अटल जी की पार्टी आज संसद को धता बताकर एक के बाद एक दस अध्यादेश जारी कर रही है

Mukesh Kumar : संसद सजावट की वस्तु है? तेईस-चौबीस साल पहले एक दूरदर्शन के लिए एक डॉक्यूमेंट्री बनाई थी-संसद से सड़क तक। ये फिल्म बीजेपी और दूसरे विपक्षी दलों द्वारा संसद की कार्रवाई को हफ़्तों तक ठप करने को लेकर थी। उस समय पंडित सुखराम के टेलीकॉम घोटाले की गूँज चारों ओर थी और विपक्षी दल उत्तेजित थे। इस फिल्म के लिए मैंने भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी का लंबा इंटरव्यू किया था, जिसमें उन्होंने संसद के बहिष्कार को जायज़ ठहराते हुए कहा था- संसद कोई सजावट की, प्रसाधन की वस्तु नहीं है।

आज उनकी पार्टी संसद को धता बताकर एक के बाद एक दस अध्यादेश जारी कर रही है। उसने सचमुच में संसद को प्रसाधन की वस्तु बना दिया है। ये परंपरा भी उसने मनमोहन सरकार से ही ग्रहण की है, क्योंकि उसने भी इसी तरह अध्यादेश-राज कायम कर रखा था। संसद को इस तरह से बाईपास करना बढ़ती निरंकुशता का द्योतक है। क्या इस निरंकुशता का कोई इलाज है हमारे पास?

वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *