यूपी के मान्यता प्राप्त संवाददाताओं की आम सभा में चुनाव समिति घोषित, वीर विक्रम बहादुर मिश्र मुख्य चुनाव अधिकारी

: उत्तर प्रदेश राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति की आम सभा में 300 से ज्यादा सदस्यों की शिरकत : उत्तर प्रदेश राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति की आम सभा की बैठक आज दिनांक 21 अगस्त, 2015  को विधान भवन प्रेस रुम में आहूत की गयी. बैठक में राज्य मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त 300 से अधिक संवाददाताओं में हिस्सा लिया. बैठक की अध्यक्षता समिति के अध्यक्ष हेमंत तिवारी ने की जबकि संचालन सचिव सिद्धार्थ कलहंस ने किया.

हेमंत तिवारी ने अपने संबोधन में बीते तीन साल की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए पत्रकारों के कल्याण की विभिन्न योजनाओं पर शासन को भेजे गए प्रतिवेदन की जानकारी देते हुए उनकी प्रगति के बारे में अवगत कराया. उन्होंने समिति के आगामी चुनाव के बारे में आम सभा के सभी सदस्यों व विशेष कर नए मान्यता प्राप्त संवाददाताओं से राय व सुझाव मांगे. आम सभा की बैठक में सर्वसम्मति से आगामी चुनावों के लिए एक चुनाव संचालन समिति का गठन किया गया.

चुनाव संचालन समिति में निम्न लोगों को शामिल किया गया है.

1. श्री वीर विक्रम बाहदुर मिश्रा (मुख्य चुनाव अधिकारी)
2. श्री स्नेह मधुर (चुनाव अधिकारी)
3. श्री ज्ञानेंद्र शुक्ला (चुनाव अधिकारी)
4. श्री अनिल अवस्थी (चुनाव अधिकारी)
5. श्री मो. कामरान (चुनाव अधिकारी)

आम सभा ने सर्वसम्मति से 30 अगस्त तक राज्य मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त संवाददाताओं को मताधिकार व चुनाव लड़ने की सहमति प्रदान की है. आम सभा ने ने सबकी सहमित से चुनाव शुल्क 10 रुपये प्रति संवाददाता का निर्धारण किया है. आम सभा ने एक स्वर में कहा कि उपरोक्त के अतिरिक्त इस समिति के चुनाव संचालन की कोशिश  अवैध व असंवैधानिक है. आम सभा ने सर्वसम्मति से इस तरह के प्रयासों व इनमें शामिल लोगों की निंदा की है. बैठक की समाप्ति पर हेमंत तिवारी ने सभी मान्यता प्राप्त संवाददाताओं से आग्रह किया कि चुनाव कार्यक्रम, नामांकन, शुल्क जमा करने के लिए चुनाव समिति से संपर्क करें.

प्रेस रिलीज

‘भड़ास ग्रुप’ से जुड़ें, मोबाइल फोन में Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “यूपी के मान्यता प्राप्त संवाददाताओं की आम सभा में चुनाव समिति घोषित, वीर विक्रम बहादुर मिश्र मुख्य चुनाव अधिकारी

  • Gopalji Journalist says:

    संविधान के फोर्थ पिलर और गणेश शंकर विद्यार्थी की परिकल्पना जो उन्होंने पत्रकार जगत से देश दुनिया और समाज प्रति संजोई थी, इनके बीच इस तरह का टकराव इस छवि को धूमिल करता है।
    गंभीरता पूर्वक एक बार मनन-चिंतन करें कि हम जो भी कुछ कर रहे हैं और हम लोगों के बीच कुछ भी हो रहा है क्या यह फोर्थ पिलर की गरिमा के अनुरूप ही हो रहा है ?
    एक सजग प्रहरी की ओर से विनम्र प्रार्थना।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *