अभिनेत्री रह चुकीं मंत्री ने सीधे सवाल को महिला-मुद्दा बनाकर स्टूडियो में मौजूद ‘जनता’ को ‘आजतक’ के खिलाफ भड़काया

Om Thanvi : सीधे सवाल पर ड्रामा जवाब से भागती ईरानी का, उलटा आरोप पत्रकार पर! अशोक सिंघल ने आजतक पर स्मृति ईरानी से पूछा कि मोदी ने आपको क्या खूबी देख कर (केबिनेट) मंत्री बनाया। स्मृति का हुनर देखिए कि जिस सवाल पर पहले कोई हैरान नहीं हुआ था, जवाब देने की जगह अभिनेत्री रह चुकीं मंत्री ने उस सवाल को महिला-मुद्दा बनाकर स्टूडियो में मौजूद ‘जनता’ के बीच कुछ इस अंदाज से उछाला कि लोग भड़क गए, इतना कि मंच पर पत्रकार पर हमला तक करने जा पहुंचे। तब मंत्री ने उठकर पत्रकार को बचाने जाने का उपक्रम भी प्रदर्शित किया! गौर करने की बात है कि आमंत्रित की गई भीड़ ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगा रही थी।

मुझे नहीं लगता कि अशोक सिंघल ने सवाल बदनीयत से पूछा होगा, न उनका स्वर या अंदाज इसकी गवाही देता है। दरअसल, इस तरह यह सवाल किसी भी मंत्री (स्त्री हो चाहे पुरुष) को पूछा जा सकता है जिसकी न सिर्फ योग्यता प्रश्नों के घेरे में हो, बल्कि शिक्षा के फरजी दावों की वजह से भी जो गहरे विवादों में हो। सवालों से कतराते और जवाबों से बचते हुए अपनी विचारधारा वाली भीड़ से टीवी स्टूडियो पर चढ़ाई करवा देना स्मृति के गैर-लोकतांत्रिक होने का एक और प्रमाण है। (वीडियो का लिंक ईरानी के प्रेस-विरोधी अभियान का हिस्सा है, जो शीर्षक आदि से जाहिर है। पर इसमें सच्चाई शोर को चीर कर खुद बाहर निकल आती है।)

https://www.youtube.com/watch?v=Ut7nrLyvlXs

जनसत्ता अखबार के संपादक और वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी के फेसबुक वॉल से.


संबंधित एक अन्य पोस्ट…

अंजना ओम कश्यप और आज तक का सच से सामना हो गया कल शाम

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “अभिनेत्री रह चुकीं मंत्री ने सीधे सवाल को महिला-मुद्दा बनाकर स्टूडियो में मौजूद ‘जनता’ को ‘आजतक’ के खिलाफ भड़काया

  • rajusharma says:

    स्मृति ईरानी ने अभिनेत्री होने का फायदा उठाया सवाल गलत नहीं था ईरानी की सोच और भक्तों की सोच एक जैसी थी स्मृति जी सोच बदलो देश बदलेगा 😆 😆

    Reply
  • पप्पुओं तुमने कितनी बार ये सवाल सोनिया गांधी से पूछा था की उसने क्या खूबी देख कर मनमोहन जी को PM बनाया। पप्पुओं सुबह शाम बस यही काम बचा है तुमपर क्योंकि दुकान तुम जैसो की मोदी ने पहले ही बंद करदी है

    Reply
  • दलाल रह चुके पत्रकारो को ऐसे ही अभिनेत्री रह चुकी मंत्रियो की जरुरत है अब ।ताकि ऐसे दलाल रह चुके पत्रकारो को भोकने से रुक जा सके।

    Reply
  • Ravi Ranjan says:

    the intention of Ashoka Singal was not good, Atleast NDA ministers are facing public and answer questions rasied by people, But Senior journalists Like OT and others doing wrong views. I have seen OT in some news channels he acts like as spokes person of Aam Admi Party,,,Be cool Mr. OT, Another 20 years Only Modi government will rule India,

    Reply
  • अभिषेक आनंद says:

    ओम थानवी जी अगर अशोक सिंघल जैसे अनपढ़ और जाहिल को पत्रकार मानते हैं तो लानत है आपकी भी समझ पर

    Reply
  • bheed ka hissa says:

    Bau Ji, Aap to varishth patrakaar hain. Fir aap kaha se ye kah rahe hai ki “सवालों से कतराते और जवाबों से बचते हुए अपनी विचारधारा वाली भीड़” kaun sawal se katraya aur kisne logo ko sawal karne hi nahi diye? Patrakaar sach ko sach aur jhoot ko jhoot bolta “THA” [kuch abhi bhi honge] par ab wo log nahi rahe, ab kewal media house hain..jo corporates chala rahe hai. Yaha janta Smriti ke against hote huye bhi unhe support kar gayi kyuki, patrakarita waha pahle hi dafan ho chuki thi, kewal chillana, dhakka dena aur faltu ke jawab dena hi rah gaya tha. Smriti ne is attitude ka poora maja liya. Ab aap batao ki aap bhi dwesh ya purvagrah se grasit ho ya nahi?

    Reply
  • हरीश सियोल दावणगेरे says:

    ओम थानवी जी आप पत्रकार हैं या किसी पार्टी के प्रवक्ता। हम जनता को आप इतना भोला मत समझिये।
    सवाल को एक बार फिर तोड़ मरोड़कर मत पेश कीजिये।
    आपका आजतक चैनल नंगा हो गया तो आपको शर्म आ रही हैं। बहुत क्रांतिकारी क्रांतिकारी।।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *