वरिष्ठ पत्रकार श्याम दीक्षित नहीं रहे, कानपुर जर्नलिस्ट क्लब ने दी श्रद्धांजलि

पत्रकारिता के पितामह के निधन पर जर्नलिस्ट क्लब द्वारा शोकसभा आयोजन कर दी श्रद्धांजलि। कानपुर जर्नलिस्ट क्लब द्वारा मूर्धन्य पत्रकार श्याम दीक्षित के निधन की अत्यंत दुःखद घटना को लेकर अशोक नगर स्थित जर्नलिस्ट क्लब में शोक सभा आयोजित की गयी। शोक सभा में सभी ने दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिए 2 मिनट का मौन रख कर ईश्वर से प्रार्थना की।

शोकसभा में चैयरमेन सुरेश त्रिवेदी ने कहा कि आज हमारे बीच मे पत्रकारिता के झण्डाबरदार और पितामह श्याम दादा नहीं रहे लेकिन उनकी सीख व मार्गदर्शन हमारे दिलों में हमेशा जीवित रहेगा। अध्यक्ष अनुज शुक्ला ने कहा कि दादा के जाने से कानपुर पत्रकार जगत शोक में डूबा हुआ है। ईश्वर दिवंगत को अपने श्रीचरणों में सर्वश्रेष्ठ स्थान दे।

इस दुख की घड़ी में कानपुर जर्नलिस्ट क्लब दुःखी परिवार के साथ है। उन्हें ये अपार दुख सहने का साहस मिले। जल्द कानपुर जर्नलिस्ट क्लब का एक प्रतिनिधि मण्डल महापौर और नगर आयुक्त से मिल कर श्याम दादा के आवास की ओर जाने वाले मार्ग का नामकरण उनके नाम करने का प्रस्ताव रखेंगे।

उपाध्यक्ष अभय त्रिपाठी ने कहा पत्रकारिता के पुरोधा श्याम दादा का हमारे बीच से जाना अत्यंत दुःखद है। एक तेजतर्रार पत्रकार का खमोश अंत हुआ है। कभी संजय गांधी व फूलन देवी सहित बीहड़ों की सवर्प्रथम खबर देने वाले समाचार की दुनिया के बेताज बादशाह श्याम दादा ने पत्रकारिता जगत में जाने कितने पत्रकारों की कलम को धार दी। ऐसे भीष्म पितामह को शत शत नमन।

महामन्त्री ओमबाबू मिश्रा ने कहा मूर्धन्य पत्रकार श्याम दीक्षित जी का जाना कानपुर के पत्रकारिता जगत की क्षति है। अस्सी के दशक में जब मोबाइल फोन और whatsapp ग्रुप नहीं हुआ करते थे तब खबरों को सबसे पहले हासिल करना एक बड़ी चुनौती हुआ करती थी। श्याम दादा अपने विशाल नेटवर्क के कारण तब breaking news के सिरमौर हुआ करते थे।

वरिष्ठ पत्रकार कुमार त्रिपाठी ने कहा कि श्याम दादा का जाना बहुत ही कष्ट दायक है। उन्होंने कभी भी नवांगतुक पत्रकारों से प्रतिस्पर्धा नहीं की अपितु उनका मार्गदर्शन और सहयोग किया जिससे वे इस फील्ड में टिक सके। वो मूल्यों वाली पत्रकारिता का दौर था और मुझे ये कहते हुए गर्व है कि मुझे उनका गौरवशाली सानिध्य मिला। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे।

शोक सभा में प्रमुख रूप से वरिष्ठ मन्त्री श्याम तिवारी वरिष्ठ पत्रकार कैलाश अग्रवाल, आलोक अग्रवाल, रितेश शुक्ला, तरुण अग्निहोत्री, चन्द्र प्रकाश गुप्ता, पुष्कर बाजपेयी, मो कैफ़, प्रशान्त अवस्थी, दिलीप अंशवानी, किशन कुमार, आशीष दिवाकर, आकाश रॉक समेत अन्य पत्रकार मौजूद रहे।

दो पत्रकार भरी सड़क पर खुलेआम सांड़ बन गए हैं 🙂 एक दूसरे को बता रहे हैं दलाल…

दो पत्रकार भरी सड़क पर खुलेआम सांड़ बन गए हैं 🙂 एक दूसरे को बता रहे हैं दलाल… एक एनडीटीवी का है और दूसरा सहारा समय का…

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಸೋಮವಾರ, ಏಪ್ರಿಲ್ 15, 2019



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code