भुखमरी की कगार पर पहुँच गए जी पुरवइया के स्ट्रिंगर

बिहार में जी ग्रुप ने रीजनल चैनल शुरू किया ज़ी पुरवइया लेकिन चैनल सिर्फ स्ट्रिंगरों का खून चूस रहा है। 16 जनवरी 2014 को चैनल की शुरआत हुई थी। स्ट्रिंगरों को सैलरी का पेमेंट जून 2014 से दिया गया। छह माह तक स्ट्रिंगरों को मंगनी में खटवाया गया। 

आश्वासन के तौर पर उस समय जी ग्रुप के पुरवइया चैनल प्रबंधन ने स्ट्रिंगरों से यहा कहा था कि इन छह महीनों की उनकी सैलरी का पेमेंट निकट भविष्य में कर दिया जाएगा तब से स्ट्रिंगर अपने वेतन का बकाया नहीं पा सके हैं। मौजूदा समय में एक बार फिर वही शोषण की दास्तान नये तरीके से दुहराई जा रही है। बीते छह महीनों से किसी भी जिले के स्ट्रिंगर का पेमेंट नहीं दिया गया है।  

चैनल प्रबंधन की इस मनमानी से स्ट्रिंगरों में गहरा असंतोष और रोष है। चैनल के पटना मुख्यालय में बैठे आकाओं की अपनी सैलरी समय पर आ जाती है लेकिन बाकी जो रीढ़ की हड्डी हैं, उन स्ट्रिंगरों को ठेंगा दिखाकर काम कराया जा रहा है।  

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “भुखमरी की कगार पर पहुँच गए जी पुरवइया के स्ट्रिंगर

  • mukesh kumar says:

    bihar ke stringer’s par ab shivpujan ke dabab me manga ja raaha hai add … ek jila se ek lakh rupya do nahi to kaam chhor do aisa pharmaan mil raha hai add walon se
    kai mahino se payment ke intjar me kai stringer sadhana news,channal 11,or kashish me jaane ke lie lag gae hai
    halat ye ho gai kee pahle 6 mahina ka payment zee purvaiya ne hajam kar liya ab phir wahi halat hai
    channal jhajha express ban gya hai dhiraj thakur ho ya shivpujan sabhi ab berukhi ke saath baat karte hai stringer se
    jhajha group ka injan chandan apne man mafik logon ko jila me stringer ko baithana chahta hai jo use sharab or ladki pahunchay
    jab se jha chandan ka ana hua pura channal tahasnahas ho gya
    ab to anand amrit raj bhi stringer ko dhamki deta hai kee patna office se nikalwa denge
    anand pappu yadav ka aad pakad ke lakho rupya kama raha hai or baaki mla riport card ke naam par washuli kar rhaa hai
    bah bah re zee purvaiya

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *