उबर के सीईओ ने कहा था- हम एक बूबर कंपनी हैं जिसके साथ महिलाएं सोना चाहती हैं!

: अमेरिकी महिला पत्रकार ने किया बड़ा खुलासा : बात इसी साल अक्टूबर की है जब सारा लेसी फ्रांस के शहर लियोन में थीं और कहीं जाने के लिए टैक्सी का इंतजार कर रही थीं। तभी उनकी निगाह एक ऐसे प्रचार पर पड़ी जिसमें लिखा था कि हॉट फीमेल ड्राइवर्स की सुविधा के लिए इस नंबर पर डायल करें। इस एड को देखते ही लेसी ने तय किया कि वह उस एप को ही डिलीट कर देंगी जो कैब की सुविधा देती है। लेसी को लगा कि वह खुद एक महिला हैं और अगर महिलाओं का इस्तेमाल इस तरह से किया जाएगा तो उनके साथ रेप जैसी घटनाओं को होने से कैसे रोका जा सकता है।

असल में सारा लेसी अमेरिका की एक टेक्नॉलेजी जर्नलिस्ट हैं जिन्होंने इसी साल अक्टूबर में अपने स्मार्टफोन से उबर एप को डिलीट किया और अपने जानने वालों से ही ऐसा करने की अपील की। उनके इस अभियान को शुरू हुए अभी दो महीने भी नहीं हुए थे कि उन्हें दिल्ली में उबर के कैब ड्राइवर द्वारा महिला के बलात्कार की घटना का पता चला। इस बारे में सुनते ही उन्होंने ट्विट कर कहा कि यह जानकर उन्हें बेहद दुख हो रहा है।

इस अमेरिकी महिला जर्नलिस्ट ने जिस सच्चाई की ओर संकेत किया वह इतनी शर्मनाक है जिसे जानकर किसी का भी सिर शर्म से झुक जाए। असल में लेसी भी कई बार उबर की सुविधाएं ले चुकी हैं लेकिन उनका कहना है कि असल मुद्दा ये नहीं है कि कौन सी कैब कंपनी कम खतरनाक है और कौन ज्यादा। असल समस्या ये है कि हमारी संस्कृति ही महिलाओं के अपमान को बढ़ावा देनी वाली है।

लेसी एक न्यूज वेबसाइट चलाती हैं। अभी हाल ही में उन्होंने एक इंवेस्टिगेटिव स्टोरी की ‌थी जिसमें उन्होंने उबर के उस दावे के खोखलेपन को साबित किया था जिसमें कंपनी कहती है कि उसके किसी भी ड्राइवर का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। लेसी ने अपनी रिपोर्ट में एक और चौंकाने वाला खुलासा किया। उन्होंने बताया कि जैसे ही काोई उबर ड्राइवर्स की शिकायत कंपनी से करतीं कंपनी के लोग उलट कर पैसेंजर पर ही दोष मढ़ देते। यहां तक कहा जाता कि पैसेंजर ने इतने भड़काउ ड्रेस पहन रखे थे कि इस तरह की घटना को रोका नहीं जा सकता।

लेसी ने बताया कि उबर ऐसी कंपनी है जिसके सीईओ ट्रैविस क्लेनिक ने कंपनी की सफलता से खुश होकर कहा ‌कहा था कि हम एक बूबर (Boober) कंपनी है जिसके साथ महिलाएं सोना चाहती हैं। कंपनी तो यह तक कहती है कि महिलाएं टैक्सी ड्राइवर के हमले को सबसे ज्यादा शिकार बनतीं हैं। ऐसे में सिर्फ उबर को ही इसके लिए दोषी ठहराना गलत है। लेसी से तो यह तक कहा गया कि अगर उनके खुलासे के बाद भी महिलाओं के साथ इस तरह की घटना होती है तो उसकी पूरी जिम्मेदारी लेसी जैसी महिलाओं को लेनी चाहिए।

लेसी का कहना है कि जैसे ही इस तरह की घटनाओं के बारे में जिम्मेदारी लेने की बात आती है कोई भी आगे नहीं आना चाहता। लेसी की रिपोर्ट का सार है कि हमारे समाज में महिलाओं को जब तक उपभोग की वस्तु के रूप में प्रयोग किया जाता रहेगा उसे सम्मान दिलाना मुश्किल है। ऐसे में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सांस्कृतिक मूल्यों में बदलाव की गंभीर आवश्यकता है।

साभार: indianexpress.com

Tweet 20
fb-share-icon20

भड़ास व्हाटसअप ग्रुप ज्वाइन करें-

https://chat.whatsapp.com/B5vhQh8a6K4Gm5ORnRjk3M

भड़ास तक खबरें-सूचना इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Comments on “उबर के सीईओ ने कहा था- हम एक बूबर कंपनी हैं जिसके साथ महिलाएं सोना चाहती हैं!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *