संघ समर्थित वेबपोर्टल OpIndia की महिला संपादक की भाषा देखिए!

Sheetal P Singh-

ये मोदीजी/RSS समर्थित सबसे मशहूर वेबपोर्टल OpIndia की संपादक हैं, महिला हैं, भारतीय संस्कृति की रक्षक हैं संस्कार शील हैं और राष्ट्रवादी हैं इनके विचार/भाषा संस्कृति संस्कार इन्हीं के ट्वीट में पढ़िए!

चुनिंदा प्रतिक्रियाएं-

Amitaabh Srivastava
She is here to create a dent in the universe. That’s what her bio says.

Saleem Akhter Siddiqui
सर, पूरा लिखने में क्यों शर्म आई इसे?

Vishwanath Chaturvedi
इनका सज्ञान लेना बन्द करो,ये यहूदी कल्चर के लोग है,RSS यहूदियों का संगठन है

Shalini Rai Rajput
मोदी काल की सबसे बड़ी विशेषता यही है कि इस काल गालीबाज भाषा सौन्दर्य अपने चरमोत्कर्ष पर पहुंच गया है। खास ये भी है कि इसमें भागीदारी निभाने वालों में जेंडर भेद बिल्कुल नहीं है। महिलाओं ने भी अपना पूरा योगदान इस भाषा संस्कृति को बढ़ावा देने में दिया है। यहां आकर यही लगता है महिलाओं की भागीदारी को कम करके आंका नहीं जा सकता। गालीबाज भाषा के उच्चतम स्तर तक की जानकारी और उनका माकूल प्रयोग महिलाओं द्वारा किया जा रहा है।

Vikas Aggarwal
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के सदस्य ईश्वरतुल्य है इसीलिए इनसे प्रश्न करना उचित नहीं है। इनकी सिर्फ आंख बंद करके आराधना की जाती है। इनकी आलोचना और इनसे प्रश्न नहीं पूछे जाते हैं और ऐसा करना दंडनीय अपराध है

Pushp Kulshrestha
आपको आश्चर्य नही होना चाहिए, मेनका से ले कर कोई भी ले लीजिए ,भाषा अनुमन यही होगी….

Rajni Kant Das
संघियों के संस्कार…

Bobby Naqvi ·
Wah! Editor Saheba Kafi cultured Hain.

Mahmood Khan
असल मे भाजपा के यही संस्कार है, बाकी तो सब ढोंग है

Ranjana Das
आवश्यक योग्यता है संस्कारी पार्टी के सदस्य के लिए..

Sudhir Singh
पार्टी की प्राथमिक सदस्यता के लिए आवश्यक योग्यता का परिचय दे रही हैं

Salil Kumar
वही वाली होगी ऐसे राष्ट्रभक्तों की भाजापा में बाढ़ सी आई हुई है ।

Hamid Ali Khan
यही संस्कार सिखाए जाते हैं। भारतीय संस्कृति के यही सच्चे वाहक हैं!

Narmadeshwar Dwivedi
यह इन लोगों के वास्तविक चरित्र को उजागर करता है ।

Sikander Hayat
पायल रोहतगी से परेशान उसकी सोसाइटी गिरफ़्तारी आदि तो उपरोक्त सहित ये सब लोग बेसिकली ये सब साइको हल्के फुल्के रमन राघव लोग हैं . पहले ये साइको थे फिर इन्हे पता चला की सोशल मीडिया पर भाजपा और मोदी समर्थक कम्युनल बकवास करने से लाइक्स ritivit फॉलोअर clik व्यू वगैरह बढ़ते हैं ( जिनमे से आधे दो तिहाई आई टी सेल के फ़र्ज़ी होते हैं बाकी भीड़ देख कर भीड़ आ ही जाती हैं जनता का मनोविज्ञान हैं ही की कही बीस लोग हो तो तीस लोग और आ जाएंगे देखने की क्या माजरा हैं ) तो ये लोग भाजपा समर्थक हो गए . हे ये सब वही हल्के फुल्के रमन राघव , और इनका शिकार भी जरूरी नहीं हैं की कोई चीन पाकिस्तान हुर्रियत बांग्लादेश मिशनरी मुस्लमान ही हो? नहीं वही इनके शिकार इनसे पीड़ित होने हे- होंगे जो इत्तफ़ाक़ से इनके आस पास होंगे .

Sushil Kumar Upadhyay
Hahahahahaha ye aunty bahut badi khilaadi hai

Sunil Bohara
ऐसी भाषा वाली महिलाओं को प्रगतशील मानते हैं।

Rakesh Kumar
जल्दी ही ये केंद्रीय मन्त्रिमण्डल में हो सकती है. लक्षण तो दिख रहे हैं!

Afaq Ali
ट्वीट पढ़कर कोई आश्चर्य नहीं हुआ क्योंकि जो जैसा होता है तो उसके दोस्त और साथी भी उसी मानसिकता के होते है।

Hokam Dev
नशे में होगी ।

Ajay Kumar Yadav
ये मोडियापा है ।

Mukesh Purohit
ये सच में औरत ही है?

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

One comment on “संघ समर्थित वेबपोर्टल OpIndia की महिला संपादक की भाषा देखिए!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *