Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

गुजरात मॉडल : करो जितना भी, नगाड़ा बजाओ जमकर

Anil Singh : यूपी व बंगाल में भी गुजरात मॉडल! गुजरात मॉडल का ‘चमत्कार’ दूसरे राज्यों की सरकारों को भी समझ में आ गया है तो वे भी इसे अपनाने लगी है। खासकर हाल में ही पश्चिम बंगाल की ममता सरकार और अब उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार ने इसे अपना लिया है। असल में कुछ दिनों पहले गुजरात सरकार के एक रसूखदार आला अफसर से मुंबई में मुलाकात हो गई तो कई घंटे की अंतरंग बातचीत से पता चला कि गुजरात का मॉडल यह है कि करो जितना भी, नगाड़ा बजाओ जमकर।

<p>Anil Singh : यूपी व बंगाल में भी गुजरात मॉडल! गुजरात मॉडल का ‘चमत्कार’ दूसरे राज्यों की सरकारों को भी समझ में आ गया है तो वे भी इसे अपनाने लगी है। खासकर हाल में ही पश्चिम बंगाल की ममता सरकार और अब उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार ने इसे अपना लिया है। असल में कुछ दिनों पहले गुजरात सरकार के एक रसूखदार आला अफसर से मुंबई में मुलाकात हो गई तो कई घंटे की अंतरंग बातचीत से पता चला कि गुजरात का मॉडल यह है कि करो जितना भी, नगाड़ा बजाओ जमकर।</p>

Anil Singh : यूपी व बंगाल में भी गुजरात मॉडल! गुजरात मॉडल का ‘चमत्कार’ दूसरे राज्यों की सरकारों को भी समझ में आ गया है तो वे भी इसे अपनाने लगी है। खासकर हाल में ही पश्चिम बंगाल की ममता सरकार और अब उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार ने इसे अपना लिया है। असल में कुछ दिनों पहले गुजरात सरकार के एक रसूखदार आला अफसर से मुंबई में मुलाकात हो गई तो कई घंटे की अंतरंग बातचीत से पता चला कि गुजरात का मॉडल यह है कि करो जितना भी, नगाड़ा बजाओ जमकर।

पब्लिसिटी पर वहां पूरा ज़ोर रहता है। मीडिया ही नहीं, पब्लिसिटी स्टंट में भाग लेने वालों को भी अच्छा स्वागत-सत्कार करने के साथ जाते समय 1000-2000 नकद थमा दिया जाता है। अब अखिलेश और ममता सरकार ने इसी पब्लिसिटी ‘मॉडल’ को अपना लिया है। हां, एक बात गुजरात की राजनीतिक संस्कृति में वाकई अच्छी है कि वहां सड़क या पुल जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर के काम में सत्ताधारी नेता का कमीशन 10-15% होता है, जबकि उत्तर प्रदेश में यह राजनीतिक कमीशन 40-45% है। यही वजह है कि पिछले तीन-चार दशकों में गुजरात में सड़कों वगैरह की स्थिति बेहतर होती गई है, जबकि उत्तर प्रदेश जैसे राज्य उत्तम के बजाय घटिया प्रदेश बनते जा रहे हैं। हां, एक बात और उस अधिकारी ने बताई कि वाइब्रैंट गुजरात में निवेश के जितने प्रस्ताव आते हैं, उनमें से बमुश्किल 5% ही फलीभूत होते हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

मुंबई के वरिष्ठ पत्रकार और अर्थ कॉम डॉट कॉम के संपादक अनिल सिंह के फेसबुक वॉल से.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

0 Comments

  1. GUJARAT FRIEND

    January 13, 2015 at 9:03 am

    यूपी व बंगाल में भी गुजरात मॉडल!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement