पतित जज, पतित डीजीपी, पतित सीएमडी से भरा देश

शीतल पी सिंह-

एक जज साहेब ने रफाएल पर सरकार की मदद की , रिटायर होते ही राज्यसभा में विराजे

एक डीजीपी महोदय ने क़ानून क़ायदा लांघकर चुनावी FIR दर्ज की, VRS लेकर सरकारी दल से चुनाव मैदान में

एक सरकारी तेल कंपनी का मुखिया नौकरी छोड़कर अंबानी की तेल कंपनी का मुखिया बना

यह सब नये भारत की नई बानगी हैं , ये सारे पाप थोड़ा लजा शर्माकर कांग्रेसी भी कर चुके हैं इसलिये ये न कहना कि कांग्रेसी भी तो करते थे!

पर ये तो नया भारत बनाने के दावे पर आये थे तो कौन सा भारत बना रहे हैं?

नये भारत का मतलब सबकुछ बिक्री के लिये उपलब्ध, बस ख़रीदने वाला चइये ?

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

One comment on “पतित जज, पतित डीजीपी, पतित सीएमडी से भरा देश”

  • आखिर क्यों नही उठाते जनता के हितों के मुद्दे ???
    भर्स्टाचार से भरी सड़के
    सरकारी ऑफिस में चपरासी से लेकर बाबू तक क्या करते है छुपा नही है
    एफिडेविट से लेकर राशन कार्ड तक
    वोटर कार्ड में नाम जुड़वाने से लेकर मृत्यु प्रमाण पत्र तक
    बैंक में खाते खोलवाने से लेकर पैसा निकालने तक
    आम आदमी सर सर सर कहते थक जाता है
    परन्तु मीडिया में क्या छपता है ये आपको भी पता है
    ऐसा क्यूँ है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *