इस घाटाले की तह तक जा चुके सीबीआई आफिसर एसके मलिक ने पुख्ता प्रमाण जुटाने और पूछताछ के वास्ते जब सीबीआई कोर्ट से घोटाले में शामिल कुछ नेताओं व अफसरों की गिरफ्तारी के लिए वारंट मांगा तो फौरन उन पर कार्रवाई हो गई. उनका तबादला कर दिया गया.

बैंक वाले, सीबीआई और सिस्टम की कृपा से एक और छोटा-मोटा विजय माल्या जनता का धन हड़पने को तत्पर, जानिए पूरी कहानी

To,
THE EDITOR-IN-CHIEF
Bhadas4Media
India

SUBJECT : SCAM/ECONOMIC OFFENCE IN LOAN DEPARTMENT BY CONSORTIUM BANK AGAINST THE LOAN ACCOUNT OF SHREE SHYAM PULP & BOARD MILLS LIMITED

Respected Sir,

A company namely Shree Shyam Pulp & Board Mills Limited having its manufacturing plant in Kashipur (Uttarakhand) (here-in-after SSPBML) was established by Mr. Naresh Kumar Gupta and presently running by Mr. Naresh Kumar Gupta and his son Amit Kumar alias Amit Gupta. SSPBML is engaged in manufacturing of various kinds of writing and printing papers as well as cardboards, copier and other papers. During their regular course of business, SSPBML applied for loan before the consortium of bank; led by UCO Bank, 5 Sansad Marg, New Delhi, with the heading to EXPAND THEIR PLANT and on this ground the bank passed their loan application and passed their loan without the complete verification of their papers. It is pertinent to mention here that the loan which was granted is of more than Rs. 700 Crores (Seven Hundred Crores Only) but the complete worth of machines are not more than Rs. 200 crore (Rupees Two Hundred Crores) and therefore the disbursed amount is much more than the worth value of the machines.

सीबीआई की एफआईआर में एस्टर स्कूल के मालिक और उनके बेटे के नाम हैं

रजत शर्मा और हेमंत शर्मा (फाइल फोटो)


ये है वो एफआईआर की कापी जिसमें हेमंत शर्मा का नाम सीधे सीधे नहीं है लेकिन इसमें जो दो नाम वीके शर्मा और वैभव शर्मा का है, उनने पूछताछ में हेमंत शर्मा का नाम लिया. इसके आधार पर सीबीआई ने हेमंत को पूछताछ के लिए तलब किया था पर उनके जब हाईप्रोफाइल संबंधों के बारे में पता चला तो उन्हें जाने दिया गया. हेमंत का नाम न तो एफआईआर में आया और न ही फिलहाल कहीं सीबीआई डाक्यूमेंट्स में दर्ज है. कहा जा रहा है कि सीबीआई को जो बयान वीके शर्मा ने दिए, उसमें हेमंत का नाम है. हेमंत का नाम आने के बाद उन्हें इंडिया टीवी ने अपने यहां से हटा दिया.

हाईकोर्ट ने मथुरा जवाहर बाग कांड की सीबीआई जांच के आदेश दिए

लखनऊ : आल इण्डिया पीपुल्स फ्रंट (आइपीएफ) ने मथुरा के जवाहर बाग प्रकरण की सीबीआई से जांच कराने के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश का स्वागत किया है। प्रेस को जारी विज्ञप्ति में आइपीएफ के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व आईजी एस0 आर0 दारापुरी ने कहा कि यदि उच्च न्यायालय अपने अधीन गठित जांच टीम से जांच कराता जिसमें मुख्यमंत्री और उनके कार्यालय की संवैधानिक-प्रशासनिक भूमिका की भी जांच होती तो बेहतर होता।

बोफोर्स फाइल छुपाने के बयान के बाद मुलायम सिंह से पूछताछ करे सीबीआई

मुलायम सिंह ने कहा है कि राजनेताओं पर आपराधिक मुकदमे नहीं चलाये जाने चाहिये. उनके अनुसार इसीलिए भारत के रक्षामंत्री रहते उन्होंने बोफोर्स की फाइल छुपा दी थी. इस कथन से दो निष्कर्ष निकलते हैं. एक तो ये कि नेताजी की जानकारी में था कि कोई राजनेता बोफोर्स में शामिल है और वे उसे बचाना चाहते थे. अच्छा होगा वे उसका नाम देश को बताएं. वर्ना सीबीआई, जिसने इस मामले की जांच की थी, वह उनसे पूछताछ करे.

जानिए, दीपक चौरसिया समेत कई पत्रकारों के खिलाफ सीबीआई ने क्यों दर्ज की एफआईआर

Vishwanath Chaturvedi : धरा बेच देगे, गगन बेंच देगे, कलम बिक चुकी है, वतन बेच देगे! पैसे खाकर फर्जी खबर चलाने के आरोपी दीपक चौरसिया, भूपेंद्र चौबे, मनोज मित्ता सहित अन्य के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज की एफ़आईआर… मुलायम के आय से अधिक संपत्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट में 10 फ़रवरी 2009 को सुनवाई से पहले फर्जी दस्तावेजों के आधार पर मुलायम कुनबे को क्लीन चिट दिए जाने की खबर प्राइम टाइम में प्रमुखता से चलाकर सुप्रीम कोर्ट को गुमराह करने और सीबीआई की इमेज को नुकसान पहुंचाने के आरोप में सीबीआई की डीआईजी रहीं तिलोतिमा वर्मा ने लिखाई एफआईआर.

जानिए, मोदी का मूड बिगड़ा तो किस तरह चौटाला के बगल वाली बैरक में पहुंच जाएंगे मुलायम!

ये ‘सीबीआई प्रमाड़ित ईमानदार’ क्या होता है नेताजी?

सौदेबाज मुलायम का कुनबा 26 अक्टूबर 2007 से वाण्टेड है, क़ानूनी रूप में सीबीआई की प्राथमिक रिपोर्ट के बाद 40 दिनों में एफआईआर हो जानी चाहिए थी. चूँकि सीबीआई सत्ता चलाने का टूल बन चुकी है, सो सीबीआई कोर्ट पहुँच गई एफआईआर की परमीशन मांगने। उस वक्त मुलायम के पास 39 सांसदों की ताकत थी। खुली लूट की आजादी में रोड़ा बन रहे वामपंथियों से मनमोहन का गिरोह छुटकारा चाहता था और अपने आकाओं के इशारे पर हरहाल में न्यूक्लियर डील कराने पर आमादा था।

पर्ल ग्रुप की संपत्तियों की नीलामी के लिए सुप्रीम कार्ट ने कमेटी बनाई

हाल ही में करीब 50,000 करोड़ रूपये की हेराफरी के मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी ने पर्ल ग्रुप के मालिक निर्मल सिंह भंगू को गिरफ्तार किया था. उन पर निवेशकों के साथ धोखाधड़ी का आरोप लगा था. अब खबर आ रही है कि पर्ल ग्रुप की संपत्तियों की नीलामी के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी बना दी है. कोर्ट ने पूर्व जज आर एम लोढा की अध्यक्षता में कमेटी बनाई. सेबी के जरिये लोगों को पैसे लौटाया जाएगा और यह कमेटी इस बात की निगरानी रखेगी कि किस तरह अगले 6 महीनों में लोगों के कर्ज को चुकाया जा सके. सेबी को इस केस से जुड़े सारे दस्तावेज़ इस कमेटी को सौंपना होगा.

मुबारक हो, सीबीआई आजाद हो गई है, यूपी के पॉवरफुल सत्ताधारी नेता का बेटा भी अरेस्ट होगा!

Narendra Nath : मुबारक हो। आज से सीबीआई आजाद हो गया। “पिंजरे में बंद तोता” वह नहीं रहा। अब आकाओं के आदेश की प्रतीक्षा नहीं होगी। सीधा एक्शन होगा। कोई कितना पॉवरफुल हो, बचेगा नहीं। फंसने वाला किस झंडे का है या उसका राजनीतिक झुकाव क्या है, इस बारे में सीबीआई एक बार भी नहीं …

CBI रेड अब सारे आरोपों और असफलताओं से निकाल देगा केजरीवाल को! (पढ़ें सोशल मीडिया पर पक्ष-प्रतिपक्ष में टिप्पणियां)

Amitaabh Srivastava : अरविंद केजरीवाल और उनकी मंडली मन ही मन बहुत प्रसन्न होंगे। शकूरबस्ती झुग्गी कांड के बाद बैकफुट पर आई केंद्र सरकार ने सीबीआई छापे के बहाने इस सर्दी में उन्हें victim politics का एक गरमागरम मुद्दा और मौका दे दिया है। सर्दियों में आम आदमी पार्टी की पालिटिक्स गरमाती भी है। इसी …

सीबीआई का कांग्रेस से भी भयंकर दुरुपयोग कर रही है मोदी सरकार, जानिए पूरा सच…

Sheetal P Singh : सब “डिफ़ेन्स” में आ गये हैं। सीबीआई की प्रवक्ता भी लगभग राजनैतिक बयान पेश कर गईं जिसे भाजपाई पत्रकारों ने फट से रीट्वीट किया। शिवसेना, भाजपा, केन्द्रीय सरकार, सी बी आई, प्रशान्त भूषण एक तरफ़ हैं। मुलायम सिंह, मायावती, जयललिता तटस्थ हैं। कांग्रेस सदन में मुख़ालिफ़ है पर सड़क पर स्तब्ध …