मैं काले शीशे वाली कार में छोकरी या नोटों की अटैची लेकर फिरने वाला पत्रकार नहीं हूं!

वरिष्ठ पत्रकार राजीव नयन बहुगुणा ने सीएम त्रिवेंद्र रावत को लिखी एक मजेदार चिट्ठी, आप भी पढ़ें

श्रीयुत त्रिवेंद्र सिंह रावत
माननीय मुख्यमंत्री
उत्तराखण्ड

प्रिय महाशय, कल बृहस्पतिवार, तदनुसार 31 जनवरी को मुझे सचिवालय के मुख्य द्वार पर अपना वाहन भीतर ले जाने से रोक दिया गया। विदित हुआ कि ये आदेश उच्च स्तर से हुए हैं। ज़ाहिर है कि वह उच्च स्तर आप स्वयं हैं। मान्यवर, मैं प्रायः खुली जीप में आवागमन करता हूँ। ऐसा मैं पारदर्शिता के कारण भी करता हूँ। क्योंकि मैं काले शीशे वाली कार में छोकरी या नोटों की अटैची लेकर फिरने वाला पत्रकार नहीं हूं। आप भी जानते हैं कि मैं स्टिंग करने वाला पत्रकार भी नहीं हूं तथा स्टिंग को नीच कर्म मानता हूं। जिसकी लेनी होती है, सामने से खुल कर फाड़ता हूं।

CM त्रिवेंद्र रावत के भाई का स्टिंग

CM त्रिवेंद्र रावत के भाई का स्टिंग (सौजन्य : समाचार प्लस न्यूज चैनल)Related News https://www.bhadas4media.com/cm-trivendra-rawat-ki-umesh-kumar-ne-kholi-pol/

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಭಾನುವಾರ, ಜನವರಿ 27, 2019

आप भी पारदर्शिता अपनाएं तथा मेरा वाहन गेट पर न रोकें। मेरी गाड़ी में लैपटॉप, कैमरा, किताबें एवं स्कॉच की बोतलें रहती हैं। खुली गाड़ी बाहर खड़ा करने के फलस्वरूप अगर कभी ये चोरी हुए, तो इसकी भरपाई आपको अपने वेतन से करनी होगी। देहरादून में चैपहिया वाहन रखने वाले ब मुश्किल 10 अधिस्वीकृत, राज्य सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त पत्रकार हैं। ये भी कभी एक साथ सचिवालय नहीं आते। मैं स्वयं वहां 3 माह बाद गया हूँ।

हमारी गाड़ियों से आपके दरबार मे भीड़ नहीं बढ़ेगी। मेरी बजाय उन खाऊ ब्यूरोक्रेट की गाड़ी बाहर रोकिए, जो भकोस भकोस कर ओवर वेट हुए जा रहे हैं और जिनका पैदल चलना आवश्यक है। कृपया संज्ञान लें, और मेरे साथ वही बर्ताव करें, जो एक राजा दूसरे राजा से करता है। अन्यथा मैं आपके द्वारा प्रदत्त सचिवालय का प्रवेश पत्र भी वापस लौटा दूँगा ।

सप्रेम, सादर… आपका मित्र, हितैषी

राजीव नयन बहुगुणा
देहरादून

ये आम लोग हैं जो बड़े खास अंदाज़ में गुनगुनाते हैं, सुनेंगे तो सुनते रह जाएंगे

ये जनता है, गाती है तो दिल से… आप सुनिए भी दिल से.. सामान्य लोगों के भीतर गायकी के कुछ असामान्य कीड़े होते हैं जो गाहे बगाहे प्रकट हो जाते हैं… ऐसे ही कुछ आम लोगों की गायकी को इस वीडियो में संयोजित किया गया है. कोई पत्रकार है, कोई बिदेसिन है, कोई समाज सेवी है तो कोई एक्टिविस्ट है. इनमें गायकी की प्रतिभा जन्मना है, कोई ट्रेनिंग नहीं ली इनने. कोई अवधी गा रहा, कोई भोजपुरी गुनगुना रहा, कोई अंग्रेजन छठ का गीत गा रही, कोई पत्रकार क्लासिकल गुनगुना रहा… क्या ग़ज़ब टैलेंट है.. सुनिए और आनंद लीजिए…

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಗುರುವಾರ, ಜನವರಿ 31, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

One comment on “मैं काले शीशे वाली कार में छोकरी या नोटों की अटैची लेकर फिरने वाला पत्रकार नहीं हूं!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *