‘जी हिंदुस्तान’ वालों ने कर दिया था ‘कोबरापोस्ट’ के पुष्प शर्मा का रिवर्स स्टिंग!

हाल ही में कोबरापोस्ट ने मीडिया वालों का स्टिंग दिखाया था. इस स्टिंग से सबको पता चला कि देश के ज्यादातर मीडिया संस्थान पैसे लेकर झूठी खबरें चलाने को तैयार हो गए. उस स्टिंग ऑपरेशन में यह भी दिखा कि मीडिया संस्थान पैसे लेकर प्रो हिंदुत्व की खबरें चलाने के लिए राजी थे. कोबरा पोस्ट के इस स्टिंग ऑपरेशन को अंजाम देने वाली टीम ने जी ग्रुप के चैनल ‘जी हिंदुस्तान’ का भी स्टिंग किया लेकिन वो लोग शायद भांप गए और खुद को बचाते हुए ‘कोबरा पोस्ट’ के रिपोर्टर का ही रिवर्स स्टिंग कर डाला.  कोबरा पोस्ट की टीम ने जिस वक्त अपने स्टिंग ऑपरेशन के लिए जी हिंदुस्तान चैनल से संपर्क किया था, उसी वक्त जी हिंदुस्तान चैनल के पत्रकारों ने सावधानी बरतते हुए सारी बातचीत को अपनी तरफ से रिकार्ड कर लिया. स्टिंग करने वाले का स्टिंग कर लेने को टीवी पत्रकारिता की भाषा में ‘रिवर्स स्टिंग’ कहते हैं. यानि पुष्प शर्मा तो ‘जी हिंदुस्तान’ चैनल वालों का स्टिंग कर रहे थे, उसी वक्त पर ‘जी हिंदुस्तान’ वाले भी उनका स्टिंग कर रहे थे. इसी रिवर्स स्टिंग को ‘जी हिंदुस्तान’ की टीम ने अपने चैनल पर ‘आपरेशन रा्ष्ट्रवाद’ के नाम से प्रसारित किया.

‘जी हिंदुस्तान’ पर चले इस रिवर्स स्टिंग में दिखाया गया है कि कैसे आचार्य अटल बने कोबरा पोस्ट के रिपोर्टर पुष्प शर्मा ने जी मीडिया की टीम को हिंदुत्व के पक्ष में खबरें दिखाने के लिए मोटी रकम का ऑफर दिया.

सितंबर 2017 को कोबरापोस्ट के अंडरकवर रिपोर्टर पुष्प शर्मा ने आचार्य छत्रपाल अटल के छद्मनाम और संत की वेशभूषा में जी हिंदुस्तान न्यूज चैनल की सेल्स टीम से संपर्क किया. सेल्स टीम ने इसकी जानकारी वरिष्ठ पत्रकारों को दी. जी हिंदुस्तान चैनल के बड़े पत्रकारों ने सावधानी बरतते हुए तय किया कि वे लोग भी पूरी बातचीत को रिकार्ड करेंगे. यानि रिवर्स स्टिंग करेंगे. साथ ही यह भी तय किया कि ऐसा कुछ भी आन रिकार्ड या आफ रिकार्ड न कहेंगे जिसका दुरुपयोग किया जा सके.

जी हिंदुस्तान की टीम ने आचार्य अटल बने पुष्पशर्मा को भुवनेश्वर के एक होटल में बुलाया. जी हिंदुस्तान की टीम ने सावधानी बरतते हुए होटल में पहले से ही खुफिया कैमरे लगा दिए. तय वक्त पर आचार्य अटल बने पुष्प शर्मा जी की टीम से मुलाकात करने होटल पहुंचे. उन्होंने जी हिंदुस्तान के पत्रकारों को हिंदुत्व से जुड़ी खबरें चलाने के लिए मोटी रकम का ऑफर दिया.

जी हिंदुस्तान के पत्रकारों ने कहा कि जो कुछ भी होगा सिस्टम के तहत होगा. आचार्य छत्रपाल अटल मध्यप्रदेश के दो मंत्रियों का नाम भी लेते हैं. साथ ही उज्जैन के एक आश्रम के गुरुजी को डील का किंगपिन बताते हैं. कुल मिलाकर जी हिंदुस्तान वाले फंसने से बच गए. साथ ही खुद द्वारा किए गए रिवर्स स्टिंग के फुटेज का इस्तेमाल कर ‘आपरेशन राष्ट्रवाद’ नामक कार्यक्रम चला दिया.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code