Connect with us

Hi, what are you looking for?

सियासत

कश्मीर और पाकिस्तान मुद्दे पर नरेंद्र मोदी पूरी तरह फेल हो चुके हैं

कश्मीर और पाकिस्तान मुद्दे पर नरेंद्र मोदी पूरी तरह फेल हो चुके हैं। उनकी नीतियां पानी मांग गई हैं। दरअसल कश्मीर और पाकिस्तान दोनों ही मसले कूटनीति की परिधि से बाहर निकल चुके हैं। इन दोनों का समाधान अब सर्जिकल स्ट्राइक और सैनिक कार्रवाई है, कुछ और नहीं। मोदी कहते रह गए कि पाकिस्तान को अकेला कर दिया, यह कर दिया, वह कर दिया। नतीज़ा यह है कि कुछ नहीं किया। पाकिस्तान आज भी वही कर रहा है जो पहले करता रहा था।

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script> (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({ google_ad_client: "ca-pub-7095147807319647", enable_page_level_ads: true }); </script><p>कश्मीर और पाकिस्तान मुद्दे पर नरेंद्र मोदी पूरी तरह फेल हो चुके हैं। उनकी नीतियां पानी मांग गई हैं। दरअसल कश्मीर और पाकिस्तान दोनों ही मसले कूटनीति की परिधि से बाहर निकल चुके हैं। इन दोनों का समाधान अब सर्जिकल स्ट्राइक और सैनिक कार्रवाई है, कुछ और नहीं। मोदी कहते रह गए कि पाकिस्तान को अकेला कर दिया, यह कर दिया, वह कर दिया। नतीज़ा यह है कि कुछ नहीं किया। पाकिस्तान आज भी वही कर रहा है जो पहले करता रहा था।</p>

कश्मीर और पाकिस्तान मुद्दे पर नरेंद्र मोदी पूरी तरह फेल हो चुके हैं। उनकी नीतियां पानी मांग गई हैं। दरअसल कश्मीर और पाकिस्तान दोनों ही मसले कूटनीति की परिधि से बाहर निकल चुके हैं। इन दोनों का समाधान अब सर्जिकल स्ट्राइक और सैनिक कार्रवाई है, कुछ और नहीं। मोदी कहते रह गए कि पाकिस्तान को अकेला कर दिया, यह कर दिया, वह कर दिया। नतीज़ा यह है कि कुछ नहीं किया। पाकिस्तान आज भी वही कर रहा है जो पहले करता रहा था।

Advertisement. Scroll to continue reading.

चीन उसका कुंडल और कवच बन कर पूरी ताकत से उपस्थित है। रूस भारत-पाकिस्तान मसले पर तटस्थ है, खामोश है। अमरीकी आर्थिक मदद बदस्तूर जारी है। उस ने सरबजीत को बेमौत मार दिया था, अब कुलभूषण को मारने की तैयारी में है। न दाऊद को पकड़ पाए, न मसूद अजहर आदि को। कश्मीर को और ज़्यादा बरबाद होते और जलते हुए हम देख रहे हैं। नरेंद्र मोदी सरकार के आने पर माना गया था कि अब कश्मीर समस्या सुलझ जाएगी और कि पाकिस्तान सुधर जाएगा।

लेकिन मर्ज बढ़ता गया, ज्यों ज्यों दवा की। डिप्लोमेसी की ऐसी तैसी कर रखी है सो अलग। ऐसे मसले संसद में एकजुट होने और बयान बहादुरी से तय नहीं होते। संसद के हमलावरों का भी क्या कर लिया संसद ने? संसद के शहीदों के परिजनों तक को न्याय नहीं दे सकी यह संसद। संसद में सुषमा स्वराज के पूरे देश का बेटा कह देने भर से बच जाएगा कुलभूषण? हरगिज नहीं। पूरी दुनिया ने कहा था पाकिस्तान से कि जुल्फिकार अली भुट्टो को फांसी मत दो। पाकिस्तान ने भुट्टो को फांसी दे दिया। बामियान में तालिबानों ने बुद्ध की सब से बड़ी मूर्ति दुनिया भर की अपील के बावजूद तोड़ दी। पाकिस्तान से अमरीका मांगता रहा ओसामा बिन लादेन को। पाकिस्तान ने दे दिया था क्या। अमरीका को घुस कर मारना पड़ा था।

Advertisement. Scroll to continue reading.

पाकिस्तान और कश्मीर की केमेस्ट्री कूटनीति नहीं सैनिक कार्रवाई समझती है, इस बात को अच्छी तरह समझे बिना इन का कोई इलाज नहीं है। आप चिल्लाते रहिए, जिनेवा, शिमला, लाहौर। आदि-इत्यादि। तीन सौ सत्तर फत्तर। शांति वगैरह। इन मूर्खताओं का कोई हासिल नहीं। पाकिस्तान लोकतंत्र से नहीं, सेना और आईएसआई से चलता है। कश्मीर पत्थरबाजी और आतंकवाद से चलता है। सीधी बात है। फ़िलहाल भूल जाईए अब कुलभूषण जाधव को। वह भारत का बेटा है ज़रूर पर भारत उसे अब सलीब से उतार नहीं सकता, वर्तमान कूटनीति से।

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार दयानंद पांडेय की एफबी वॉल से.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

0 Comments

  1. vijay patel

    April 17, 2017 at 7:15 am

    Pandey Ji,
    I read your blog, you are said absolutely right. Kashmir and Pakistan problem’s is only one and all solution-Army.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement