हालात से निबटने के लिए सहारा प्रबंधन ने तालाबंदी की अफवाह फैलाई

लखनऊ : राष्ट्रीय सहारा की नोएडा मुख्यालय समेत ज्यादातर यूनिटों में सोमवार देर शाम को भी कार्य बहिष्कार से गतिरोध बरकरार रहा। लखनऊ कार्यालय में संपादक और जनरल डेस्क इंचार्ज में कहासुनी होने की खबर है। 

नोएडा में आज सहारा के चेयरमैन से जो आज वीडियो कांफ्रेंसिंग होने वाली थी लेकिन किन्हीं कारणों से नहीं हो सकी। शाम को नोएडा से सहारा प्रबंधन के लोगों ने सभी यूनिटों में एक अफवाह प्रसारित कर दी कि यदि बहिष्कार या हड़ताली जारी रही तो संस्थान तालाबंदी कर देगा। 

संपादक एवं सहारा प्रबंधन आज इस बात पर आमादा था कि किसी भी तरह कम से कम एक मास्टर एडिशन ही छप जाए। कर्मचारियों का कहना है कि जिस तरह का फिलर से मास्टर एडिशन छापा जा रहा है, यही हाल रहा तो कुछ दिनो में अपने आप अखबार की नैया डूब जाएगी। बहिष्कार कर रहे मीडिया कर्मियों में एक रिपोर्टर की हरकतों को लेकर गुस्सा देखा गया। दबी जुबान बताया गया कि अपना महत्व बढ़ाने के लिए वह प्रबंधन को सारी बातें पास कर रहे हैं। लोकल रिपोर्टिंग इंचार्ज से भी मीडिया कर्मी क्षुब्ध हैं। 

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

Comments on “हालात से निबटने के लिए सहारा प्रबंधन ने तालाबंदी की अफवाह फैलाई

  • bade sharm ki baat hai halat aese ho gye hain ki 6 months se salary nahi mil rahi hai aur dhamki ye hai ki terminate kar denge wo bhi us sakh ko jo 24yrs se imandari se kaam kr raha hai kabhi uski insert nahi hui …..sahi hai jo power me hota hai wo 1 hi dhamki deta hai ki transfer kar dunga bt is baar to had hi ho gayi oooooofffooo terminate…

    Reply
  • Akhbar nahi nikalne ke pichhe Manoj Tomar ki laparwahi thi. Ab jab SUPREME COURT kA FAISLA AA GAYA TAB THIKRA JUNIOR PAR FODA JA RAHA HAI.

    Reply
  • सहारा कर्मी says:

    कंपनी को आज इस स्थिति मै पंहुचाने के लिए मैनेजमेंट ही जिम्मेदार है. अपने no बढ़ाने के लिए सहारा श्री को कभी भी सही हकीकत नहीं बताई. और सहारा श्री ऐसे ही लोगो पर बिस्वास करते रहे जो हमेशा से कंपनी को लूटते रहे ….

    Reply
  • Manoj Tomar to sahara prabhandan ki ha me ha milane wale wo gaddar hai jo gurbat ki jindgi gujar rahe sahara karmchariyo ki maut par bhi adhikariyo wali hi kiya. khudkusi karnewale sahara karmchariyo ki maut par bhi jisne apni naukri ki parwah ki usse bhala aur kya ummed ki ja sakti hai.

    Reply
  • जब किसी भी परिवार का हेड जेल में हो तो उसका हाल उसके परिवार बालो से पूछो खुद समझ में आ जायेगी ..?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *