जनकवि गोरख पांडेय की याद : पढ़ें कुछ कविताएं

जनकवि, मार्क्सवादी दार्शनिक और चिंतक गोरख पांडेय को उनकी 30वीं पुण्यतिथि पर सादर नमन, लाल सलाम। मौजूदा दौर में उनकी कमी बहुत कचोटती है मगर उनके शब्द हौसला बढ़ाते हैं, यह दुनिया बदलेगी, जरूर बदलेगी।

1.
प्रधानमंत्री का कहना है –
विरोधियों की गैर जिम्मेदाराना
हरकतें देखते हुए –
उन्हें प्रधानमंत्री बने रहना है। (18.3.1976)

2.
मैंने सोचा –
शेरों के राज्य में प्यार की हिफाजत
के लिए हथियार और साहस बहुत जरूरी हैं
और सभी नरभक्षियों का बेमुरौव्वत
सफाया कर दिया जाना चाहिए। (25.3.1976)

3.
हालत यहां तक पहुंच चुकी है –
भेड़ियों का हमला और तेज हो चुका है
गांव गांव से बच्चों को
रातो रात उठा लिया जाता है
खून के साथ वे दिल और दिमाग
भी चाट रहे हैं।
जंगल-व्यवस्था के भीतर
आदमी की तरह बोलने
चलने और हाथ उठाने पर
पाबंदी लगा दी गई है
अब आगे से रेंग कर चलना होगा
लूट की जुबान
शहद घोलकर बोलनी होगी
इजाजत है तो सिर्फ यह कि
हाथों से अपने साथियों का
गला घोंट दो। (24.6.1976)

ये आम लोग हैं जो बड़े खास अंदाज़ में गुनगुनाते हैं, सुनेंगे तो सुनते रह जाएंगे

ये जनता है, गाती है तो दिल से… आप सुनिए भी दिल से.. सामान्य लोगों के भीतर गायकी के कुछ असामान्य कीड़े होते हैं जो गाहे बगाहे प्रकट हो जाते हैं… ऐसे ही कुछ आम लोगों की गायकी को इस वीडियो में संयोजित किया गया है. कोई पत्रकार है, कोई बिदेसिन है, कोई समाज सेवी है तो कोई एक्टिविस्ट है. इनमें गायकी की प्रतिभा जन्मना है, कोई ट्रेनिंग नहीं ली इनने. कोई अवधी गा रहा, कोई भोजपुरी गुनगुना रहा, कोई अंग्रेजन छठ का गीत गा रही, कोई पत्रकार क्लासिकल गुनगुना रहा… क्या ग़ज़ब टैलेंट है.. सुनिए और आनंद लीजिए…

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಗುರುವಾರ, ಜನವರಿ 31, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *