पुत्रमोह में फंसे मुलायम अंतत: अखिलेश के ही हुए!

अजय कुमार, लखनऊ

आगरा में समाजवादी पार्टी का अधिवेशन अखिलेश यादव को नई उर्जा दे गया। वह न केवल समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गये बल्कि उन्हें पिता मुलायम सिंह यादव का आशीर्वाद भी मिल गया जिन्होंने ऐन वक्त पर अलग राजनैतिक दल बनाने का अपना इरादा बदल दिया। सूत्र बताते हैं कि जब आगरा में सपा को अधिवेशन हो रहा था, उसी समय लखनऊ में मुलायम के नेतृत्व में नई पार्टी बनाने की नींव एक तरह से रख ली गई थी, जिसकी रूपरेखा 25 सितंबर को तय कर ली गई थी, लेकिन अखिलेश की चतुराई से ऐसा हो नहीं सका। अन्यथा अखिलेश के लिये बड़ी मुश्किल खडी हो जाती।

खैर, इसके पीछे तमाम किंतु-परंतु हो सकते हैं, लेकिन नेताजी के नई पार्टी बनाने से कदम पीछे खींचने की सबसे बड़ी वजह एक बार नेताजी का पुत्र मोह ही रहा। मुलायम को करीब से जानने वालों को पता है कि नेताजी कहें कुछ भी लेकिन दुनिया में वह अखिलेश से अघिक किसी को प्यार नहीं करते हैं। किसी रिश्ते को तवज्जो नहीं देते हैं। वह अखिलेश को फलता-फूलता देखना चाहते हैं। इसके लिये हर जतन करते हैं। बस, फर्क इतना भर है कि अखिलेश अपने बनाये रास्ते पर चलना चाहते हैं जबकि पिता मुलायम चाहते हैं कि बेटा उसी मार्ग पर आगे बढ़े जिस मार्ग को उन्होंने वर्षो की ‘तपस्या’ के बाद तैयार किया है। नेताजी का पुत्र मोह ही था जो उनका पर्यावरण इंजीनियर बेटा अखिलेश सियासत के मैदान में कूदा। नेताजी ने पहले बेटे को सांसद बनाया, फिर उसकी पत्नी डिपंल यादव को लोकसभा में भेजा। नेताजी के करीबी बताते हैं कि वह दिन में कई बार अखिलेश से फोन पर बात करते थे, अगर एक बार भी अखिलेश फोन नहीं उठाते तो वह बेचैन हो जाते थे। यह सिलसिला लगातार चलाता रहा। पुत्र मोह में ही मुलायम ने परिवार के विरोध की परवाह न करते हुए अखिलेश को सीएम की कुर्सी तक सौपी थी,जबकि वह चाहते तो स्वयं या फिर शिवपाल यादव को जो अपने आप को सीएम पद का प्रबल दावेदार समझ रहे थे, को यह मौका दे सकते थे। अखिलेश को सीएम बनाये जाने से शिवपाल की नाराजगी किसी से छिपी नहीं रह पाई थी। अखिलेश ने सीएम की कुर्सी संभालते ही प्रदेश के विकास को अपना सियासी हथियार बना लिया।

मुलायम पुत्रमोह में फंसे रहे तो अखिलेश ने भी एक आज्ञाकारी बेटे की भूमिका निभाने में कभी कोताही नहीं की। 2012 में विधान सभा चुनाव जीतने के बाद नेताजी की मर्जी के अनुसार अखिलेश ने मंत्रिपरिषद का गठन किया। इस वजह से अखिलेश के कई करीबी नेता जो मंत्री पद के प्रबल दावेदार थे, नाराज भी हो गये थे। नेताजी की खास आईएएस अनीता सिंह को प्रमुख सचिव बनाया, जिनको पांच साल तक नहीं हटाया। अखिलेश को पता था कि मुलायम अपने सभी काम अनीता सिंह के माध्यम से ही कराते हैं,लेकिन सीएम रहते अखिलेश ने कभी इस इसमें दखलंदाजी नहीं की। मुलायम ही नहीं, चचा शिवपाल यादव भी अखिलेश राज में अपने आप को सुपर सीएम समझते थे। वह सभी विभागों में सीधा दखल देते थे। मुलायम सिंह शिवपाल यादव और आजम खान का  ही नहीं प्रमुख सचिव अनीता सिंह का भी अखिलेश राज में सिक्का चलता था। इसी लिये विपक्ष हमेशा साढ़े चार मुख्यमंत्री की बात कहता रहता था। यह सब 2014 लोकसभा चुनाव तक तो चलता रहा, परंतु जब आम चुनाव के नतीजे आये और समाजवादी पार्टी पांच सीटों पर सिमट गई तो नेताजी से लेकर शिवपाल यादव तक ने हार का ठीकरा अखिलेश के सिर फोड़ दिया। अखिलेश ने तेवर बदल लिये। वह फ्रंट मोर्चे पर आ गये। उन्होंने सबसे साथ-साथ नेताजी की भी सुनना बंद कर दिया।

अखिलेश जिद्दी बचपन से ही थे। मगर बचपन की बात और होती है। सीएम की कुर्सी पर रहकर जिद्द कराना उनको भारी पड़ने लगा बाप-चचा के इगो को ठेस लगी तो कुछ लोग घर के झगड़े की आग में घी डालने का काम करने लगे। इसमें अमर सिंह से लेकर मां साधना सिंह, शिवपाल यादव, प्रो0 रामगोपाल यादव सहित तमाम नाम उछले। इसके बाद क्या हुआ, किसी से छिपा नहीं है। अखिलेश ने अपना घर बदला तो मां साधना से मनमुटाव की खबरें आने लगी। जिद्दी अखिलेश ने उन चचा को भी मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखा दिया जिनकी गोद में बैठकर वह कभी खेला करते थे। अखिलेश, बाप के आदेश की नाफरमानी नहीं कर सकते थे, इसलिये उन्होंने पिता मुलायम सिंह यादव से सियासी दूरी बना ली। वह सरकारी फैसलों पर उनसे राय-मशविरा करने में कतराने लगे। इस वजह से पिता-पुत्र के बीच दूरियां बढ़ती हीं गईं। समाजवादी पार्टी के नेता भी नहीं समझ पा रहे थे कि वह किसी ओर जायें। इसका अंजाम यह हुआ कि अखिलेश ने बगावत कर दी और लखनऊ में सपा को राष्ट्रीय अधिवेशन बुला कर अपने आप को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित करके नेताजी को संरक्षक बना दिया। चचा शिवपाल यादव को सरकार के बाद संगठन से भी बाहर का रास्ता दिखा दिया गया।

तब लगा कि पूरे ड्रामें का पटाक्षेप हो चुका है। मगर नेताजी ने हार नहीं मानी। उन्हें बेनी प्रसाद वर्मा, भगवती सिंह, रेवती रमण जैसे नेताओं के अलावा भाई शिवपाल का साथ मिला हुआ था तो तत्कालीन विधान सभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय और आजम खान जैसे नेता दोंनो तरफ मेलजोल बढ़ाये हुए थे। सबसे अधिक हिचकोेले शिवपाल यादव की सियासत मार रही थी। अखिलेश ने उन्हें किनारे कर दिया था और मुलायम सिंह भाई के साथ होते हुए भी पुत्र मोह से उबर नहीं पा रहे थे। इसी के चलते कई बार शिवपाल की फजीहत भी हुई। शिवपाल लगातार इस प्रयास में थे कि नेताजी के साथ मिलकर नया सेक्युलर मोर्चा बना कर अखिलेश को चुनौती दी जाये। आगरा अधिवेशन से पहले इसकी रूप रेखा भी बन गई थी,लेकिन ऐन वक्त पर पिता मुलायम से बात करके अखिलेश ने डेमेज कंट्रोल कर लिया। वह पिताश्री को आगरा अधिवेशन का निमंत्रण देने गये तो बाप-बेटे के बीच की दूरियां काफी कम हो गईं।

सूत्र बताते हैं मुलायम जो शुरू से अखिलेश को सियासत में एडजेस्ट करने में लगे थे उनके सामने अखिलेश ने अपने दिल की बात खुलकर रखी और कहा मैं तो 2000 में इजीनियर बनने के बाद नौकरी करना चाहता था, लेकिन आपने मुझे सांसद बना दिया। मुझे ही नहीं डिंपल को भी लोकसभा भेज दिया। मु.ख्यमंत्री की कुर्सी भी मैंने नहीं मांगी थी,आप चाहते तो स्वयं सीएम बन सकते थे या फिर किसी और अथवा चचाा शिवपाल को यह जिम्मेदारी सौंप सकते थे,परंतु आपने ऐसा नहीं किया। अब मेरे पास सियासत करने के अलावा कोई रास्ता भी तो नहीं बचा है। न मैं नौकरी कर सकता हॅू न ही कोई व्यवसाय। अखिलेश ने कहा, आपने मुझे इतनी बड़ी जिम्मेदारी सौंपी तो मैं पार्टी को मजबूती देने के लिये प्रदेश के विकास में लग गयां। आपनंे कई बार सार्वजनिक मंचों से हमारी क्लास ली मैंने कभी मुंह नहीं खोला। दीपक सिंघल को न चाहते हुए भी चचा के कहने पर मैंने मुख्य सचिव बनाया,जिसकी चर्चा अब जरूरी नहीं है। वह बोले एक्सप्रेस वे बनाने की बात आई तब भी आप नाराज हो गये कि इतना बढ़ा प्रोजेक्ट कैसे पूरा होगा। मैंने यह समय से पहले कर दिखाया।

अखिलेश ने अपना पक्ष रखा तो इस बात पर आश्चर्य भी जताया कि आप ही अपने फैसलों से पलटले रहे। पहले बिहार में गठबंधन किया, फिर तोड़ दिया। हम बीजेपी और मोदी का विरोध कर रहे थे, आप उनके करीब जाते दिखते रहे। कभी घर के शादी समारोह में बुलाया तो कभी उनके कान में फुसफुसा कर बात की, जिसका जबाव हमें देना पड़ता। कांग्रेस से गठबंधन पर मुलायम सवाल उठाते रहे हैं, इस पर अखिलेश ने कहा गठबंधन में कोई छोटा-बड़ा नहीं होता है। आपने भी तो 1993 में बीएसपी के साथ गठबंधन किया था जिसके उस समय मात्र 11 विधायक थे। अखिलेश ने कहा सार्वजनिक मंच से गलत बयानी से हमारे वोटरों के बीच भी गलत मैसेज जा रहा था। ऐसे ही तमाम मुद्दों पर जब पिता-पुत्र के बीच गलत फहमियां दूर हुई ंतो मुलायम ने यह मान लिया कि उनका बाकी का जीवन तो बैठ कर भी कट सकता है,लेकिन बेटे को अकेले नहीं छोड़ा जा सकता है। इसी के बाद नेताजी ने आगरा न पहुंच कर भी अखिलेश को बधाई दी,जिसका अच्छा मैसेज गया। अब तो यह भी कहा जा रहा है कि शिवपाल भी मान गये हैं कि अखिलेश को किराने करके समाजवादी राजनीति को आगे नहीं बढ़ाया जा सकता है। लगता है इस प्रकार से समाजवादी पार्टी के ड्रामें का पटाक्षेप हो गया है। पुत्रमोह में फंसे पिता मुलायम ने एक बार फिर साबित कर दिया कि उनके लिये अखिलेश के जैसा कोई नहीं है।

लेखक अजय कुमार लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार और स्तंभकार हैं.

अजय कुमार का लिखा ये भी पढ़ सकते हैं….

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *