ट्विटर पर ShameOnBJP : सत्तारूढ़ दल ने अपनी ट्रोल सेना से नियंत्रण खो दिया है!

संजय कुमार सिंह-

सख्त कार्रवाई, मतलब?
ऐसे लिखी जाती है खबर

द टेलीग्राफ की आज (सात जून) की लीड का शीर्षक है, “कुछ भी चौंकाता नहीं है। यह सख्त कार्रवाई चौंकाती है।” अखबार ने लिखा है, विदेश मंत्रालय ने पश्चिम एशिया में बहुत सारी सरकारों से कहा है कि पैगम्बर मोहम्मद की अवमानना वाली बातें करने के लिए इन लोगों (अब हटा दिए गए भाजपा प्रवक्ताओं के लिए) के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा चुकी है। अगर वाकई ऐसा है तो भारत के विदेश मंत्रालय ने दूसरे देशों की सरकारों के साथ ऐसी सूचना साझा की है जो भारतीय नागरिकों के लिए उपलब्ध नहीं है।

अभी तक ना तो भाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता नुपुर शर्मा ना दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता नवीन जिन्दल को गिरफ्तार किया गया है। कोई भी पुलिस बल इस बात की भी पुष्टि नहीं करेगा कि उनसे पूछताछ हुई है।

इस सवाल पर घनघोर चुप्पी है कि क्या दिल्ली पुलिस जो देश की सबसे हाई-प्रोफाइल पुलिस बल है, ने शर्मा व जिंदल के खिलाफ उनके कृत्यों के लिए कोई प्राथमिकी दर्ज की है। कृत्य एक हफ्ते से ज्यादा पुराना है और आप जानते हैं कि दिल्ली पुलिस केंद्रीय गृह मंत्रालय को रिपोर्ट करती है तथा दोनों फ्रिंज एलीमेंट के घर इसी के क्षेत्राधिकार में आते हैं।

महाराष्ट्र और तेलंगाना में विपक्षी दलों की सरकार है और दोनों राज्यों में शर्मा पर समुदायों के बीच नफरत भड़काने और धार्मिक भावनाओं का अपमान करने के लिए मामला दर्ज किया था। सोमवार दोपहर को, मुंबई पुलिस ने कहा कि वे शर्मा का बयान दर्ज करने के लिए उन्हें तलब करेंगे। अगर इसका अर्थ है “कड़ी कार्रवाई” और अगर यह ऐसी कोई कार्रवाई हो तो अभी भी लंबित है और अगर ऐसा होता है तो मोदी सरकार को इसका श्रेय उस सरकार को देना पड़ेगा जिसमें शिवसेना और कांग्रेस भागीदार हैं।

सूत्रों ने कहा, विडंबना यह है कि दिल्ली पुलिस ने शर्मा की शिकायतों पर “अज्ञात व्यक्तियों” के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। शर्मा ने कहा है कि उन्हें धमकी भरे कॉल आ रहे थे।

एक ट्वीट में, तृणमूल के राष्ट्रीय प्रवक्ता साकेत गोखले ने शर्मा की शिकायत के आधार पर दिल्ली पुलिस की प्राथमिकी का उल्लेख किया और कहा, “हालांकि, उनकी सांप्रदायिक टिप्पणी के खिलाफ पिछले सप्ताह दर्ज की गई मेरी शिकायत पर अभी तक कोई प्राथमिकी नहीं हुई है।” सोमवार को, भारतीय विदेश मामलों के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, “एक धार्मिक व्यक्तित्व को बदनाम करने वाले आपत्तिजनक ट्वीट और टिप्पणियां कुछ व्यक्तियों द्वारा की गई थीं। वे किसी भी तरह से, भारत सरकार के विचारों को प्रतिबिंबित नहीं करते हैं। संबंधित संस्थाओं द्वारा इन व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई पहले ही की जा चुकी है।”

