जी न्यूज पर एक बेशर्म विज्ञापन से भारतीय मीडिया का घोर अपमान

Gunjan Sinha : अभी ज़ी न्यूज पर विज्ञापन देखा – ‘भारतीय मीडिया जिन्हें करता है सलाम!’ – और फिर नाम आया ‘सुभाष चन्‍द्रा’. मैं भौंचक हूँ. आप कहते हैं कि मैं ना बोलूं, चूंकि निगेटिव बोलता हूँ, व्यक्तिगत हो जाता हूँ… डाक्टर कहता है कि मत सोचिये और गुस्सा मत करिये ब्लड प्रेशर बढ़ेगा. बीवी कहती है कि सभी बेहूदों को बेहूदा कहते रहोगे तो नौकरी किसके यहाँ करोगे?

लेकिन अब आप बताइये कोई इस तरह आत्म प्रचार करे, चलो मैं चुप रहूँगा लेकिन कोई ये कहे कि “भारतीय मीडिया जिन्हें करता है सलाम” – तो मैं कैसे बर्दाश्त कर लूँ? मैं भी भारतीय मीडिया मे हूँ और मैं ब्लैक मेलिंग के आरोपी को कैसे सलाम कर लूंगा . ये विज्ञापन पूरे भारतीय मीडिया का घोर अपमान है और इसे तत्काल बंद कराया जाना चाहिये. भारतीय मीडिया सलाम करता है गणेश शंकर विद्यार्थी को, पराड़कर को, राजेन्द्र माथुर को, प्रभाष जोशी को और श्रीलंका के उस संपादक को जिसने अपने जान कि कुर्बानी दी, भारतीय मीडिया सलाम करता है गावों और जिलों मे फैले लाखो संवाद दाताओं को जिनका खून चूस कर चैनलों और अखबारों के मालिक मोटे अरबपति बन जाते हैं. ज़ी न्यूज के इस विज्ञापन को तुरंत हटाया जाए या फिर ज़ी का बहिष्कार हो… उस पर भारतीय मीडिया के असह्य अपमान के लिये मुकदमा हो।  हो सकता है कि फिर कोई चमचा मेरे उपर व्यक्तिगत हमला करे और कहे कि वह सुभाषचंद्रा पर व्यक्तिगत हमले का जवाब है. …. लेकिन मेरा मानना है कि यह बेशर्म विज्ञापन एक व्यक्ति द्वारा पूरी भारतीय मीडिया का अपमान है और व्यक्तिगत मामला नहीं है।

वरिष्ठ पत्रकार गुंजन सिन्हा के फेसबुक वॉल से. उपरोक्त स्टेटस पर आए कुछ कमेंट्स इस प्रकार हैं…

    Ravindra Bharti भारतीय मीडिया सलाम करता है गावों और जिलों मे फैले लाखो संवाद दाताओं को जिनका खून चूस कर चैनलों और अखबारों के मालिक मोटे अरबपति बन जाते हैं.
 
    Prem Kumar चिन्ता जायज है सर….  नवल किशोर बंडा जैसे सेकुलर नेताओं ने चारा चोर को ही सबसे बड़ा सेकुलर बना दिया।
  
    Pankaj Yadav you are absolutely right sir, we are also against…..
       
    Santosh Gupta भारतीय मिडिया भला उस बिकाऊ चंद्रा को क्यों सलाम करे?
    
    Sneh Ranjan Sir eakdum sahi
    
    Birendra Km मीडिया सलाम करता है गावों और जिलों मे फैले लाखो संवाद दाताओं को जिनका खून चूस कर चैनलों और अखबारों के मालिक मोटे अरबपति बन जाते हैं…
    
    Arun Sathi मेरे जैसों ने जी न्यूज़ देखना बंद कर दिया है
    
    Manoj Srivastava जी मीडिया का मखौल उड़ रहा है और कुछ नहीं।
    
    Birendra Km india ye hall hi …ufff ?
    
    Pankaj Bhushan Pathak सर आज संपादक नही चंपादको की भरमार है। संवाददाता नही धनदाता की खोज की जाती है। सबको नियम का पाठ पढ़ानेवाले मीडिया हॉउस खुद को नियमो से परे रखता है। जो वाकई में चैनलों की जान है उन्हें महीनो तक सेलेरी नही मिलती लेकिन मालिक और चंपादको की हमेशा चांदी रहती है।
 
    Rahul Deo Solanki sir aaj patarkarita kanha hai dukane khuli hai na koi yogta ka mapdand na hi samaj me inki izzat pet palne ko lekar noukri ki jati hai
 
    Arti Gupta ye media wale saari duniya ki khabrein dikhate hai likin apni khabar likhne ki himmat nhi hai inme,yhan yogita ki koi value nhi hai sirf chaplooson ki value hai….
  
