‘न्यूज़ नेशन’ अपने रीजनल चैनल ‘न्यूज़ स्टेट’ के स्ट्रिंगरों से करवा रहा अवैध उगाही !

लखनऊ : न्यूज़ नेशन का रीजनल चैनल न्यूज़ स्टेट यूपी अपने स्ट्रिंगरों से अवैध उगाही करवा रहा है। नहीं करने पर उत्पीड़ित किया जा रहा है। 

बताया गया है कि चैनल में बैठे कुछ लोग अब स्ट्रिंगरों से उगाही करवा रहे हैं वो भी विज्ञापन के नाम पर। जिन स्ट्रिंगरों को ये महीने का पैसा भी ठीक से उनकी मेहनत अनुसार देते, उन स्ट्रिंगरों से 25 -25 लाख के विज्ञापन मांग रहे हैं और जो नहीं दे रहा, उसको निकाल देने की धमकी रोज दी जाती है। पिछले 15 दिनों में इन धमकियों के चलते 5 से 6 दुखी स्ट्रिंगर चैनल को अलविदा कह चुके हैं। 

सौरभ उपाध्याय नाम के एक शख्स विज्ञापन की पूरी कमान संभाले है और सुबह शाम फोन काल करते हैं। इतना ही नहीं, व्हट्सप्प ग्रुप तक बनाकर सुबह-शाम विज्ञापन का दबाव बनाया जा रहा है और ऊपर बैठे लोग ये सब तमाशा बंद आँखों से नहीं खुली आँखों से देख रहे हैं। आज भी चैनल के एक व्हाट्सप्प ग्रुप पर कई लोगो ने सीनियर्स से अपनी पीड़ा बताते हुए चैनल को अलविदा कह दिया मगर ऊपर वालों के कान पर जूं तक नहीं रेंगी। उल्टे एक झटके में इस्तीफा मंजूर कर लिया और बेचारे को ग्रुप से आउट कर दिया। 

जो कर्मी इतनी मेहनत करते करते चैनल को नंबर एक पोजीशन पर पहुंचाये हैं, आज उन्ही को लाखों रुपए के विज्ञापन के लिए तंग किया जा रहा है। महीने में पांच हज़ार तक मेहनत का पैसा देते हुए इनकी घिग्घी बंध जा रही है और विज्ञापन चाहिए इनको लाखों रुपए। चैनल ठीक ठाक स्तिथि में चल भी रहा है मगर उसके बाद भी पूरा दबाव बनाया जा रहा है।

अपुष्ट तौर पर बताया गया है कि इसी महीने एक साथ करीब 50 स्ट्रिंगर इस्तीफा देने की योजना बना रहे हैं। कोई भी स्ट्रिंगर 25  लाख रुपए के अगर विज्ञापन इकट्ठा कर सकता तो खुद की विज्ञापन एजेंसी खोल लेता और 10 से 20 हज़ार रुपए महीना कमा लेता। चैनल प्रबंधन स्ट्रिंगर की मेहनत का पूरा पैसा नहीं देता है और विज्ञापन का कमीशन तो दूर की बात। 

एक दुखी स्ट्रिंगर अपने पत्र में लिखता है कि ”अरे आप लोग ज़ी संगम, इ टीवी, संचार प्लस से आगे निकलने की बात कह रहे हैं मगर इन तीनों चैनल में विज्ञापन तक का दबाव नहीं है। रणजीत कुमार, सौरभ उपाध्याय, आप जान लो कि एक साथ सैकड़ों स्ट्रिंगरों की बद्दुआ मत लो। कभी जमीन पर आकर ये देख लो कि आपका स्ट्रिंगर कैसे आपके चैनल को नंबर एक बनाने के लिए हर वक़्त मरता है और आप लोग एसी में बैठकर उनपर विज्ञापन का दबाव बनाते हो। न्यूज़ नेशन के चेयरमैन से निवेदन है कि यहाँ बैठे लोगो को समझाओ वर्ना यूपी और यूके के सैकड़ों स्ट्रिंगर एक साथ इस्तीफा देकर मोर्चा खोल देंगे।”

एक दुखी स्ट्रिंगर  

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “‘न्यूज़ नेशन’ अपने रीजनल चैनल ‘न्यूज़ स्टेट’ के स्ट्रिंगरों से करवा रहा अवैध उगाही !

  • Pratap Singh says:

    yahi nahi gram panchayat chunav me janapad ke sabhi gram panchayat se pradhan aur 2nd no. se vigyapan ki tips di ja rahi. ab gram gram ja kar advt lena hoga. isake liye tadaseel par agent baithayenge matalab Mike ID bechane ki puri taiyari hai. isake alawa logon ko nikal kar bharti bhi kar rahe hain aise logon ki sun kar koi chakaraa daktaa hai. apaka news ya advt ka koi background bhale n ho lekin… filhal yahan kam karna suicide ke barabar ho gaya hai.

    Reply
  • deepak kumar pandey says:

    mujhe locknow ya delhi ncr me riporting ki ek job chahiye.. maine 2014 me MA Mass Comm complite kiya hai.. mai bahut acha likhta.. mehnat krta hu… aur mehnat krne par hi bharosa krta hu… mera numbar hai– 09452142472

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *