Connect with us

Hi, what are you looking for?

टीवी

इंडिया टीवी का खर्चीला प्रोग्राम यानि मीडिया के भ्रष्टाचार पर कोई जुबान क्यों नहीं खोलता?

Mohammad Anas : INDIA TV पर जश्न का माहौल है। मौका है नाटकीय और पहले से तय सवाल जवाब वाले शो ‘आपकी अदालत’ के 21 साल पूरे होने के। हर क्षेत्र के दिग्गज मौजूद हैं। पूरे प्रोग्राम पर अमूमन कितना खर्च हो रहा है, यह मेहमानों की लिस्ट देख कर आप अंदाजा लगा सकते हैं। पैसे की बर्बादी पर क्या कोई चैनल टूटेगा या फिर आज़म की बग्घी और यादव सिंह की चटाई के नीचे छिपे नोट पर ही लोटपोट होना आता है? मीडिया के भ्रष्टाचार पर कोई ज़ुबान क्यों नहीं खोलता।

<p>Mohammad Anas : INDIA TV पर जश्न का माहौल है। मौका है नाटकीय और पहले से तय सवाल जवाब वाले शो 'आपकी अदालत' के 21 साल पूरे होने के। हर क्षेत्र के दिग्गज मौजूद हैं। पूरे प्रोग्राम पर अमूमन कितना खर्च हो रहा है, यह मेहमानों की लिस्ट देख कर आप अंदाजा लगा सकते हैं। पैसे की बर्बादी पर क्या कोई चैनल टूटेगा या फिर आज़म की बग्घी और यादव सिंह की चटाई के नीचे छिपे नोट पर ही लोटपोट होना आता है? मीडिया के भ्रष्टाचार पर कोई ज़ुबान क्यों नहीं खोलता।</p>

Mohammad Anas : INDIA TV पर जश्न का माहौल है। मौका है नाटकीय और पहले से तय सवाल जवाब वाले शो ‘आपकी अदालत’ के 21 साल पूरे होने के। हर क्षेत्र के दिग्गज मौजूद हैं। पूरे प्रोग्राम पर अमूमन कितना खर्च हो रहा है, यह मेहमानों की लिस्ट देख कर आप अंदाजा लगा सकते हैं। पैसे की बर्बादी पर क्या कोई चैनल टूटेगा या फिर आज़म की बग्घी और यादव सिंह की चटाई के नीचे छिपे नोट पर ही लोटपोट होना आता है? मीडिया के भ्रष्टाचार पर कोई ज़ुबान क्यों नहीं खोलता।

 

Advertisement. Scroll to continue reading.

युवा पत्रकार और सोशल एक्टिविस्ट मोहम्मद अनस के फेसबुक वॉल से. उपरोक्त स्टेटस पर आए कमेंट्स में से कुछ प्रमुख इस प्रकार हैं….

Amit Ranjan Chitranshi : भाई उन्हें जश्न मनाने दें, हम तो इस बात का जश्न मना रहे कि संस्कृति के रक्षक ‘जादों’ की संस्कृति जुबां तक आ गयी!!!

Advertisement. Scroll to continue reading.

Farhan Khan : अच्छे दिनों के घटिया होने का एक सबूत यह भी है कि लोगों की नज़र में हर मयार पर हद दर्जा गिरे हुए चेंनेल की अचानक पूछ होने लगी …

Vivek Mehra : पब्लिक इतना जान जाती तो यूपी के आज ये हाल ना होते

Advertisement. Scroll to continue reading.

माधो दास उदासीन : सियासत किस हुनरमंदी से सच्चाई छुपाती है… कि जैसे सिसकियों का ज़ख्म शहनाई छुपाती है।

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

0 Comments

  1. सच

    December 3, 2014 at 4:51 pm

    लगता है भडास पर दलालों का हुजूम उमड़ आया है । आज वो ही ज्ञान की बाते कर रहे है जो अपने गुरु से चोरी और मित्रों के साथ कपट करते नजर आए यशवंत भाई सोचा था भड़ास सच का मंच जो पत्रकारों की आवाज को सहीं समय पर सहीं जगह औरसहीं तरह पेश करेगा पर अब आप पर से विशवास उठ गया मेरा । असन का जरा इतिहास पता करें ।

  2. jitendra kumar

    December 4, 2014 at 2:14 pm

    PROGRAM MAHANGA HAI TO PROGRAM DEKHNE WALE BHI JYADA HAI , BADAS4MEDEA KI TARAH ASTITW HIN THORE HAI , INDIA TV SAHI MAYNE ME DESHBHAKT CHAINNAL HAI….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement