भड़ास से जुड़ें और धन व नाम कमाएं… मीडियाकर्मियों के लिए एक प्रस्ताव!

यशवंत-

डिजिटल जर्नलिज्म ने मीडिया का चेहरा बदल दिया है. मुख्यधारा का मीडिया अब सत्ता का मीडिया हो चुका है. जनता की आवाज डिजिटल जर्नलिस्ट उठा रहे हैं. गूगल अपने यूट्यूब प्लेटफार्म के जरिए मीडियाकर्मियों के चैनल को मानेटाइज कर रहा है जिससे सच कहने वाले खुद ही फंड इकट्ठा कर ले रहे हैं, गूगल के विज्ञापनों से.

जो पत्रकार, एंकर, रिपोर्टर बड़े चैनलों में में रहे हैं, बड़े पदों पर रहे हैं, वे अपना यूट्यूब चैनल फटाफट मानेटाइज करा ले जाते हैं, उनके वीडियोज लाखों के व्यूज पाते हैं, इसलिए उनके पास पैसे की कमी नहीं होती. कुछ ऐसे यूट्यूब चैनल है जो कई बड़े पत्रकारों ने मिलकर बनाया है और साझे में चला रहे हैं. उनका मकसद धन कमाने से ज्यादा सच दिखाने का है. यूट्यूब चैनल के मानेटाइज होने और हर वीडियो के लाखों में देखे जाने से उनके पास पैसे की कमी भी नहीं होती. उनका संस्थान गूगल के विज्ञापनों से खुद का खर्च निकाल लेता है. तो ये सारे प्रयोग चल रहे हैं.

मुश्किल में अभी तक जिलों और कस्बों के पत्रकार हैं. या वे पत्रकार हैं जो फेमस नहीं हैं, जिनके फालोवर नहीं हैं. ये लोग यूट्यूब पर अपना चैनल तो बना लेते हैं पर बड़ी दिक्कत मानेटाइज कराने के लिए सब्सक्राइबर और व्यूज मिनट का चैलेंज पास करने के अलावा हर वीडियो के लिए दर्शक खोजने की होती है. एकला चलो रे का फार्मूला उनका सफल नहीं हो पाता. वे बाद में फिर से नौकरी खोजने लगते हैं और अपने यूट्यूब चैनल को यूं ही छोड़ देते हैं.

ऐसे आम पत्रकारों के लिए भड़ास की तरफ से एक आफर है. क्यों न हम सब मिलकर एक चैनल चलाया जाए और उसमें जो भी वीडियो जितना भी कमाई करे, उससे रेवेन्यू शेयरिंग की जाए.

भड़ास का यूट्यूब चैनल मानेटाइज है और लाख से ज्यादा इसके सब्सक्राइबर भी हैं. इस चैनल पर कभी कभार कोई वीडियो अपलोड किया जाता है. ज्यादातर वायरल वीडियो पुराने हैं जिनके व्यूज करोड़ों में हैं.

विचार है कि इसी यूट्यूब चैनल को अब कोआपरेटिव पर आधारित चैनल बनाया जाए. नीचे कुछ प्वाइंट्स विचार के लिए छोड़ रहा हूं. अगर आपकी तरफ से भी कुछ सुझाव आए तो ठीक रहे.

-आप अगर मौलिक वीडियो कंटेंट जनरेट करते हैं तो ये प्रस्ताव आपके लिए है.

-आप वीडियो शूट कर भड़ास को भेजें. एडिटिंग के बाद उसे अपलोड कर दिया जाएगा.

-उस वीडियो की कमाई ज्यों ही दो डालर होगी, आपके एकाउंट में एक डालर भेज दिया जाएगा.

-मतलब रेवेन्यू शेयरिंग फिफ्टी फिफ्टी की रहेगी.

-वीडियो के प्रमोशन और व्यूज बढ़ाने की जिम्मेदारी भड़ास की रहेगी.

-ओरिजनल वीडियो किसी भी फील्ड से जुड़ा हो सकता है.

-पालिटिक्स, कुकिंग, टूरिज्म, कामेडी, समाचार, प्रेस कांफ्रेंस, बयान… कोई भी वीडियो चलेगा, बस कंटेंट ओरिजनल हो.

-आप पत्रकार होने के साथ साथ खुद अच्छे वक्ता और विश्लेषक हैं तो सम सामयिक खबरों का विश्लेषण करें और इसे शूट कर भेज दें.

-अगर आप इंटरव्यू करने में माहिर हैं तो समाज के अलग अलग फील्ड के लोगों का इंटरव्यू करें और भेज दें.

-जो भी भड़ास के यूट्यूब चैनल से उपरोक्त आधार पर जुड़ता है तो उसको ‘भड़ास कोर ग्रुप’ का सदस्य बनाया जाएगा.

उपरोक्त प्रस्ताव कई महीनों से दिमाग में घूम रहा था. नए साल में सोचा कि इस प्रयोग को करके देखा जाए. भड़ास यूट्यूब चैनल को आम पत्रकारों का चैनल बनाया जाए जहां वे अपने कंटेंट के मालिक खुद रहें ताकि उस कंटेंट से हुए आय का आधा हिस्सा पा सकें. साथ ही उन्हें बड़े प्लेटफार्म का एक्सपोजर मिल सके. इस प्रयोग के जरिए कई जमीनी पत्रकार अपनी मेहनत से चर्चित चेहरे में तब्दील हो सकते हैं. डिजिटल जर्नलिज्म में हर वो शख्स चर्चित हो सकता है जिसके पास कोई हुनर हो और साथ ही कोई प्लेटफार्म.

तो आपकी क्या राय है… सुझाव दें…

अगर आप प्राथमिक तौर पर सहमत हैं तो अपना कोई एक ओरिजनल वीडियो भेजें. वो चाहे न्यूज से संबंधित हो या विश्लेषण से या चर्चा पर आधारित हो या इंटरव्यू हो. वीडियो को ओरीजनल फार्मेट में भेजने के लिए कई आप्शन हैं.

पहला आप्शन है कि उसे गूगल ड्राइव में सेव करें और उसका शेयरिंग लिंक भड़ास के मेल पर भेज दें.

दूसरा है कि वाट्सअप से डाक्यूमेंट्स कैटगरी के जरिए ओरीजनल वीडियो फुल लेंथ में भड़ास के वाट्सअप नंबर पर भेज दें.

कई वेबसाइट्स वीडियो शेयरिंग का आप्शन देती हैं, उसके जरिए भी ओरीजनल वीडियो भेज सकते हैं.

भड़ासी मेल और वाट्सअप नंबर आपके पास न हों तो भड़ास पर बिलकुल उपर व भड़ास की किसी भी खबर के बिलकुल आखिर में जाकर पा सकते हैं. वैसे इस पोस्ट के लास्ट में भी दे रहे हैं.

संभव है भड़ास के यूट्यूब चैनल से जुड़ाव के बाद आपकी प्रतिभा को देखकर आपके पास कुछ बेहतर जगहों से भी प्रस्ताव पहुंचे. तो कमाई के साथ एक्सपोजर के लिए भी एक अच्छा जरिया होगा भड़ास यूट्यूब चैनल का साथ.

आपके जवाब का इंतजार रहेगा. आप द्वारा शूट किए गए वीडियो का इंतजार रहेगा. साथ ही आपका बैंक एकाउंट नंबर, बायोडाटा और आपकी खास प्रतिभा का जिक्र रहे तो बेहतर.

नए साल की आप सभी को ढेरों शुभकामनाएं…

यशवंत

मेल bhadas4media@gmail.com
वाट्सअप नंबर 7678515849

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Comments on “भड़ास से जुड़ें और धन व नाम कमाएं… मीडियाकर्मियों के लिए एक प्रस्ताव!

  • Satyanarayan chaturvedi says:

    श्रीमान स्वागत योग्य प्रस्ताव है और इससे हमें जोड़ने का कष्ट करें

    Reply
  • Dinesh Kumar Sharma says:

    यह बहुत अच्छा लगा की भड़ास एक बढ़िया कदम उठा रहा हे

    Reply
  • बढ़िया सुझाव है। कारगर साबित होगा। मैं भी जुड़ना चाहता हूँ। क्योंकि महामारी और कंपनी की दिक्कतों के बाद मुझे भी 15 सालों की नौकरी के बाद सहारा समय न्यूज़ चैनल छोड़ना पड़ा।

    Reply
  • Ashok Kumar Navratan says:

    यशवंत जी
    आपका विचार सही है । लोगों से जुड़ना जरूरी है । दिल्ली आने पर मुलाकात करूँगा । अपना Adress भेजें ।
    अशोक कुमार नवरत्न

    Reply
  • राजीव रंजन says:

    बहुत अच्छा प्रयास है आपका सफल जरूर होगा मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं

    Reply
  • A . Q . Warasi journalist , VARANASI says:

    लोकप्रिय पत्रकार स्तम्भ , श्री यशवंत जी आपके प्रस्ताव का स्वागत है । आपका यह यूनिक आइडिया सहर्ष स्वीकार योग्य है । किन्तु कुछ ज्वलंत प्रश्न भी विचारणीय होगा , मीडिया रिपोर्ट , कवर स्टोरी , इनडोर-आउटडोर इंटरव्यू इत्यादि के कवरेज के लिए होने वाले मिसलोनियस खर्चों का प्रबंध कैसे होगा ?? इस पर वार्तालाप व मनन अति आवश्यक है । आपका प्रतिउत्तर
    वांछित है ।

    सधन्यवाद !!

    Reply
  • कुंवर समीर शाही says:

    बहुत सुंदर प्रस्ताव बड़का भैया कम से कम हम जैसे लोगो को इस घुटन भरे माहौल से मुक्ति का मार्ग आपने दिखाया । बहुत बहुत साधुवाद। हम जिस सपने को लेकर आये थे लग रहा अब वह सफल हो जाएगा। हम आपके प्रस्ताव से सहमत है। जय हिंद। जिंदाबाद।
    आपका अनुज
    कुंवर समीर शाही
    पत्रकार
    अयोध्या धाम
    9795503555

    Reply
  • Vimal Kothari says:

    अच्छा प्रस्ताव है। कइयों को एक बड़ा मंच मिल सकता है।

    Reply
  • बलवन्त सिंह says:

    बहुत ही अच्छा सुझाव है श्रीमान जी मैं इससे बिल्कुल सहमत हूँ।

    Reply
  • शमशाद आलम says:

    अच्छा प्रस्ताव है सर, मैं भी जुड़ना चाहता हूं।

    Reply
  • Rohit Gupta says:

    आदरणीय बड़े भाई यशवंत जी ,आपकी बात 100 आने सच साबित होगा ,ऐसे असंख्य लोग है और सब आपसे जुड़ना चाहेंगे ,आज के दौर में खबरें गायब हो गई है , YouTube पर सारे छोटे बड़े चैनलों के लाइक व्यूज को देखकर पता चल जायेगा।
    खैर हम आपके साथ है हम भी जुड़ना चाहेंगे।
    आपका अपना रोहित
    भदोही

    Reply
  • मनीष शर्मा says:

    बिल्कुल सच कहा जो बडे पत्रकार है वो मिनटो मे अपना चैनल मोनेटाईज करा लेते है आपके इस प्रस्ताव की जितनी तारिफ की जाये सब कम है

    Reply
  • विलोक पाठक NEWS INVESTIGATION says:

    सराहनीय प्रयास…..
    समय की मांग है कि भड़ास कुछ करे….अपनी मेहनत के बल पर दुसरो से आगे बढ़ने का सर्वश्रेष्ठ तरीका …
    यशवंत भाई आपको धन्यवाद ।

    ✍️ विलोक पाठक
    9300100048

    Reply
  • राजेन्द्र मिश्र says:

    इस पोस्ट का सादर स्वागत है।मै भी जुड़ने का प्रयास करता हूँ. शीघ्र वीडियो बना कर भेजता हूँ

    Reply
  • संतोष देव गिरि says:

    बड़े भाई यशवंत जी का सर्वोत्तम विचार, प्रयास है। इससे कई उन कलम कारों को आर्थिक मदद मिलेगी जो आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहे हैं प्रतिभा होते हुए भी वह पलायन को विवश हैं।

    Reply
  • Ravishankar says:

    Bahut Bahut Dhanyawad Sir Ji ..Aapne Marti Hui Patrakarita Or Chhini Ja Rahi Naukariyon Ke Beech Ummid Ki Ek Kiran Jagai Hai..Iske Liye Apka Bahut Bahut Abhar

    Reply
  • RJ SHALINI SINGH says:

    हम कहाँ फिट हो सकते हैं बताइयेगा । हमारे मुद्दे तो आपको पता हैं ही।

    Reply
  • विजय सिंह says:

    बेहतर प्रयास। जल्दी शुरुआत होगी। पूरा सहयोग रहेगा।
    शुभकामनाएं।

    Reply
  • K. K. Singh Sengar says:

    आपको भी नववर्ष की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।
    काफी सराहनीय प्रयास है।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code