स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। अब तक, एकमात्र ज्ञात “मजबूत कार्रवाई” भाजपा द्वारा की गई है, जो कार्यपालिका की शाखा नहीं है। इससे सवाल उठता है कि क्या एक राजनीतिक दल किसी आपराधिक कृत्य की तरह दिखने वाली कार्रवाई के मामले में कार्रवाई करने के लिए “प्रासंगिक” संस्थान है। दूसरी ओर, संबंधित कृत्य ने पहले ही देश के कुछ हिस्सों में संघर्ष शुरू कर दिया है और विदेशों में भारत को शर्मसार कर दिया है।

जब तक इस बात के सबूत सामने नहीं आते कि भारतीय राजदूतों ने रविवार को विदेशों को जानकारी दी, तब तक पुलिस ने दोनों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की थी, तब तक यह तर्क दिया जा सकता है कि भारत सरकार ने इस मामले में भाजपा को ऐसी कार्रवाई करने की जिम्मेदारी सौंपी है, जिसे पार्टी उचित समझती है।

यह खबर अंदर के पन्ने पर जारी है। मैंने सिर्फ पहले पन्ने वाले हिस्से का अनुवाद किया है। यह खबर नई दिल्ली डेटलाइन से इमरान अहमद सिद्दीक, अनिता जोशुआ और फिरोज एल विनसेट की बाइलाइन से है।

इस खबर के साथ बॉक्स में उन देशों और संगठन के नाम हैं जिन्होंने अब तक संबंधित भारतीय राजदूत को तलब किया है या पैगंबर मोहम्मद पर अपमानजनक टिप्पणियों के खिलाफ बयान जारी किए हैं:

कतर 2. कुवैत 3. ईरान 4. ओमान 5. सऊदी अरब 6. बहरीन 7. इंडोनेशिया 8. जॉर्डन 9. यूएई 10. पाकिस्तान 11. ओआईसी 12. मालदीव और 13. अफगानिस्तान

अखबार ने आज सबका साथ, सबका फ्रिंज शीर्षक से बॉक्स में बताया है…. रविवार को, पश्चिम एशिया में आक्रोश फैलने के बाद, कतर में भारतीय दूतावास ने कहा कि भारतीय राजदूत ने कतरी विदेश कार्यालय को अवगत कराया था कि “भारत में व्यक्तियों द्वारा आपत्तिजनक ट्वीट” भारत सरकार के विचारों को प्रतिबिंबित नहीं करते हैं और यह भी कहा कि, “ये फ्रिंज तत्वों के विचार हैं”।

जाहिर है, भारत में जो कुछ हो रहा है, उससे भारतीय दूतावास संपर्क में नहीं है। यहां याद दिलाएं:

  1. `गांव में कब्रिस्तान बनता है तो शमशान भी बनाना चाहिए। रमज़ान में बिजली आती है तो दिवाली में भी आनी चाहिए। भेदभाव नहीं होना चाहिए। – प्रधान मंत्री ने फरवरी 2017 में यूपी में चुनावी रैली में कहा था।
  2. ये लड़ाई अस्सी बनाम 20 की हो चुकी है। – योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री 2022 यूपी चुनाव के बारे में।
  3. `जो आग लगा रहे हैं, टीवी पर उनके जो दृश्य आ रहे हैं, ये आग लगने वाले कौन हैं, वो उनके कपड़ों से ही पता चल जाता है। – प्रधान मंत्री दिसंबर 2019, झारखंड में चुनावी रैली में।
  4. देश के गद्दारों को, गोली मारो सालो को – अनुराग ठाकुर, केंद्रीय मंत्री, जनवरी 2020, दिल्ली में चुनावी रैली।

पहले पन्ने की तीसरी प्रमुख खबर – यह जेपी यादव की बाईलाइन से है। दक्षिणपंथी इको सिस्टम ने सोमवार को भाजपा प्रवक्ता नुपुर शर्मा को निलंबित करने के लिए भाजपा पर हमला बोल दिया।

ट्विटर पर हैशटैग “#ShameOnBJP” ट्रेंड कर रहा था। इससे ऐसा लगा जैसे सत्तारूढ़ व्यवस्था ने अपनी ट्रोल सेना पर नियंत्रण खो दिया है। यह वही सेना है जिसे एक समझ राजनीतिक लाभ के लिए छुट्टा छोड़ दिया गया था। और यह तब तक के लिए हो सकता है जब तक व्यवस्था समय की जांच पर परखी रणनीति लागू नहीं कर लेती है। परस्पर विरोधी विदेशी और घरेलू चिंताओं को दूर करने के लिए अच्छे-बुरे का फैसला कर सकने वाली रणनीति बनानी होगी।

“युवा हिंदू नेता” को “भेड़ियों के आगे फेंकने” के लिए पार्टी पर आरोप लगाने वालों में प्रमुख भाजपा समर्थक शामिल थे, जबकि अप्रत्यक्ष आलोचना पार्टी के भोंपू कपिल शर्मा और द कश्मीर फाइल्स के निदेशक ने भी की थी।

वैसे तो प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को सीधे निशाना नहीं बनाया गया था, लेकिन कुछ लोगों ने उन्हें शीर्ष पद के लिहाज से कमजोर कहा और इस काम के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पक्ष लिया।

एक ट्वीट में कहा गया है, “प्रिय हिंदुओं, भारत के प्रधान मंत्री के रूप में योगी जी की कल्पना करें।”

फिल्म द कश्मीर फाइल्स के निर्माता विवेक अग्निहोत्री, शर्मा को देवी दुर्गा के रूप में प्रतिष्ठित करते हुए दिखाई दिए। 1990 के दशक की उनकी फिल्म में पंडितों के घाटी से पलायन के विवादास्पद चित्रण को मोदी से उत्साहजनक समर्थन मिला था। उन्होंने ट्वीट किया, “एक बार फिर #अर्बन नक्सली जीत गए।” “मैं @NupurSharmaBJP के साथ खड़ा हूं। यह आपके लिए @NupurSharmaDurga को अपना हैंडल बदलने का समय है।”

भाजपा ने रविवार को शर्मा को निलंबित कर दिया था और दिल्ली इकाई के प्रवक्ता नवीन जिंदल को पैगंबर मोहम्मद पर उनकी अपमानजनक टिप्पणियों पर निष्कासित कर दिया था, पश्चिम एशियाई देशों द्वारा राजनयिक दबाव डालने के बाद कार्रवाई की गई थी, जबकि उनके लोगों ने भारतीय सामानों के बहिष्कार का आह्वान किया था।

कई युवा भाजपा कार्यकर्ताओं और नेताओं ने शर्मा के खिलाफ कार्रवाई पर निजी तौर पर अपनी नाराजगी व्यक्त की, फरवरी 2020 के दंगों में अभद्र भाषा बोलने के आरोपी दिल्ली के नेता कपिल मिश्रा – ने सार्वजनिक रूप से अपनी नाराजगी व्यक्त की। “इस्लामी देशों” के दबाव का हवाला देते हुए, उन्होंने हिंदी में ट्वीट किया, “हिंदू इस दुनिया में दूसरे दर्जे का नागरिक है। हिंदू धर्म ही एकमात्र ऐसा धर्म है जो मजाक या गाली देने पर सजा नहीं बल्कि इनाम देता है।” माना जाता है कि भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले सोशल मीडिया ट्रोल्स की अपनी सेना का निर्माण किया, जिससे उन्हें अपने अभियान और प्रचार को बढ़ावा मिला जिसने अंततः पार्टी को केंद्र में सत्ता हासिल करने में मदद की। (ज्यादा जानकारी के लिए अखबार देखें)।

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

One comment on “ट्विटर पर ShameOnBJP : सत्तारूढ़ दल ने अपनी ट्रोल सेना से नियंत्रण खो दिया है!”

  • Ravindra nath kaushik says:

    तुम्हारी कुंठा देख के मजा आया। लंबे बाल हैं कि गंजा है? नोचने के बाद नाई को पैसे देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। पैसे की बचत

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code