    Priyadarshan Sharma भय, भूख, आतंक को सनसनी के रूप फ़ैला कर आनंदित होने वाली मीडिया …. 
            
    Ishtiyaq Ahmed ek vaykti kaise bartiye media ho skta hai ?

    Shachindra Trivedi main sahmat hun. pat T.V.media ko suruati dish to isi vyakti ne di. media ke saudagar ke roop me to use salam karna hi padega

    Madhwendra Pandey Notankibaj chandra pure midia jagat ko rakhel bana ke rakh dega

    Ravi Mishra सर बाप बड़ा न भईया सबसे बड़ा रुपईया…हर चीज का अंत तय है…हमें इंतजार ते करना होगा…

    Sujeet Mani Bilkul sahi. . . Bhartiye media salam karta hai desh ke un bivinn hiso me faile samvaaddaato ko jinka khun chus kar chainalo ke maalik arabpatti bane hue hai. . .bilkul sach.

    Om Prakash Pandey bilkul sahi hai….aise logo ke liye agar behuda word istemal kiya jaye to koi galti nahi balki kam hai….jo apni jaan per khel kar reporting karte hain unhe koi nahi janta aur ye log baithe baithe salam wale ho jate hai….shame….kamsekam kisi ke kaam ki tarif to shan se karni chahiye…

    Kavita Arya I am indebted to my father for living, but to my teacher for living well.Thank You sir for being my torch bearer , Happy Teacher’s day in advance——With Immense regard.
 
    Pranesh Arya बाप बड़ा न भईया सबसे बड़ा रुपईया…
 
    Dhanan Jay आप जो इस तरह नैतिक गुस्से का तांडव करते रहते हैं गुंजन जी उसका खरीददार है हीं कहां भाई गुंजन । भाभी ठीक कहती है किसको सुना रहे हैं यह सब, कौन सुन रहा है । शांत हो जाइए मित्र , शांत ।See Translation
  
    Aman Kumar मौके के दस्तूर में हमने मालिकाना छोड़ दिया…कहते हैं जमाना नहीं बदलेगा…ऐसे में हमने खुद को ना बदल के…वो जमात ही छोड़ दिया…क्योंकि ये एक पत्रकार की आग है…पैरोकार का फिराक नहीं…हैप्पी टीचर डे…सर…PROUD TO MY FIRST CHANNEL HEAD…

    Rajanish Kant sir, naukar to malik ko salami dega hi!
 
    Pradeep Pallove भारतीय मीडिया सलाम करता है गणेश शंकर विद्यार्थी को, पराड़कर को, राजेन्द्र माथुर को, प्रभाष जोशी को और श्रीलंका के उस संपादक को जिसने अपने जान कि कुर्बानी दी, भारतीय मीडिया सलाम करता है गावों और जिलों मे फैले लाखो संवाद दाताओं को जिनका खून चूस कर चैनलों और अखबारों के मालिक मोटे अरबपति बन जाते हैं. क्या सही बात की है सर्?
 
    Anjani Kumar Singh वर्तमान में मीडिया से क्या उम्मीद की जा सकती है जहाँ संवेदनशील मुद्दे को भी नमकीन बनाकर पेश किया जाता हो और माला माल बन्ने का जरिया बनता हो.आपकी बातों का पुरजोर समर्थन करता हूँ.

    Manoj Pathak sahi kaha hai aap dono ne….

    Kumar Mukul भारतीय मीडिया सलाम करता है गणेश शंकर विद्यार्थी को, पराड़कर को, राजेन्द्र माथुर को, प्रभाष जोशी को और श्रीलंका के उस संपादक को जिसने अपने जान कि कुर्बानी दी, भारतीय मीडिया सलाम करता है गावों और जिलों मे फैले लाखो संवाद दाताओं को जिनका खून चूस कर चैनलों और अखबारों के मालिक मोटे अरबपति बन जाते हैं.

    Sanjay Shashwat भारतीय मीडिया सलाम करता है गणेश शंकर विद्यार्थी को, पराड़कर को, राजेन्द्र माथुर को, प्रभाष जोशी को और श्रीलंका के उस संपादक को जिसने अपने जान कि कुर्बानी दी, भारतीय मीडिया सलाम करता है गावों और जिलों मे फैले लाखो संवाद दाताओं को जिनका खून चूस कर चैनलों और अखबारों के मालिक मोटे अरबपति बन जाते हैं.सौ फिसदी सही बात है…….

    Santosh Singh Somehow it’s just lime light aur waise bhi it’s India jahan ek bolta hai baki sare sunte hai so Get ready for that.
   
    Hans Raj RIGHT SIR AGREE

मूल पोस्ट….

अपने शो में युवाओं को नेतृत्व और उद्यमिता के गुर सिखाएंगे सुभाष चंद्रा

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *