Zee News वाले Sudhir को एक पत्र : ये डिज़ाइनर पत्रकार क्या होता है चौधरी साब?

ज़ी न्यूज़ के एक प्रोग्राम डीएनए में सुधीर चौधरी बार बार डिज़ाइनर पत्रकार और सच्ची पत्रकारिता का जिक्र कर रहे थे. मन में उनसे कुछ पूछने की इच्छा जागी है. अगर आपके माध्यम से मेरी बात उन तक पहुँच सके तो आभारी रहूँगा.

Regards,
Karamvir Kamal
Editor
The Asian Chronicle
editor.theasianchronicle@gmail.com

ये डिज़ाइनर पत्रकार क्या होता है चौधरी साब?

मैं ज़ी न्यूज़ को उस समय से जानता हूँ जबसे वीरप्पन को जाना। दूरदर्शन के दौर में डीडी-1 पर आने वाले समाचार के बाद कुछ देखा तो ‘आज तक मे पेश है अभी तक की खबरें’ वाला ‘आज तक’ और ‘आँखो देखी’। वैसे तो वीरप्पन और ज़ी न्यूज़ का कोई आपस में लेना देना है नहीं, परंतु चैनल बदलते बदलते कब जी न्यूज के एक न्यूज शो ‘इनसाइड स्टोरी’ में चलाई जा रही वीरप्पन की जीवन गाथा पर जा रुका, पता ही नहीं चला। स्टोरी इंट्रेस्टिंग थी, सो पूरी देखी और जाना की कौन है वीरप्पन। तो इस तरह ज़ी न्यूज़ से मेरी पहचान हुई।

अब बात ज़ी न्यूज़ वाले चौधरी साहब आपकी। काफी समय से बल्कि कई सालों से आपका ये डीएनए रेगुलर ही देख रहा था। न्यूज़ के मामले में डीएनए के अलावा सिर्फ पुण्य प्रसून बाजपेयी का 10 तक ही पसंद है। रवीश की रिपोर्ट भी अच्छी ही लगती है। कभी मुझे ये तीनों ही न्यूज़ प्रोग्राम बेहतरीन लगते थे। चौधरी साहब पिछले काफी समय या शायद कुछ ही सालों से आप पत्रकारिता क्या होती है, अपने इस शो के माध्यम से सभी को सिखा रहे हैं। आपका ये तकिया कलाम था कि अब जी न्यूज़ बताएगा की सच्ची पत्रकारिता क्या होती है।

जरा कोई खबर आपने चालाई तो बोलने लगे कि अब ज़ी न्यूज़ दिखाएगा सच्ची पत्रकारिता। सुधीर जी, क्या होती है सच्ची पत्रकारिता? बाकी चैनल को भी तो सिखाओ। कैसे होती है सच्ची पत्रकारिता? आजकल आपने नए शब्द की खोज की है… “डिज़ाइनर पत्रकार।” क्या होता है ये डिज़ाइनर पत्रकार? ज़रा बताओ तो, है क्या इसकी परिभाषा। आज भी जब आपके शो मे ये डिज़ाइनर पत्रकार बार बार सुन रहा था को बड़ा चुभ रहा था।

कभी मुझे आपकी निष्पक्ष खबरें अच्छी लगती थीं, पर आजकल जबसे बड़े साहब कमल पर बैठ कर राज्य सभा गए हैं (ये और बात है कि इसमें विवाद हो गया है, और मामला जांच में चल रहा है) आप एक तरफा हो गए हो। बात बात पर पत्रकारिता सिखाने लगते हो, पाकिस्तान भेजने लगते हो।

ऐसा क्या हो गया कि आप बात बात पर सच्ची पत्रकारिता का जिक्र करने लगते हो? आपको बार बार ये क्यूँ साबित करना पड़ता है कि आप ही सच्ची पत्रकारिता करते हो या कर सकते हो। आपने भारत के पत्रकारों को पाकिस्तान में जा कर रिपोर्टिंग करने को बोला है। पत्रकारों की तो भारत में भी हत्या होती है सर जी। 2015 में 110 के करीब जर्नलिस्ट की हत्या हुई थी। भारत पत्रकारिता के लिहाज से खतरनाक देशों की सूची में खतरनाक पायदान पर है। आप भी आरएसएस और बीजेपी नेताओं की तरह बात बात पर लोगों को पाकिस्तान भेजने लगे हो। कोई ट्रांसपोर्ट का बिज़नस है तो…?? खैर छोड़िए इस बात को। मेरे पास पासपोर्ट नहीं है, बनवा दो और वीज़ा दिला दो तो देख लें हम भी गांधी जी के उस वक्त के हिंदुस्तान के उस हिस्से को भी, भगत सिंह के लाहोर को भी। भारत के बिछड़े और बिगड़े उसके भाई को भी।

बार बार डिज़ाइनर पत्रकार और सच्ची पत्रकारिता आपको याद आ रही है। कहीं ऐसा तो नहीं आपके दिल से अभी साल 2012 गया नहीं। जब कोल की कालिख के बीच 100 करोड़ी पत्रकारिता का डिज़ाइन चेंज हो गया था। सुधीर जी, पांचों उंगलिया एक समान नहीं होती, इसीलिए आप बार बार ये डिज़ाइनर पत्रकारिता और सच्ची पत्रकारिता का आलाप करना छोड़ दे, बाकी लोग भी आप ही की तरह मेहनत करते हैं।

कभी था आपका प्रशंसक
कर्मवीर कमल
Editor
The Asian Chronicle
editor.theasianchronicle@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “Zee News वाले Sudhir को एक पत्र : ये डिज़ाइनर पत्रकार क्या होता है चौधरी साब?

  • designer patrakar ki behtrin misaal hai sudhir chaudhry in jaise tathakathit patrkaro ki vajah se media ki thu thu ho rahi hai aam logon ki trust media per nahi raha hai ye patrakarita nahi dalali karte hai. lihaja inhe dalal kehna jyada sahi hai.

    Reply
  • Karamveer Kamal ji,

    Apaka lamaba letter read kiya pata chala apka sirf nam hi karamveer hai baki aao hi nahi,

    Apkaki zee news se dusmani ho sakati hai lekin aaj kal sabhi news channels india me Audi hi hai aap compare kare to zee news usame se better hi,

    Apane RSS ka bhi jikra kiya hai to fir aap kisaka agenda leke aaye hai ISI ko nahi …???

    His desh ka pura Bollywood and intellectual 3 dashak se Dubai aur Dawood ka gulam raha aaj wo freedom of speech pe aa gaye hai.

    Usake bare me aap kya kahenge.

    NDTV ke editions kanhaiya Kumar ka speech likhate likhat e hai aur round o clock only Kashmir hi agenda pe rahata hai..

    India me aur bhi state hai ki inako pain and interest Kashmir me kyu North East me bhi problem hai.
    Bihar me naxal problem, chhatisgadh me hai …

    Sab ko analysis journalist karate hai aur private channels pe agenda chalate rahate hai against india
    Aisa to international channels me kabhi nahi dikha,

    Every 10 minutes me breaking news aur part leaders apane opinion dene aa jate hai usake pass public ke liye time nahi but opinion every 10 minutes me diff. Channels pe dene ke liye time hi time …

    Great politicians, Great journalists, great intellectuals
    You Guys have super art to fool the people.

    My India ….

    Reply
  • designer patrakar aap jaison ko hi kahte nai kyon ki jo wastav me Sache patrakar hote hain wo kabhi aap ki tarh chedte nahi hain, isse yahi sabit hota hai ki aap bhi unhi patrkaron me samil hain jo apni TRP badhane ke liye kisi bhi had tak gir sakte hain. aur wahi patrkarita karte hain jesse kewal kisi kahas warg ko khush kiya ja sake..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *