छत्तीसगढ़ के जनसंपर्क आयुक्त ips दीपांशु काबरा क्यों हैं चर्चा में, देखें ये खबर

संजय कुमार सिंह-

छत्तीसगढ़ में चुनाव और भाजपा की सक्रियता… भाजपा ने छत्तीसगढ़ में ‘कांग्रेस समर्थक’ नौकरशाहों पर दबाव बढ़ाया – शीर्षक से द स्टेट्समैन में प्रकाशित अजयभान सिंह की खबर के अनुसार केवल एक साल दूर निर्णायक विधानसभा चुनावों के मद्देनजर राज्य में विपक्षी और केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ में नौकरशाहों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है। 

उनका मानना है कि, भगवा पार्टी की चुनावी संभावनाओं को नुकसान पहुंचाने और इसे सत्ता की बागडोर संभालने से रोकने के लिए नौकरशाहों ने सत्तारूढ़ कांग्रेस के साथ संबंध बना लिए हैं। आप जानते हैं कि यह एक आदिवासी बहुमत वाला इलाका है। किसी भी कीमत पर मुख्य रूप से आदिवासी राज्य।

सैकड़ों शीर्ष और दूसरे पायदान के भगवा नेताओं ने गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, महासचिव (संगठन) शिवप्रकाश, प्रभारी महासचिव डी पुरंदेश्वरी और क्षेत्रीय महासचिव (संगठन) अजय जामवाल को अपनी-अपनी याचिकाएं और राजनीतिक टिप्पणियां अलग-अलग सौंपी हैं। प्रांतीय प्रशासनिक और पुलिस सेवाओं के अधिकारियों के साथ कुछ हाई प्रोफाइल आईएएस, आईपीएस और आईएफएस अधिकारियों के कथित रूप से पक्षपातपूर्ण कामकाज का उल्लेख इस समय राजनीति की नजाकत है। ऐसी ही एक रिपोर्ट की कॉपी द स्टेट्समैन के पास है।

कुछ शीर्ष नौकरशाहों के प्रमुखों के लिए भाजपा नेता के बार-बार आह्वान की गूंज तब उठी जब पुरंदेश्वरी ने पत्रकारों को कथित रूप से धमकी देने के लिए 1997 बैच के एक आईपीएस अधिकारी, जनसंपर्क आयुक्त दीपांशु काबरा को खुले तौर पर फटकार लगाई।

आरोप है कि राज्य में विपक्ष की आवाज को दबाने के लिए सरकारी तंत्र का इस्तेमाल किया जा रहा है। पुरंदेश्वरी ने आरोप लगाया कि 24 अगस्त को रायपुर में भाजपा द्वारा बड़े पैमाने पर ‘हला-बोल’ प्रदर्शन करने से एक दिन पहले, भाजपा की शिकायतों के अनुसार प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), आय के कुछ उच्च पदस्थ अधिकारी टैक्स (आईटी) और इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) की भी राज्य सरकार के शक्तिशाली अधिकारियों और कुछ शराब और खनन टाइकून के साथ मिलीभगत है, जो लंबे समय से ईडी और आईटी रडार पर हैं।



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



One comment on “छत्तीसगढ़ के जनसंपर्क आयुक्त ips दीपांशु काबरा क्यों हैं चर्चा में, देखें ये खबर”

  • हा हा हा. पूरी तरह मनगढ़ंत और निराधार रिपोर्ट है यह. अगर आप यह कह रहे हैं कि आईपीएस दीपांशु काबरा कांग्रेस सरकार में मलाईदार पदों पर हैं क्योंकि वह प्रो.कांग्रेस हैं तो अपना ज्ञान दुरुस्त कर लीजिए। 20 साल की पत्रकारिता में मैंने देखा है कि बीजेपी वाली रमन सरकार में भी काबरा कई बड़े पदों पर रहे। वह ऐसे आईपीएस हैं जिनके नाम 4 सबसे बड़े जिलों का एसपी होने का रिकॉर्ड है। दीपांशु काबरा साफ-सुथरे, मिलनसार, बेदाग आईपीएस हैं। जनसंपर्क आयुक्त तो अब बने हैं लेकिन मीडिया से हमेशा उनके रिलेशन बने रहे। सबसे बड़ी बात यह कि इतने बड़े पदों पर रहते हुए कोई उन पर दाग तो छोड़ दीजिए, आरोप तक नहीं लगा। साफ और स्पष्ट बात है कि ब्यूरोक्रेटस सिर्फ जनता के लिए काम करते हैं। सरकार किसी की भी रहे, उनका डंडा सिर्फ लोकतंत्र के लिए चलता है। काबरा काबिल अफसर हैं, परिणाम देते हैं, सारी समस्याओं का सॉल्यूशन उनके पास है इसलिए वे कांग्रेस सरकार में भी इतने ही विश्वसनीय हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तो उन अफसरों को भी एक मौका दिया था जो रमन राज में पूरी तरह भाजपा के होकर रह गए थे इसलिए ऐसी झूठी खबरें सिर्फ अफसरों का मनोबल डाउन करती हैं। सबको अपने गिरेबान में झांककर देखना चाहिए क्योंकि जब आप किसी पर शक की उंगली घुमाते हैं, तो खुद आपकी चार उंगलियां आपकी तरफ उठी होती हैं।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *