दिल्ली हाईकार्ट ने पीटीआई से निकाले गए 297 कर्मियों की नौकरी फिलहाल बचा दी

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मैनेजमेंट द्वारा जारी किए गए रिट्रेंचमेंट के अवैध आदेश पर हाई कोर्ट ने स्टे लगा दिया है। इस मामले के अंतिम फैसले तक यह स्टे जारी रहेगा। पीटीआई यूनियन की इस बड़ी न्यायिक जीत पर कर्मचारियों में प्रसन्नता है। दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश की कॉपी जल्द ही कोर्ट की वेबसाइट पर अपलोड हो जाएगी।

मीडिया ट्रेड यूनियनिज्म के इतिहास में पहली बार इस तरह का आदेश फेडरेशन ऑफ पीटीआई इम्प्लाइज यूनियंस ने दिल्ली हाईकोर्ट से जीता है। फेडरेशन के रिट पिटीशन संख्या 10605/2018 पर आज अपना आदेश पारित करते हुए न्यायमूर्ति श्री हरि शंकर ने मैनेजमेंट के रिट्रेंचमेंट के 29 सितंबर 2018 के आदेश पर रोक लगा दी।

इसके परिणामस्वरूप पीटीआई के सभी 297 कर्मचारी अगले 1 से 2 दिन में अपनी ड्यूटी पर आ जाएंगे। सरकार के किसी भी हस्तक्षेप के बिना फेडरेशन ने यह मामला अपने पक्ष में जीत लिया। सरकार को इस बात पर स्वयं भी विचार करना चाहिए कि इतने बड़े अन्याय पर वह आंखें बंद कर क्यों मौन थी।

सरकार ने एक बयान तक नहीं जारी किया। वह तो भला हो माननीय उच्च न्यायालय का जिन्होंने कर्मचारियों के हित में यह फैसला दिया। भला हो फेडरेशन की लीडरशिप का, जिसके महासचिव बलराम सिंह दहिया अध्यक्ष एजी मोहन उपाध्यक्ष सागर T Bhurke, संयुक्त सचिव अतनु पाल एवं Bhorker तथा कोषाध्यक्ष जेएस रावत हैं, ने एकजुट होकर कर्मचारियों के हित में यह लड़ाई लड़ी और जीत ली है।

इस लड़ाई को खत्म करने के लिए या यूं कहिए कि ध्वस्त करने के लिए मैनेजमेंट का कुछ दलाल पहले दिन ही 4 अक्टूबर को असिस्टेंट लेबर कमिश्नर के ऑफिस पहुंच गए थे और यदि वहां यह मसला शुरू हो गया होता तो आज माननीय उच्च न्यायालय से यह राहत नहीं मिली होती।

फेडरेशन आफ पीटीआई इम्प्लाइज यूनियन ने मैनेजमेंट को पत्र दे दिया है कि सारे कर्मचारियों को कल से ही ड्यूटी पर वापस ले लिया जाए अन्यथा यह माननीय न्यायालय के आदेशों का उल्लंघन होगा।

पीटीआई यूनियन के नेता Dr Indukant Dixit ने अपने साथियों को इस जीत पर यूँ बधाई संदेश जारी किया है-

Comrades, today the Federation of Press Trust of India employees unions has won the case in honorable Delhi High Court for you and I congratulate to all the Comrades across the country this is the victory of all the employees of PTI ! this is the victory of media trade unionism in India and god is with us. today The Honorable Delhi High Court stayed the illegal retrenchment order of the PTI management till the final disposal of the case. the details of the order will be uploaded on the High Court website in a day or two but the main operative part of the order has been pronounced and it is our victory! I am sure very soon all the retrenched colleagues will be reinstated in pti offices and they will start working as earlier. Lal Salam to all the Comrades and once again I will call all the Comrades to be united , to stay United with the Federation because it is your Unity which has won! it is your character which has won! it is your honesty which has won! the Honorable Court has agreed to our writ petition and it has stayed the managements order the management has not got any relief for now! God is great Federation of pti employees Union Zindabad please all of you come to Delhi on 13th December for the Grand meeting at Delhi we will celebrate as well as make Strategies for our future course of action! all the best ! once again Lal Salam!

BUJ statement on PTI Order

The Brihanmumbai Union of Journalists hails the order passed today by Justice C Hari Shankar of the Delhi High Court staying the retrenchment of 297 PTI employees on 29 September 2018.
This is a historic victory for the Federation of PTI Employees’ Unions, but is also a beacon of hope for all those struggling for the implementation of the Majithia Wage Board Award.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *