सद्गुरु शरण बने लखनऊ दैनिक जागरण के संपादक, अजीत सिंह ‘इंडिया वाच’ के साथ

लखनऊ से खबर है कि सद्गुरु शरण को दैनिक जागरण का नया संपादक बनाया गया है. सदगुरु शरण दैनिक जागरण पटना के संपादक रह चुके हैं. सद्गुरु शरण एसोसिएट एडिटर हुआ करते थे. अब वे लखनऊ में रेजीडेण्ट एडीटर के पद पर काम करेंगे. वैसे सद्गुरु शरण के कार्यकाल में बिहार में दैनिक जागरण प्रसार और विज्ञापन के मामले में प्रतिद्वंदी कई मीडिया हाउसों से काफी पीछे चला गया.

सदगुरु के कारण कम्पनी को मजीठिया वेज बोर्ड, लेबर कमिश्नर से लेकर कोर्ट-कचहरी तक का चक्कर काटना पड़ रहा है. सदगुरु के कार्यकाल के दौरान बिहार में दैनिक जागरण के सबसे वरिष्ठ पत्रकार मनीष कुमार को बिनय मिश्रा के अधीन कार्य करने के लिए बाध्य किया गया.

मनीष नोएडा में पटना संस्करण के स्थापना वर्ष 2000 के पूर्व से ही थे. करीब 25 साल से जागरण में अपने बेहतर कार्य के लिए चर्चित मनीष अपने से काफी जूनियर बिनय मिश्रा के नेतृत्व में कार्य करने के लिए बाध्य हुए. सदगुरु इतने पर नहीं रुके. डेली अखबार में लीड खबर देने वाले ब्यूरो चीफ सुभाष पांडेय को शंट किया. जेएनयू के छात्र एवं हिंदी भाषा के साथ-साथ बहुयामी प्रतिभा के लिए चर्चित सुविज्ञ दूबे को ब्यूरो से दूध की मक्खी की तरह बाहर कर दफ्तर में एक कोने में बैठा दिया. इसी तरह एस एस शाद के साथ हुआ.

सदगुरु ने नई टीम बनाई जिसके मुख्य “बल्लेबाज” अरविंद शर्मा, रमन शुक्ला, सुनील राज, लखन सिंह कुशवाहा, कुमार रजत एवं लवलेश मिश्रा बने. सबसे जूनियर कुमार रजत को चीफ रिपोर्टर बना दिया गया. सदगुरु की शुरुआती खुराफात को प्रबंधन का शह मिला. कारण था कि इससे पुराने और 15-20 साल से जागरण में काम करने वाले पत्रकार अपने आप नौकरी छोड़ कर चले जाएंगे और उन्हें मजीठिया वेज बोर्ड की अनुशंसा के आलोक में वेतन और अन्य सुविधाएं देना नहीं पड़ेगा.

लेकिन उम्र और पारिवारिक दायित्वों के कारण संस्थान में अपने से जूनियर और नाकाबिल बनाए गए “सीनियर” के अधीन कार्य करने को प्राथमिकता ऐसे पत्रकारों ने दिया. दैनिक जागरण पटना से लेकर हर जिला संस्करण में हिंदुस्तान, प्रभात खबर और दैनिक भास्कर से प्रसार और विज्ञापन के मोर्चे पर पिछड़ता चला गया. प्रबंधन ने सद्गुरु को पहले पटना मेन स्ट्रीम से हटाकर स्टेट हेड बना दिया. सोमवार को पटना में पाक्षिक बैठक में सद्गुरु शरण को लखनऊ ट्रान्सफर की सूचना मुख्य महाप्रबंधक आंनद त्रिपाठी ने सुनाई.

अजीत सिंह ने ‘के न्यूज़’ को अलविदा कहा, नई पारी ‘इंडिया वाच’ के साथ

उधर, लखनऊ से ही एक अन्य खबर है कि अजीत सिंह ने ‘के न्यूज़’ चैनल को अलविदा कह दिया है. उन्होंने नई पारी की शुरुआत ‘इंडिया वाच’ चैनल के लखनऊ आफिस में की है. अजीत ‘के न्यूज़’ में पीसीआर हेड के रूप में सेवा देते थे. इंडिया वाच चैनल में भी उन्होंने बतौर पीसीआर हेड ज्वाइन किया है. अजीत इससे पहले सी न्यूज़ आगरा, स्टेट न्यूज़ भोपाल, रफ़्तार टाइम्स नोएडा में काम कर चुके हैं.

इसे भी पढ़ें…

दैनिक जागरण से स्थानीय संपादक अभिजीत मिश्रा का इस्तीफा

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code