इन दुराचारियों के लिए रात हो या दिन, कितनी भी उम्र की हो, बस औरत होनी चाहिए

Manika Mohini : कोलकता के नडिया ज़िले के जीसस एंड मेरी कॉन्वेंट स्कूल की 71 वर्षीय नन के साथ दो दिन पूर्व हुए सामूहिक बलात्कार के दोषी हालाँकि स्कूल के CCTV कैमरे में देखे जा चुके हैं लेकिन अब तक पकडे नहीं गए. इन हवस के मारों के बारे में सोचिए, कितने ज़लील हैं ये, 71 वर्ष की महिला के झुर्रियों से भरे हुए शरीर और नन के कपड़ों में कौन सा स्त्री-सौंदर्य होगा जिसने इन मरदुओं को अपनी हवस मिटाने के लिए प्रेरित किया? कहाँ हैं वे लोग जो बलात्कारियों के पक्ष में तर्क देते हैं कि औरतें ऐसे कपडे पहनती हैं, वैसे मेकअप करती हैं, रात को घर से निकलती हैं आदि आदि.

 

इन दुराचारियों के लिए रात हो या दिन, कितनी भी उम्र की हो, बस औरत होनी चाहिए। ऐसों के लिए फाँसी की सजा भी कम है, इन्हें सजा देने का और इस स्थिति से उबरने का केवल एक ही उपाय है कि इनका शापित अंग काट कर इन्हें नामर्द बना दिया जाए या इन्हें तुरंत नामर्द बनाने वाली कोई औषधि खिलाई जाए. ताकि भविष्य में ये कोई ऐसी हरकत न कर सकें। जिन में बहुत ‘मर्दानगी’ भरी है, जो उनसे सम्भलती नहीं, उन्हें नामर्द बनाना ही इस समस्या का एकमात्र हल है. इस बात को निर्णायक गण कब समझेंगे?

महिलावादी मनिका मोहिनी के फेसबुक वॉल से.



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Comments on “इन दुराचारियों के लिए रात हो या दिन, कितनी भी उम्र की हो, बस औरत होनी चाहिए

  • Dharam Chand Yadav says:

    71 वर्षीय नन के बलात्कारियों नामर्द बना दिया जाना चाहिए तभी
    इस समस्या का हल निकलेग

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *